Home सिनेमा बॉलीवुड पाइरेसी से लड़ने के लिए बॉलीवुड ले रहा एथिकल हैकर्स का सहारा

पाइरेसी से लड़ने के लिए बॉलीवुड ले रहा एथिकल हैकर्स का सहारा

आउटलुक टीम - FEB 18 , 2019
पाइरेसी से लड़ने के लिए बॉलीवुड ले रहा एथिकल हैकर्स का सहारा
पाइरेसी से लड़ने के लिए बॉलीवुड ले रहा तकनीकी फर्मों की मदद
Symbolic Image
आउटलुक टीम

बॉलीवुड बहुत पहले से पाइरेसी का शिकार रहा है। विभिन्न वेबसाइटों पर रिकॉर्ड किए गए संस्करणों के अवैध वितरण के कारण फिल्मों को बहुत नुकसान हुआ। समस्या से तंग आकर, बी-टाउन ने इसका मुकाबला करने के लिए साइबर हिटमैन को काम पर रखते हुए मामलों को अपने हाथ में लेने का फैसला किया।

पाइरेसी से लड़ने वाली तकनीकी फर्म एलांस ग्लोबल सॉल्यूशंस के संस्थापक, मनन शाह कहते हैं, "हम इन अपराधियों के खिलाफ पूरी तरह से कमर कस चुके हैं और जब तक हम इसे खत्म नहीं कर देते, तब तक हम आराम नहीं करने वाले।"

इस मुद्दे को हवा देने के लिए बहुत सी फिल्मों ने पहले ही जवाबी कार्रवाई की है लेकिन पाइरेसी लंबे समय से चली आ रही है। मनन शाह, जिन्होंने अय्यारी और नमस्ते लंदन जैसी फिल्मों में मदद की है, को ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का काम सौंपा गया था।

एवलैंस ने इससे निपटने के लिए मुख्यधारा का रास्ता अपनाया है। शुरुआत में, मूवी को पायरेट करने वाली वेबसाइटों को कॉपीराइट उल्लंघन का नोटिस जारी किया जाता है। हालांकि, यह कदम पूर्ण प्रमाण समाधान नहीं है क्योंकि DMCA का दृष्टिकोण कुछ देशों में सीमा से बाहर है।

वहां चोरी से लड़ने के लिए, एक अलग दृष्टिकोण की आवश्यकता है। एक टीम को कई वेबसाइटों पर नजर रखने का काम दिया जाता है क्योंकि वे फिल्म से संबंधित कीवर्ड के एक निश्चित संयोजन का उपयोग कर सकते हैं। यह उपाय पहले लाभकारी साबित हुआ था जब एवलैंस ने ‘अय्यारी’ प्रोजेक्ट को संभाल रहा था।

उन्होंने बहुत ही कम समय में सैकड़ों वेबसाइट की खोज की। मनन के नेतृत्व और निगरानी में संचालित टीम उनमें से अधिकांश को असफल करने में सफल रही। शेष वेबसाइटों को ऐसी किसी भी गतिविधि के लिए ट्रैक किया गया था और बाद में रोका गया था।

हालांकि, इसने फिल्म की चोरी को नहीं रोका, लेकिन इसने प्रतिशत को भारी अंतर से नीचे ला दिया। उन्होंने कहा कि द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर की पायरेसी को कम से कम रखने के लिए कुछ नए के साथ-साथ एक ही रणनीति का इस्तेमाल किया गया था।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से