Home » सिनेमा » सामान्य » इरफान की बीमारी पर पत्नी ने तोड़ी चुुप्पी, बोलीं- उनकी जिंदगी की लड़ाई मुझे हर हाल में जीतनी है

इरफान की बीमारी पर पत्नी ने तोड़ी चुुप्पी, बोलीं- उनकी जिंदगी की लड़ाई मुझे हर हाल में जीतनी है

MAR 10 , 2018

हाल ही में बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान की बीमारी की खबर सामने आने के बाद उनके प्रशंसक सदमे में हैं। सोशल मीडिया पर उनकी बीमारी को लेकर कई तरह की अफवाहें चल रही हैं। इन अफवाहों के बीच अब इरफान की पत्नी सुतापा सिकदर ने इस मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ दी है।

पत्नी सुतापा सिकदर ने अपने एक फेसबुक पोस्‍ट के माध्‍यम से कहा, ‘ये जानने के लिए अपना कीमती समय बर्बाद ना करें कि उन्हें क्या हुआ है? बल्कि प्रार्थना करें’। सुतापा सिकदर ने लिखा, 'मेरे पति और मेरा सबसे अच्छा दोस्त एक योद्धा है। इरफान बड़ी शिद्दत और जबरदस्त तरीके से हर कठिनाई से लड़ रहे हैं। मैं सभी लोगों के संदेशों के जवाब ना दे पाने लिए माफी मांगती हूं, लेकिन मैं दुनिया भर से इरफान के लिए आई दुआओं, चिंताओं और शुभकामनाओं के लिए हमेशा आभारी रहूंगी।

उन्होंने कहा, ‘मेरा सबसे अच्छा दोस्त और मेरा साथी एक 'योद्धा' है, वह जबरदस्त अंदाज और सुंदरता के साथ हर तरह की मुश्किल से लड़ रहा है। मैसेज का जवाब नहीं देने और कॉल्स नहीं ले पाने के लिए मैं माफी मांगती हूं। लेकिन मैं आप सभी की दुनिया भर से आ रही प्रार्थनाओं, चिंताओं और शुभकामनाओं के लिए हमेशा ऋणी हूं’।

उन्होंने आगे कहा, ‘मैं भगवान और मेरे साथ मौजूद लोगों की आभारी हूं जिसने मुझे भी एक वॉरियर (योद्धा) की तरह बना दिया है। मौजूदा हाल की बात करूं तो मैं एक ऐसे युद्ध के मैदान में खड़ी हूं जहां मैं इस जंग को जीतने के लिए स्ट्रेटजी पर फोकस कर रही हूं। मैं जानती हूं इरफान के प्रशंसक और दोस्तों के स्नेह की बदौलत मैं इस जंग को जीत ही लूंगी’।

गौरतलब है कि 5 मार्च को इरफान ने एक ट्वीट कर अपनी बीमारी के बारे में बताया था। उन्होंने लिखा था, कभी-कभी आप जागते हैं और पाते हैं कि आपकी जिंदगी पूरी तरह से हिल चुकी है। बीते 15 दिन में मेरी जिंदगी सस्पेंस स्टोरी बन गई है।
उन्होंने कहा, मुझे इसके बारे में अंदाजा भी नहीं था कि दुर्लभ कहानियों की तलाश करते-करते मुझे एक दुर्लभ बीमारी मिल जाएगी। हालांकि मैंने कभी आशा का दामन नहीं छोड़ा और हमेशा अपने पसंद के लिए लड़ाई लड़ी और हमेशा लड़ूंगा। मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे साथ हैं और हम सब फिलहाल इस बीमारी से निकलने के अच्छे रास्ते तलाश रहे हैं। इस कोशिश के दौरान कृपया अटकलें न लगाएं क्योंकि एक सप्ताह-दस दिन के भीतर मैं खुद ही आपके साथ अपनी कहानी साझा करूंगा। तब तक मेरे लिए अच्छे की कामना करें।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.