Home सिनेमा बॉलीवुड एक मुस्लिम लड़के की कहानी ‘गली बॉय’, जो कहता है अपना टाइम आएगा

एक मुस्लिम लड़के की कहानी ‘गली बॉय’, जो कहता है अपना टाइम आएगा

आउटलुक टीम - JAN 09 , 2019
एक मुस्लिम लड़के की कहानी ‘गली बॉय’, जो कहता है अपना टाइम आएगा
मुंबई की झुग्गियों में पलने वाले सपनों की कहानी है ‘गली बॉय’
YouTube

रणवीर सिंह की नई फिल्म ‘गली बॉय’ का ट्रेलर लॉन्च हो गया है। यह एक ऐसे मुस्लिम लड़के की कहानी है जो रैपर बनना चाहता है। रैपिंग आज भी भारत में बहुत ज्यादा पॉपुलर नहीं है। पंजाबी गायकों में रैप करने वालों की एक जमात है लेकिन उनमें ज्यादातर महंगी गाड़ियों, शराब, लड़कियों को ऑब्जेक्ट बनाने वाले लिरिक्स होते हैं। जबकि पश्चिम में होने वाले कई रैप कविता जैसे होते हैं। उनमें इंकलाब, दर्शन, सामाजिक मुद्दे जैसे थीम भी आते हैं। इसीलिए फिल्म में एक लाइन आती है, ‘’असली हिप-हॉप से मिलाएं हिंदुस्तान को।’’

अपना टाइम आएगा

फिल्म की कहानी के मुताबिक, एक रूढ़िवादी परिवार में लड़का पिता की उम्मीदों के उलट रैपर बनना चाहता है। लड़के का कहना है, ‘अपना टाइम आएगा।’ यह फिल्म की टैगलाइन भी है। यह उस लड़के के सपनों की कहानी है। गली बॉय मुंबई की झुग्गियों से निकले डिवाइन और नेजी नाम के रैपर्स की जिंदगी पर आधारित बताई जा रही है। 

डिवाइन और नेजी

डिवाइन का असली नाम विवान फर्नांडीज है। वह भी मुंबई का चॉल मे पला-बढ़ा है और उसके पिता दुबई में नौकरी करते थे। उसकी दादी ने उसे पाला। कॉलेज में आने के बाद डिवाइन नशे की गिरफ्त में आ गया था। इससे निकलने के लिए उसने रैप का सहारा लिया। डिवाइन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि हिप हॉप एक ऐसा जरिया है जो हमारे देश में क्रांति ला सकता है। ज्यादातर लोग सोचते हैं कि रैप सिर्फ शराब, नशे और स्वैग के आस-पास घूमता है, जबकि हिप हॉप में लोगों की सोच बदलने की ताकत है।

वहीं, नेजी का असली नाम नावेद शेख है। नेजी भी मुंबई की झुग्गियों से निकले हैं। 13-14 साल की उम्र में उसने रैप शुरू किया। पहले फिल्मी गाने लिखता था। बाद में रैप में उसकी रुचि बढ़ी। नेजी का रैप ‘आफत’ काफी हिट हुआ था। नेजी अनुराग कश्यप की फिल्म मुक्काबाज में ‘पैंतरा’ नाम का रैप कर चुके हैं।

14 फरवरी को रिलीज होगी फिल्म

रणवीर सिंह के अलावा फिल्म में आलिया भट्ट हैं। रणवीर सिंह के पिता का रोल विजय राज कर रहे हैं। उनकी मां बनी हैं अमृता सुभाष। फिल्म में कल्कि केकलां, विजय वर्मा (मॉनसून शूटआउट, पिंक) और सिद्धांत चतुर्वेदी (इनसाइड एज) के भी किरदार हैं।

फिल्म को जोया अख्तर ने डायरेक्ट किया है। उन्होंने ‘दिल धड़कने दो’ (2015), ‘जिंदगी न मिलेगी दोबारा’ (2011), ‘लक बाय चांस’ (2009) जैसी फिल्में बनाई हैं। यह फिल्म वैलेंटाइंस डे यानी 14 फरवरी को रिलीज होगी।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से