Home सिनेमा बॉलीवुड कुछ अलग करने की ख्वाहिश ने दिलाया नेशनल अवार्ड: आयुष्मान खुराना

कुछ अलग करने की ख्वाहिश ने दिलाया नेशनल अवार्ड: आयुष्मान खुराना

आउटलुक टीम - AUG 12 , 2019
कुछ अलग करने की ख्वाहिश ने दिलाया नेशनल अवार्ड: आयुष्मान खुराना
कुछ अलग करने की ख्वाहिश ने दिलाया नेशनल अवार्ड: आयुष्मान खुराना
आउटलुक टीम

आयुष्मान खुराना की खुश आजकल सातवें आसमान पर है, क्योंकि वे हिंदी सिनेमा में सामान्य संदर्भ से हटकर कहानी देने वाले निर्देशकों के साथ काम करने की वजह से राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता बने हैं। आयुष्मान द्वारा मुख्य भूमिका वाली श्रीराम राघवन की "अंधाधुन" और अमित शर्मा द्वारा निर्देशित "बधाई हो" साल 2018 की सबसे बड़ी हिट फिल्मों में से थी, जो अभिनेता को बॉलीवुड के मौजूदा दौर में सबसे अधिक भरोसेमंद और कामयाब कलाकारों में से एक बनाती है।

आयुष्मान खुराना और विक्की कौशल ने पुरस्कार किया साझा

बधाई हो ने सर्वश्रेष्ठ लोकप्रिय फिल्म का पुरस्कार जीता और साथ ही आयुष्मान खुराना ने फिल्म अंधाधुन के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का। उन्होंने विक्की कौशल के साथ सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार साझा किया, जिन्हें 'उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक' में उनकी भूमिका के लिए यह पुरस्कार जीता।

कुछ अलग करने इच्छा थी

मेरी सफलता में कुछ सामान्य और अलग करने की आकांक्षा थी। मैं हमेशा से कुछ ऐसा करना चाहता था, जो आमतौर से सिनेमा में पहले से इस्तेमाल न हुआ हो। आयुष्मान ने एक इंटरव्यू में कहा कि जब लोग ट्रेलर देखते हैं, तो उन्हें ऐसा महसूस होना चाहिए कि यह ऐसी चीज है जिसे मैंने पहले नहीं देखा है, और मैं हमेशा विश्वसनीय निर्देशकों के साथ काम करना चाहता था। 34 वर्षीय अभिनेता एक विज्ञापन फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, जब उन्हें अपनी राष्ट्रीय पुरस्कार जीत के बारे में पता चला।

इस जीत के लिए मैं बिल्कुल तैयार नहीं था

उन्होंने कहा कि उन्हें शुरू में अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का समय नहीं मिला और अभी भी इसे पचाने की कोशिश की जा रही है। यह पुरस्कार कुछ ऐसा है जिसे सार्वजनिक रूप से घोषित किया जाता है। यह किसी भी अन्य पुरस्कार की तरह नहीं है, जहां आप दर्शकों के बीच बैठे हैं और इसके बारे में जानते हैं, आप तैयार हैं। लेकिन इस जीत के लिए मैं बिल्कुल भी तैयार नहीं था। उसी समय मुझे अपनी जीत का जश्न मनाने के लिए समय भी नहीं मिला। मैं 50 लोगों से घिरा हुआ था इसलिए मैं खुद को व्यक्त नहीं कर सका और मेरे पास अपना पल था। अब मैं इसे पचाने की कोशिश कर रहा हूं।

आने वाली फिल्में भी हैं रोचक

उन्होंने कहा कि मेरे पिता ने मुझे फोन किया। वह बहुत खुश थे। हमारे पूरे परिवार ने रात का खाना साथ खाया। यह सब बहुत खूबसूरत था। आयुष्मान ने कहा आगे भी जब वह फिल्मों को चुनाव करेंगे तो वह अपने मन की आवाज सुनेंगे। आयुष्मान के पास चार बिल्कुल अलग प्रकार की फिल्में कतार में हैं जिनमें- ड्रीम गर्ल, बाला, गुलाबो सीताबो और शुभ मंगल ज्यादा सावधान हैं। उन्होने कहा आखिरकार फिल्म जगत के कुछ सबसे बड़े नामों के साथ काम करने का अवसर पाकर खुश हैं।

अब करेंगे बड़े नामों के साथ काम

मैंने ज्यादातर पहली बार काम करने वालो के साथ काम किया है। जैसे कि शूजीत सरकार के साथ 'विकी डोनर'  में काम किया था, या शरत कटारिया के साथ 'दम लगा के हईशा' में काम किया था, तब वे बहुत बड़ा नाम नहीं थे। लेकिन अब मुझे श्रीराम राघवन, अनुभव सिन्हा, अमर कौशिक जैसे बड़े नामों के साथ काम करने को मिल रहा है। अब मैं ए-लिस्ट निर्देशकों के साथ काम कर रहा हूं। मुझे खुशी भी है कि मैं इस मुकाम पर पहुंचा हूं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से