Home देश सामान्य उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने की सीबीआइ जांच की मांग, कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार

उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने की सीबीआइ जांच की मांग, कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार

आउटलुक टीम - DEC 08 , 2019
उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने की सीबीआइ जांच की मांग, कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार
उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार ने की सीबीआइ जांच की मांग, कड़ी सुरक्षा के बीच अंतिम संस्कार
आउटलुक टीम

उन्नाव की रेप पीड़िता के परिजनों ने पूरे मामले की जांच सीबीआइ से कराने की मांग की है। रेप पीड़िता की मौत शुक्रवार की रात को सफदरजंग अस्पताल में हो गई थी। उसे आरोपियों और उनके साथियों ने उस समय आग के हवाले कर दिया जब वह रेप केस के सिलसिले में कोर्ट जा रही थी। पीड़िता का अंतिम संस्कार आज दोपहर उसके गांव में कड़ी सुरक्षा के बीच कर दिया गया। पीड़िता का सफदरजंग अस्पताल में शनिवार को निधन हो गया था। पहले पीड़िता का परिवार सीएम योगी आदित्यनाथ को बुलाने की जिद कर रहा था लेकिन बाद परिजन आखिरकार मान गए।

सच जानने को सीबीआइ जांच जरूरी

पीड़िता के परिवार के एक सदस्य ने कहा कि पूरे मामले की सच्चाई सामने लाने के लिए सीबीआइ से जांच करवाने की आवश्यकता है। परिवार के एक अन्य सदस्य ने कहा कि वह इस केस की निष्पक्ष जांच के लिए जो भी आश्यक हो, करने को तैयार हैं। परिवार ने पीड़िता के साथ रेप और बाद में उसे आग के हवाले करने के आरोपियो को कड़ी सजा दिलाने की मांग की है।

गांव में किया गया अंतिम संस्कार

पीड़िता का अंतिम संस्कार उसके परिवार के मैदान में उसके दादा-दादी की मजार के पास किया गया। इस मौके पर बड़ी संख्या में स्थानीय नागरिक और अधिकारी मौजूद थे। गांववासियों ने मृत आत्मा को श्रद्धांजलि दी। उत्तर प्रदेश कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या और कमल रानी वरुण के अलावा समाजवादी पार्टी के नेता भी इस मौके पर मौजूद थे।

सरकार ने किए ये वादे

इससे पहले लखनऊ के मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के बातचीत के बाद परिवार पीड़िता के अंतिम संस्कार के लिए सहमत हुआ। मेश्राम ने संवाददाताओं को बताया कि परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाएगी और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पीड़िता की बहन को भी अलग से सुरक्षा दी जाएगी क्योंकि वह केस में गवाह बन सकती है। परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी। अगर परिवार का कोई सदस्य आत्म सुरक्षा के िलए हथियार के लाइसेंस की मांग करेगा तो लाइसेंस दिया जाएगा।

मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाने की घोषणा

इस मामले के तूल पकड़ने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने पीड़िता के परिवार के लिए 25 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान भी किया था। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पीड़िता के परिवार को घर देने की भी घोषणा की गई। सीएम योगी ने इस केस को फास्ट ट्रैक में ले जाने की बात कही है, जिससे कि मामले के दोषियों को जल्द और कड़ी सजा दिलाई जा सके।

'रेप कैपिटल' बन रहा है यूपी, योगी सरकार विफल: कांग्रेस

कांग्रेस ने उन्नाव की बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद शनिवार को राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार पर तीखा हमला बोला और आरोप लगाया कि अपराधियों को संरक्षण मिला हुआ है तथा राज्य 'दुनिया का 'रेप कैपिटल' बन रहा है। पार्टी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने संवाददाताओं से कहा, 'उन्नाव की बेटी के साथ जो हुआ वह साफ दर्शाता है कि उत्तर प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। इन्हें कहीं न कहीं राजनीतिक संरक्षण मिला हुआ है और यही वजह है ऐसी घटनाएं हो रही हैं।" उन्होंने कहा, 'मुख्यमंत्री कहते हैं कि उन्हें दुख और खेद है। उनके इस दुख और खेद में उनकी सरकार की नाकामी नजर आती है।' सुप्रिया ने राज्य की पुलिस पर भी पूरी तरह विफल रहने और साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से