Home सिनेमा सामान्य डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने छोड़ा ट्विटर, बेटी और माता-पिता को मिल रही थीं धमकियां

डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने छोड़ा ट्विटर, बेटी और माता-पिता को मिल रही थीं धमकियां

आउटलुक टीम - AUG 11 , 2019
डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने छोड़ा ट्विटर, बेटी और माता-पिता को मिल रही थीं धमकियां
डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने छोड़ा ट्विटर, बेटी और माता-पिता को मिल रही थीं धमकियां
File Photo
आउटलुक टीम

सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहने वाले और सामाजिक मुद्दों पर बेबाकी से राय रखने वाले फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप ने ट्विटर को अलविदा कह दिया है। अनुराग कश्यप ने अपने माता-पिता और बेटी को मिल रही धमकियां को ट्विटर छोड़ने की वजह बताया है। अनुराग ने अपने ट्विटर छोड़ने का ऐलान भी ट्विटर के जरिए किया और अंत में दो ट्वीट भी किए।

गैंग्स ऑफ वासेपुर, देव डी, मनमर्जियां जैसी फिल्मों के डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने ये दो ट्वीट करने के बाद अपना अकाउंट डिलीट कर दिया। अपने आखिरी ट्वीट में अनुराग कश्यप ने लिखा था, 'जब आपके माता-पिता को फोन आने लग जाएं और आपकी बेटी को ऑनलाइन धमकियां मिलने लगे तो फिर कोई भी बात नहीं करना चाहेगा। कोई वजह या कोई भी तर्क नहीं बचेंगे। दबंगों का राज होगा और दबंगई जीने का नया तरीका। सबको नया भारत मुबारक हो और आप इसमें रह सकें।'

यूजर्स ने दी प्रतिक्रिया

अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'आपको खुशियां और तरक्की मिले। ये मेरा आखिरी ट्वीट होगा क्योंकि मैं ट्विटर छोड़ रहा हूं। जब मैं बिना डर के बोल नहीं सकता तो मैं बोलूंगा ही नहीं। गुड बाय।' अनुराग कश्यप के ट्विटर छोड़ने को लेकर कई हस्तियों ने इस पर प्रतिक्रिया भी दी है। यूजर्स का भी कहना है यह देश के लिए गलत है कि कोई आजादी से अपनी बात सार्वजनिक रूप से नहीं बोल पा रहा है।

आर्टिकल 370 हटाने का किया था विरोध

हाल ही में उन्होंने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के भारत सरकार के फैसले पर भी प्रतिक्रिया दी थी। उन्होंने इस फैसले का विरोध किया था और कहा था कि उन्हें फैसला लिए जाने के तरीके से डर लग रहा है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, 'आपको पता है डराने वाली बात क्या है? एक आदमी को लगता है कि वह जानता है कि 120 करोड़ लोगों के लिए क्या सही है। उसके पास इसे अमल करने की ताकत भी है।'

उन्होंने लिखा, 'Article 370 या 35A के बारे में में ज्यादा नहीं कह सकता। इसका implication, history या facts मैं अभी भी समझा नहीं हूं। कभी लगता है जाना चाहिए था। कभी लगता है क्यों गया। ना मैं कश्मीरी मुसलमान हूं ना कश्मीरी पंडित। मेरा कश्मीरी दोस्त कहता है कश्मीर की कहानी Roshomon की तरह है। वहीं कई बार उन्हें ट्रोलर्स ने भी निशाना बनाया था।‘

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से