Home सिनेमा सामान्य कड़वी 'हकीकत', मसाला और मेलोड्रामा के सामने वॉर मूवीज़ का 'शेरशाह' नहीं बॉलीवुड

कड़वी 'हकीकत', मसाला और मेलोड्रामा के सामने वॉर मूवीज़ का 'शेरशाह' नहीं बॉलीवुड

गिरिधर झा - JUL 26 , 2021
कड़वी 'हकीकत', मसाला और मेलोड्रामा के सामने वॉर मूवीज़ का 'शेरशाह' नहीं बॉलीवुड
मसाला, मेलोड्रामा
FILE PHOTO
गिरिधर झा

मसाला, मेलोड्रामा और अन्य सभी पारिवारिक अभिनेताओं के प्रति अदम्य जुनून के कारण वॉर मूवीज़ बॉलीवुड फिल्म निर्माताओं का सबसे कमजोर बिंदु साबित हुआ है। इसके बावजूद वे हार मानने को तैयार नहीं हैं।

चूंकि इस शैली में रचनात्मकता और व्यावसायिक लाभ दोनों के मामले में अथाह संभावनाएं हैं, हाल के इतिहास में लगातार युद्धों पर आधारित कई फिल्में- 1962 के भारत-चीन युद्ध से लेकर 1999 के कारगिल युद्ध जैसी फिल्मों पर कई वर्षों से कम काम किया गया है, लेकिन चेतन आनंद की हकीकत (1964) यकीनन हिंदी फिल्म उद्योग द्वारा बनाई गई अब तक की सर्वश्रेष्ठ वॉर मूवी बनी हुई है।

1971 के युद्ध के दौरान लोंगेवाला की लड़ाई पर आधारित जेपी दत्ता की बॉर्डर (1997), और आदित्य धर की उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक (2019), जो 2016 में पाकिस्तान में आतंकी शिविरों पर भारत की सर्जिकल स्ट्राइक पर आधारित फिल्म है, जो ब्लॉकबस्टर साबित हुईं। लेकिन, भारत-चीन युद्ध पर आनंद की ब्लैक एंड व्हाइट क्लासिक ‘हकीकत’ को ईस्टमैनकलर सदी में बनी किसी भी वॉर मूवीज़ की तुलना में कहीं अधिक यथार्थवादी माना गया है।

हालांकि, आनंद अपनी सफलता को दोहरा नहीं सके, जब उन्होंने भारत-पाकिस्तान युद्ध पर एक और फिल्म, हिंदुस्तान की कसम (1973) को लेकर कोशिश की, जिसमें शोले (1975) के गब्बर सिंह के रूप में प्रसिद्ध होने से बहुत पहले अमजद खान ने एक छोटी सी भूमिका से शुरुआत की थी।

आनंद ने 1980 के दशक के अंत में दूरदर्शन के लिए एक टीवी धारावाहिक, परम वीर चक्र भी बनाया, जिसमें लगातार युद्धों में देश के सर्वोच्च सैन्य सम्मान प्राप्त करने वालों की अनुकरणीय वीरता को दिखाया गया। फिर भी, केवल कुछ ही वॉर मूवीज़ दर्शकों के साथ तालमेल बिठा पाई, जिसमें जेपी दत्ता की ‘बॉर्डर’ बड़ी हिट फिल्म बन गई, लेकिन वो अपनी अगली दो वॉर मूवीज़, एलओसी: कारगिल (2003) में कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना के 'ऑपरेशन विजय' और ‘पलटन’ (2018), जो कि 1967 में सिक्किम सीमा पर चीनी सेना के साथ नाथू ला और चो ला के युद्ध पर आधारित थी, के जरिए अपना जादू दिखाने में विफल रहें।हाल के दिनों में, ‘उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक’ की सफलता ने वॉर मूवीज़ को बॉलीवुड में सबसे सर्वश्रेष्ठ ट्रेंड में से एक बना दिया है, लेकिन इनमें ज्यादातर युद्ध नायकों की बायोपिक्स हैं। 12 अगस्त को, अमेज़न प्राइम वीडियो का शेरशाह, ओटीटी प्लेटफॉर्म पर परमवीर चक्र से सम्मानित कारगिल युद्ध के नायक कैप्टन विक्रम बत्रा पर एक बायोपिक स्ट्रीम करने के लिए तैयार है।

करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शंस द्वारा निर्मित, ‘शेरशाह’ में सिद्धार्थ मल्होत्रा मुख्य भूमिका में हैं। करण ने इससे पहले दो अन्य वॉर मूवीज़- गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल (2020) और द गाजी अटैक (2017) बनाए हैं।
शेरशाह जुलाई 2020 में रिलीज़ होने वाली थी, लेकिन कोरोना वायरस महामारी ने निर्माताओं को इसे स्थगित करने के लिए मजबूर कर दिया। संयोग से, अजय देवगन की भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया भी 13 अगस्त को डिज्नी-हॉटस्टार प्लस पर रिलीज होने वाली है। जाहिर तौर पर स्वतंत्रता दिवस हफ्ते के दौरान देशभक्ति के व्यापक नजरिए को भुनाने की ये कोशिश है। कहा जा रहा है कि अजय देवगन फिल्म में 1971 के भारत-पाक युद्ध के भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के पायलट स्क्वाड्रन लीडर विजय कार्णिक की भूमिका में नजर आएंगे।

यह देखना दिलचस्प होगा कि ये दोनों फिल्में ओटीटी प्लेटफॉर्म पर कैसा प्रदर्शन करती हैं, जहां पिछले कुछ महीनों में कई बड़े स्टार्स की फिल्मों को अच्छी सफलता नहीं मिली है। किसी भी मामले में, चर्चित दृश्यों के साथ बड़े स्तर पर बनाई गई वॉर मूवीज़ व्यापक रूप से बड़े पर्दे के लिए एक आदर्श कंटेंट मानी जाती हैं। लेकिन देश भर में मल्टीप्लेक्स को फिर से खोलने पर लंबे समय तक अनिश्चितता के कारण दोनों फिल्मों को पर्दे पर रिलीज करने का विचार बदलना पड़ा है।

अगले कुछ महीनों में, कई युद्ध आधारित बायोपिक्स छोटे और बड़े दोनों स्क्रीन पर हिट होने के लिए तैयार हैं। विक्की कौशल, जिन्होंने उरी के साथ 'हाउ इज द जोश' को एक लोकप्रिय नारा बनाया; सर्जिकल स्ट्राइक मेघना गुलजार की फिल्म में बांग्लादेश युद्ध के नायक फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ की भूमिका निभा रहे हैं। जबकि श्रीराम राघवन की फिल्म में वरुण धवन 1971 के युद्ध नायक अरुण खेत्रपाल, जो सबसे कम उम्र में परम वीर चक्र के प्राप्तकर्ता हैं, की भूमिका निभाएंगे। अभिनेत्री कंगना रनाउत भी आगामी तेजस में वायु सेना के पायलट के किरदार में नजर आएंगी। 

वॉर मूवीज़ के साथ बॉलीवुड की मुख्य समस्या ये है कि इसके पटकथा लेखक व्यावसायिक संभावनाओं को बढ़ावा देने की उम्मीद में वास्तविक घटनाओं को अपनाते हुए बहुत अधिक सिनेमाई स्वतंत्रता ले लेते हैं, जो हमेशा तथ्यों के साथ छेड़छाड़ कर देता हैं। पिछले साल, भारतीय वायु सेना ने अभिनेत्री जाह्नवी कपूर द्वारा निभाए गए किरदार गुंजन सक्सेना फिल्म के कुछ दृश्यों पर आपत्ति जताई थी और काफी सवाल उठे।

बॉलीवुड को यह याद रखना अच्छा होगा कि विक्रम बत्रा जैसा युद्ध नायक एक उपयुक्त बायोपिक का हकदार है। यह पूरी तरह से एक अलग मामला है जिसने अति नाटकीयता के लिए अपनी प्रवृत्ति को देखते हुए शेरशाह और भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया जैसी फिल्मों की उम्मीद करना, हमारे समय की हकीकत बनने के लिए या उस मामले के लिए बहुत उम्मीद भरा होगा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से