Home » सिनेमा » बॉलीवुड » पाकिस्तान के पेशावर से चुनाव लड़ेंगी शाहरुख खान की चचेरी बहन नूर जहां

पाकिस्तान के पेशावर से चुनाव लड़ेंगी शाहरुख खान की चचेरी बहन नूर जहां

JUN 08 , 2018

बॉलीवुड के किंग शाहरुख खान की चचेरी बहन नूर जहां पाकिस्तान के आगामी आम चुनावों में पेशावर से चुनाव लड़ने जा रही हैं। नूर जहां खैबर पख्तूनख्वा असेंबली से बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरेंगी।

पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव के लिए मतदान होने हैं। पाकिस्तानी अखबार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, नूर अपने परिवार के साथ शाह वाली कताल क्षेत्र में रहती हैं। यह इलाका किस्सा ख्वानी बाजार से सटा हुआ है।

रिपोर्ट के मुताबिक, नूर जहां महिला सशक्तीकरण के लिए काम करना चाहती हैं। वह अपने चुनावी क्षेत्र की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहती हैं। नूर जहां जिस सीट से लड़ रही हैं उस पर पिछले चुनाव में पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के शौकत युसूफजई जीत दर्ज कर चुके हैं। पिछले सप्ताह 28 मई को विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो जाने के कारण यह सीट खाली हो गई है।

भाई शाहरुख खान से मिलने दो बार भारत आ चुकी हैं बहन नूर

नूर भारत में शाहरुख खान से मिलने दो बार आ चुकी हैं। दोनों परिवारों के बीच काफी अच्छे रिश्ते बताए जाते हैं। नूर के भाई ने बताया कि उनके परिवार के साथ राजनीतिक विरासत जुड़ी हुई है। उनकी बहन इससे पहले अवामी नेशनल पार्टी से महिला सीट पर भी चुनाव लड़ चुकी हैं।

शाहरुख खान की तरह उन्हें भी लोग समर्थन देंगे: नूर जहां

पेशावर से चुनाव लड़ने जा रहीं नूर जहां ने जियो न्यूज से बात करते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जितना समर्थन शाहरुख खान को मिलता है, उन्हें भी लोग उसी तरह समर्थन देंगे।

नूरजहां के भाई मंसूर जो कि कैंपेन का नेतृत्व कर रहे हैं, का कहना है कि उनका परिवार खुदाई खिदमतगार आंदोलन का हिस्सा रहा है जिसे खान अब्दुल गफ्फार खां ने चलाया था। उन्होंने यह भी बताया कि उनकी बहन नूरजहां काउंसलर रह चुकी हैं। वह पिछले कुछ वर्षों से राजनीति में सक्रिय हैं। हालांकि वह आवामी नेशनल पार्टी से ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने उम्मीद जताई है, जिस तरह से लोग शाहरुख खान का समर्थन करते हैं, उसी तरह से वे मुझे भी समर्थन देंगे।

 भारत-पाक विभाजन के दौरान शाहरुख के पिता दिल्ली आ गए थे

साल 1947 में भारत-पाक विभाजन के दौरान शाहरुख के पिता मीर ताज मोहम्मद दिल्ली आ गए थे लेकिन चाचा गुलाम मोहम्मद ने पाकिस्तान में ही रहने का फैसला किया।

1978 में पहली बार पिता के साथ पेशावर गए थे शाहरुख

गुलाम मोहम्मद के दो बेटे (मंसूर खान और मकसूद खान) और एक बेटी (नूर) हैं। 1978 में शाहरुख पहली बार अपने पिता के साथ पेशावर पहुंचे थे। वहीं, नूर 1997 में पहली बार मुंबई आई थीं।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.