Home अर्थ जगत शेयर बाजार मोदी की वापसी के संकेतों से अडानी और अनिल अंबानी समूहों को फायदा, 7200 करोड़ बढ़ी कमाई

मोदी की वापसी के संकेतों से अडानी और अनिल अंबानी समूहों को फायदा, 7200 करोड़ बढ़ी कमाई

आउटलुक टीम - MAY 23 , 2019
मोदी की वापसी के संकेतों से अडानी और अनिल अंबानी समूहों को फायदा, 7200 करोड़ बढ़ी कमाई
मोदी की वापसी के संकेतों से अडानी और अनिल अंबानी समूहों को फायदा, 7200 करोड़ बढ़ी कमाई
आउटलुक टीम

आम चुनाव के नतीजों में एनडीए सरकार की वापसी के स्पष्ट संकेत मिलने के बाद गौतम अडानी और अनिल अंबानी के समूह की कंपनियों के शेयरों में भी जोरदार बढ़त दिखाई दे रही है। अडानी समूह की प्रमुख कंपनियों में अडानी पोर्ट्स और अडानी एंटरप्राइजेज की कीमत यानी बाजार पूंजीकरण 7100 करोड़ रुपये बढ़ गई। कमाई के मामले में अनिल अंबानी समूह की कंपनियों ने भी 213 करोड़ रुपये की कमाई की।

अडानी समूह की कंपनियों की कीमत 7000 करोड़ रुपये बढ़ी

अडानी समूह की फ्लैगशिप कंपनी अडानी पोर्ट्स के शेयरों में करीब सात फीसद की बढ़ोतरी के साथ कारोबार हो रहा है। इसके शेयर की कीमत करीब 28 रुपये बढ़कर 415 रुपये के आसपास है। इस तरह इस कंपनी की कीमत यानी बाजार पूंजीकरण 6000 करोड़ रुपये बढ़कर 86000 करोड़ रुपये हो गई। इसी समूह की दूसरी कंपनी अडानी एंटरप्राइजेज छह फीसदी की तेजी के साथ 168 रुपये पर पहुंच गया। इसकी कीमत 1100 करोड़ रुपये बढ़कर 19000 करोड़ रुपये हो गई। वैसे अडानी समूह की अन्य कंपनियों में भी तेजी का रुख दिख रहा है।

एडीए ग्रुप की कंपनियों में 200 करोड़ रुपया का फायदा

दूसरी ओर अनिल अंबानी के अनिल धारूभाई अंबानी समूह की अधिकांश कंपनियों के शेयरों में तेजी दिख रही है। इस समूह की कंपनियों की कीमत करीब 250 करोड़ रुपये बढ़ गई। रिलायंस पावर का शेयर 1.54 फीसदी की तेज के साथ 7.90 रुपये पर पहुंच गया। इसके चलते कंपनी की कीमत 33 करोड़ रुपये बढ़कर 2230 करोड़ रुपये हो गई। रिलायंस कैपिटल का शेयर पांच फीसदी की तेजी के साथ 136 रुपये पर कारोबार कर रहा था। इसकी कीमत 200 करोड़ रुपये बढ़कर 3400 करोड़ रुपये के ऊपर पहुंच गई। संकट में फंसी रिलायंस कम्युनिकेशंस की ढाई फीसदी की तेजी के साथ 2.12 रुपये पर कारोबार कर रही थी। इसका बाजार पूंजीकरण 13 करोड़ रुपये बढ़कर 586 करोड़ रुपये हो गई। हालांकि रिलांयस इन्फ्रास्ट्रक्चर का शेयर दो फीसद गिरकर 120 रुपये के आसपास कारोबार कर रहा था। इस वजह से इसका बाजार पूंजीकरण 33 करोड़ रुपये घटकर 3180 करोड़ रुपये रह गया। इस समूह की तीन कंपिनयों में तेजी और एक कंपनी में गिरावट के बाद शुद्ध रूप से बाजार पूंजीकरण में 200 करोड़ रुपये से ज्यादा की बढ़त हुई।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से