Home सिनेमा बॉलीवुड अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह क्या अब बॉलीवुड में लाएंगे खुशियां?

अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह क्या अब बॉलीवुड में लाएंगे खुशियां?

गिरिधर झा - JAN 28 , 2021
अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह क्या अब बॉलीवुड में लाएंगे खुशियां?
अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह क्या अब बॉलीवुड में लाएंगे खुशियां?
गिरिधर झा

कोरोना के मामले कम होने के कारण केंद्र सरकार ने अब कोरोना की नई गाइलाइन जारी कर दी है। जिसके तहत अब मल्टीप्लेक्स और सिंगल स्क्रीन सिनेमा हॉल एक फरवरी से ज्यादा क्षमता के साथ खुल पाएंगे। क्या अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह इस अवसर का फायदा उठाएंगे। क्या यह मौका उन्हें फिल्म उद्योग के दिग्गजों को वापस लौटने में मदद करेगा?

हिंदी सिनेमा के कम से कम दो ब्लॉकबस्टर मूवी सूर्यवंशी और 83,  दस महीने से अधिक समय से सामान्य स्थिति होने के इंतजार में है। निर्देशक रोहित शेट्टी की सूर्यवंशी पिछले साल 24 मार्च को धूमधाम से रिलीज होने वाली थी, लेकिन मार्च के मध्य के बीच में ही सिनेमा हॉल लॉकडाउन की वजह से अचानक बंद हो गए। जिसकी वजह से रिलीज को रोकना पड़ा। भले ही पिछले साल 50 प्रतिशत क्षमता के साथ थिएटरों को खोला गया, लेकिन फिल्म प्रोड्यूसर्स ने इंतजार करना ही सही समझा।

सूर्यवंशी में प्रभावशाली नायक अक्षय कुमार, अजय देवगन, रणवीर सिंह और कैटरीना कैफ की स्टारकॉस्ट से बड़ी कमाई करने की उम्मीद थी, लेकिन इसके निर्माता अब इसे जारी करने से कतरा रहे हैं क्योकि मौजूदा स्थिति में इसकी लागत वसूलना काफी मुश्किल लग रहा है।

यही हाल 83 के साथ भी है। जिसमें कपिल देव के नेतृत्व में भारत क्रिकेट टीम ने विश्व कप में पहली जीत दर्ज करने की कहानी है। फिल्म के निर्देशक कबीर खान हैं। रणवीर सिंह इस फिल्म में तत्कालीन कप्तान कपिल देव की भूमिका निभा रहे है। जिसने 25 जून,1983 को लॉर्ड्स में फाइनल में अपने पराक्रम से इ्ग्लैंड को हराने के लिए नेतृत्व किया था। निर्माताओं ने मूलरूप से 10 अप्रैल 2020 को इसे रिलीज करने की योजना बनाई थी, लेकिन कोरोना वायरस ने उनकी इन उम्मीदों पर पानी फेर दिया। तब से खास कर के क्रिकेट प्रेमी इस फिल्म को देखने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। उम्मीद है कि सूर्यवंशी और 83 चालू वित्त वर्ष के अंतिम महीनों में यह पर्दे पर नजर आएगी। इससे पहले इन दोनों फिल्मों को ओटीटी प्लेटफार्म पर लाने की संभावनाएं व्यक्त की जा रही थी, लेकिन कबीर खान ने स्पष्ट किया कि 83 बड़ी स्क्रीन पर ही नजर आएगी.

पिछले कुछ महीनों में जब सिनेमा-हॉल को केवल 50 प्रतिशत क्षमता के साथ संचालन फिर से शुरू करने की अनुमति दी गई थी। कोई भी फिल्म निर्माता बड़ी बजट की फिल्म रिलीज करने के लिए आगे नहीं आया। तब छोटे बजट की फिल्में जैसे सूरज पे मंगल भारी और राम प्रसाद की तेहरवी रिलीज की गई । कहने की जरूरत नहीं, लेकिन इसकी वजह से दर्शकों की संख्या कम ही रही।

व्यापार विशेषज्ञों का मानना है कि कोविड-19 के डर ने निरंतर सिनेमा जाने वालों को डरा दिया। इस डर ने उन्हें सिनेमाघरों से दूर रखा। यह भी सच है कि किसी भी बड़ी व्यावसायिक फिल्म ने इस अवधि में फिल्म रिलीज नहीं की। सूर्यवंशी जैसी फिल्म या उस मामले के लिए, 83 को रिलीज किया जाता तो हो सकता है कि वह दर्शकों को अपनी स्टार कास्ट के बाद बड़े पैमाने पर प्रशंसक के लिए आकर्षित कर पातीं।

सिनेमा-हॉल के मालिकों ने सलमान खान को इस साल की शुरुआत में अपनी अगली फिल्म राधे को रिलीज करने की अपील की थी। खान घोषणा कर चुके हैं कि राधे अगली ईद पर सिनेमाघरों में रिलीज होगी। उसी दिन  जॉन अब्राहम की सत्यमेव जयते टू भी स्क्रीन हिट करने के लिए तैयार है।

लेकिन ईद अभी कुछ महीने दूर है। फिल्म उद्योग को बड़े सितारों की जरूरत है। जिससे वह अपनी फिल्मों को तुरंत रिलीज कर सकें ताकि दर्शकों को बड़े पैमाने पर सिनेमाघरों में वापस लाया जा सके। दक्षिण भारत में कुछ क्षेत्रीय फिल्मों की रिलीज के दौरान सिनेमाघरों में भारी भीड़ देखी गई, जबकि पिछले कुछ हफ्तों ही पहले कुछ प्रतिबंध लागू किए गए थे, इससे यह साबित होता है कि दर्शकों ने बड़े पर्दे पर फिल्मों का मजा लेना शुरू कर दिया है।

बॉलीवुड को जल्द से जल्द, अपने को इस संकट से निकालने के लिए कुछ बड़ी फिल्मों की जरूरत है। वह सूर्यवंशी और 83 जैसी फिल्मों की रिलीज़ को रोक कर और वेट-एंड-वॉच मोड में रहने का जोखिम नहीं ले सकता है। जब बिहार चुनावों में मतदान के दौरान, हवाई अड्डों, बाजारों और बाकी सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ उमड़ सकती है तो वह सिनेमाघरों में क्यों नहीं पहुंचेगी।, कोई कारण नहीं है कि अक्षय कुमार, अजय देवगन और रणवीर सिंह जैसे स्टार दर्शकों को सिनेमाघरों सफल नहीं होगे।