Home देश सामान्य अर्थव्यवस्था को लेकर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को दिए 6 सुझाव, कहा- पहले संकट को पहचानें

अर्थव्यवस्था को लेकर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को दिए 6 सुझाव, कहा- पहले संकट को पहचानें

आउटलुक टीम - SEP 12 , 2019
अर्थव्यवस्था को लेकर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को दिए 6 सुझाव, कहा- पहले संकट को पहचानें
अर्थव्यवस्था को लेकर मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को दिए 6 सुझाव, कहा- पहले संकट को पहचानें
File Photo
आउटलुक टीम

ऐसे समय में जब आर्थिक मंदी को लेकर भाजपा सरकार पर कांग्रेस लगातार निशाना साध रही है, पूर्व प्रधानमंत्री और अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि सरकार को जीएसटी को सरल और तर्कसंगत बनाना चाहिए। कृषि को पुनर्जीवित करना चाहिए और सबसे अधिक यह स्वीकार करना चाहिए कि देश संकट का सामना कर रहा है। मनमोहन सिंह ने कहा कि भारत को इस मंदी से बाहर आने में कुछ साल लगेंगे बशर्ते सरकार अभी समझदारी से काम ले।

द हिंदू बिजनेसलाइन को दिए एक साक्षात्कार में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ने पहले ही बहुत समय बर्बाद कर दिया है। सिंह ने कहा, 'अब सरकार द्वारा संरचनात्मक सुधारों की अगली कड़ी को आगे बढ़ाने का समय आ गया है।‘

पूर्व पीएम ने मौजूदा आर्थिक संकट से निपटने के लिए भाजपा सरकार को कई उपाय सुझाए। इनमें 6 उपाय प्रमुख हैं-

संकट को स्वीकार करें

मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार को स्वीकार करना चाहिए कि आर्थिक मंदी है और इस मुद्दे को पारदर्शी तरीके से संबोधित करें और लोगों में विश्वास पैदा करें। उन्होंने कहा, ‘पीएम मोदी और सरकार को हेडलाइन मैनेजमेंट की अपनी आदत से बाहर आने की जरूरत है।‘

सरलीकृत और तर्कसंगत जीएसटी

सिंह ने कहा, ‘वर्तमान भाजपा सरकार को जीएसटी शासन को मौलिक रूप से सरल और तर्कसंगत बनाना होगा, भले ही इससे अल्पावधि में राजस्व की हानि हो।‘ उन्होंने कहा कि यह विमुद्रीकरण का दोष था, जिसके बाद जीएसटी का दोषपूर्ण कार्यान्वयन हुआ, जिसने मौजूदा मंदी को गति दी।

ग्रामीण उपभोगमें तेजी लाने की जरूरत

उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि सरकार को ग्रामीण खपत को कम करने और कृषि को पुनर्जीवित करने के लिए अभिनव तरीके खोजने होंगे। उन्होंने कहा, ‘हमारे 2019 के कांग्रेस के घोषणापत्र में इस संबंध में कुछ ठोस विकल्प दिए गए हैं, जिसमें लक्षित तबादलों के माध्यम से लोगों के हाथों में पैसा डालना और कृषि बाजारों को अस्थिर करना शामिल है।‘

क्रेडिट क्रिएशन में कमी

सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार को पूंजी निर्माण के लिए ऋण की कमी से निपटना चाहिए। उन्होंने कहा कि केवल सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का ही नहीं, बल्कि एनबीएफसी का भी बुरा हाल है।

उन्होंने कहा, ‘एनपीए संकटों से निपटने के लिए मोदी सरकार धीमी थी, जिसने अब एनबीएफसी क्षेत्र को भी पीड़ित कर दिया है। इसके परिणामस्वरूप बैंकों को ऋण देने में संकोच हो रहा है और उद्यमी ऋण लेने और निवेश करने के लिए अनिच्छुक हो रहे हैं। अब बैंक धोखाधड़ी में तेजी आई है।‘

रोजगार पैदा करने वाले सेक्टर पर ध्यान देने की जरूरत

कांग्रेस नेता ने कहा कि समय की मांग है कि टेक्सटाइल, ऑटो, इलेक्ट्रॉनिक्स और किफायती आवास जैसे रोजगार पैदा करने वाले सेक्टर्स को पुनर्जीवित किया जाए और विशेष रूप से एमएसएमई को ऋण देना प्राथमिकता होना चाहिए।

नए निर्यात बाजारों की पहचान करें

सिंह ने कहा, ‘भारत को संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्धों के परिणामस्वरूप खुलने वाले निर्यात बाजारों को पहचानने के तरीके खोजने होंगे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से