Home अर्थ जगत शेयर बाजार शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 623 लुढ़का, यह रही सुस्ती की वजह

शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 623 लुढ़का, यह रही सुस्ती की वजह

आउटलुक टीम - AUG 13 , 2019
शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 623 लुढ़का, यह रही सुस्ती की वजह
शेयर बाजारों में भारी गिरावट, सेंसेक्स 623 लुढ़का, यह रही सुस्ती की वजह
आउटलुक टीम

मंगलवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट देखी गई। बीएसई सेंसेक्स 623.75 अंक गिरकर 36,958.16 पर बंद हुआ। ग्लोबल चिंताओं के अलावा बाजार में घरेलू आर्थिक स्थितियों को लेकर भी चिंताएं थीं। अर्थव्यवस्ता में सुस्ती दिखाई दे रही है जबकि कई क्षेत्रों में उपभोक्ताओं की मांग घट रही है। बाजार की सुस्ती के विपरीत रिलायंस इंडस्ट्रीज में सोमवार की घोषणाओं का फायदा मिला। इसका शेयर करीब 10 फीसद उछल गया।

विदेश की चिंता में निवेशक पीछे हटे

कारोबारी सत्र के दौरान बीएसई सेंसेक्स 36,888.49 तक फिसल गया था। निफ्टी की क्लोजिंग 183.80 प्वाइंट नीचे 10925.85 पर हुई। इंट्रा-डे में 10,901.60 तक लुढ़का था। कारोबारियों के मुताबिक कमजोर विदेशी संकेतों से निवेशकों की खरीद बेहद कमजोर रही। इससे निफ्टी में शामिल यस बैंक 10.89 फीसदी, बजाज फाइनेंस 6.07 फीसदी, महिंद्रा एंड महिंद्रा 5.87 फीसदी, बजाज फिनसर्व 5.54 फीसदी और आयशर मोटर्स के शेयर 5.35 फीसदी गिर गए।

ऑटो शेयरों में ज्यादा बिकवाली

वाहनों की बिक्री में लगातार नौवें महीने गिरावट आने की वजह से बाजार में बिकवाली हुई। वाहनों की बिक्री में 19 साल की सबसे तेज गिरावट रही। सेंसेक्स के 30 में से 28 और निफ्टी के 50 में से 44 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। एनएसई में सभी 11 सेक्टर इंडेक्स नुकसान में रहे। ऑटो इंडेक्स सबसे ज्यादा 3.9 फीसदी लुढ़क गया।

बड़ी घोषणाओं से रिलायंसमें दस फीसदी का उछाल

बाजार की गिरावट के विपरीत रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर बीएसई पर 9.72 फीसदी बढ़त के साथ 1275 रुपये पर बंद हुआ। इस तेजी से कंपनी का मार्केट कैप 71,000 करोड़ रुपये बढ़कर 8.08 लाख करोड़ रुपये हो गया। इंट्रा-डे में शेयर 12 फीसदी चढ़ा था। यह 10 साल में एक दिन की सबसे बड़ी तेजी रही। कंपनी ने सोमवार को एजीएम में कई बड़े ऐलान किए थे। सऊदी अरामको रिलायंस के रिफाइनरी-केमिकल बिजनेस में 20 शेयर 1.06 लाख करोड़ रुपए में खरीदेगी। रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी यह भी कहा कि 18 महीने में कंपनी को कर्ज मुक्त बनाने का लक्ष्य है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से