Home सिनेमा सामान्य 'बुलंदशहर हिंसा' पर बोले नसीरुद्दीन शाह, आज गाय की जान की कीमत इंसान की कीमत से ज्‍यादा है'

'बुलंदशहर हिंसा' पर बोले नसीरुद्दीन शाह, आज गाय की जान की कीमत इंसान की कीमत से ज्‍यादा है'

आउटलुक टीम - DEC 20 , 2018
'बुलंदशहर हिंसा' पर बोले नसीरुद्दीन शाह, आज गाय की जान की कीमत इंसान की कीमत से ज्‍यादा है'
'बुलंदशहर हिंसा' पर बोले नसीरुद्दीन शाह, आज गाय की जान की कीमत इंसान की कीमत से ज्‍यादा है'
File Photo

उत्‍तर प्रदेश के बुलंदशहर में कथित गोकशी को लेकर हुए बवाल में पुलिस इंस्‍पेक्‍टर सहित एक युवक की मौत हो गई थी। यह मामला काफी चर्चा में रहा था। अब इस मामले पर बॉलीवुड के दिग्‍गज अभिनेता नसीरूद्दीन शाह ने एक इंटरव्यू में देश के बदलते माहौल और बढ़ती हिंसा को लेकर चिंता जताई है।  

'कारवां-ए-मोहब्बत' यूट्यूब पेज पर जारी वीडियो में नसीरुद्दीन ने भारत में वर्तमान माहौल पर सवाल उठाया है। इस वीडियो में शाह कह रहे हैं, 'लोगों को कानून हाथ में लेने की खुली छूट दी गई है। कई इलाकों में हम देख रहे हैं कि एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा एक गाय की मौत को अहमियत दी जा रही है। मुझे अपने औलादों के बारे में सोचकर फिक्र होती है क्योंकि मैंने अपने बच्चों को मजहब की तालीम बिल्कुल नहीं दी है। हमने उन्हें अच्छाई और बुराई के बारे में सिखाया है और मेरा मानना है कि अच्छाई और बुराई का मजहब से कोई लेना-देना नहीं है।'

अपने बच्चों के लिए लगता है डर

17 दिसंबर को पोस्ट किए गए इस वीडियो में नसीरुद्दीन आगे कहते हैं, 'कल मेरे बच्चों को भीड़ ने घेर लिया और उनसे पूछा कि तुम हिन्दू हो या मुस्लिम तो उनके पास कोई जवाब नहीं होगा। मुझे इस बात की फिक्र होती है कि मुझे हालात जल्दी सुधरते तो नजर नहीं आ रहे हैं।'

यह हमारा घर है और हमें कौन निकाल सकता है यहां से

2 मिनट 10 सेकंड के इस वीडियो में नसीरुद्दीन ने कहा कि इन बातों से मुझे डर नहीं लगता बल्कि गुस्सा आता है और सही सोच रखने वाले हर इंसान को गुस्सा आना चाहिए न कि डरना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह हमारा घर है और हमें कौन निकाल सकता है यहां से।

बच्चों को नहीं दी मजहबी तालीम

नसीरुद्दीन शाह ने अपने बच्चों को लेकर भी चिंता जाहिर की- मुझे अपने बच्चों के लिए बेहद डर लगता है कि अगर कही मेरे बच्चों को भीड़ ने घेर लिया और उनसे पूछा जाए कि तुम हिंदू हो या मुसलमान? मेरे बच्चों के पास इसका कोई जवाब नहीं होगा। क्योंकि हमने अपने बच्चों को मजहबी तालीम नहीं दी है। क्योंकि अच्छाई और बुराई का मजहब से कोई मलतब नहीं है।

पिछले दिनों विराट को लेकर शाह ने की थी टिप्पणी

हाल ही में नसीरुद्दीन शाह ने भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के बारे में अपने फेसबुक पेज पर एक विवादित टिप्पणी की थी, जिसके बाद विराट के प्रशंसकों ने उन्हें काफी ट्रोल किया था। नसीर ने लिखा था, 'विराट दुनिया के सबसे बेहतरीन बल्लेबाज होने के साथ ही सबसे खराब व्यवहार वाले खिलाड़ी भी हैं। उनकी क्रिकेटिंग क्षमता उनके अहंकार और बुरे व्यवहार के आगे फीकी पड़ जाती है। वैसे, मेरा इरादा देश छोड़ने का नहीं है।'

3 दिसंबर को हुई बुलंदशहर हिंसा

इसी महीने 3 दिसंबर को बुलंदशहर के स्‍याना में जबरदस्‍त हिंसा हुई थी जिसमें पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गई थी। आरोप है कि उनकी मौत हिंसा में शामिल लोगों की गोली से हुई है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है और कई लोगों को इस मामले में अरेस्‍ट किया जा चुका है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से