Advertisement
Home देश सामान्य गणतंत्र दिवस परेड में पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं करने से ममता खफा, PM मोदी को लिखा पत्र

गणतंत्र दिवस परेड में पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं करने से ममता खफा, PM मोदी को लिखा पत्र

आउटलुक टीम - JAN 16 , 2022
गणतंत्र दिवस परेड में पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं करने से ममता खफा, PM मोदी को लिखा पत्र
गणतंत्र दिवस परेड में पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं करने से ममता खफा, PM मोदी को लिखा पत्र
FILE PHOTO
आउटलुक टीम

आगामी गणतंत्र दिवस परेड से बंगाल की झांकी को बाहर करने का मुद्दा गरमा गया है।  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी प्रस्तावित झांकी को शामिल ना करने को लेकर खासी नाराज हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर परेड में पश्चिम बंगाल के स्वतंत्रता सेनानियों की झांकी को शामिल करने का अनुरोध किया। सीएम ने पत्र में लिखा, 'झांकी के थीम को स्वतंत्रता के लिए नेताजी सुभाष चंद्र बोस के बलिदान और उनकी 125वीं जयंती के मद्देनजर तैयार किया गया है।'

ममता बनर्जी ने लिखा, 'मैं हैरान और दुखी हूं कि भारत सरकार ने गणतंत्र दिवस के लिए पश्चिम बंगाल की प्रस्तावित झांकी को स्वीकृति देने से इनकार कर दिया है। हमारे लिए इस फैसले को स्वीकार करना इसलिए भी मुश्किल हो रहा है क्योंकि सरकार की तरफ से झांकी अस्वीकार किए जाने का कोई कारण नहीं बताया गया।'.

सीएम ममता ने कहा कि प्रस्तावित झांकी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष पर उनके और आजाद हिन्द फौज के योगदान की स्मृति में बनाई गई थी। बनर्जी ने पत्र में कहा, ‘मैं आपको सूचित करना चाहती हूं कि राज्य के लोग केंद्र सरकार के इस रवैये से बहुत आहत हैं। यह जानकर हैरानी होती है कि यहां के बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पर गणतंत्र दिवस समारोह में इस अवसर को मनाने के लिए कोई जगह नहीं मिली है।’

ममता ने पीएम मोदी को कहा, ‘मैं आपसे इस निर्णय पर पुनर्विचार करने और स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पर गणतंत्र दिवस परेड में बंगाल के स्वतंत्रता सेनानियों की झांकी को शामिल कराने का आग्रह करती हूं।’ बता दें कि ममता बनर्जी के अलावा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भी केंद्र सरकार से पश्चिम बंगाल की झांकी को परेड में शामिल करने का अनुरोध किया है। उन्होंने केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement