Home अर्थ जगत सामान्य यस बैंकः संस्थापक राणा कपूर की तीन बेटियों के घरों की भी तलाशी

यस बैंकः संस्थापक राणा कपूर की तीन बेटियों के घरों की भी तलाशी

आउटलुक टीम - MAR 07 , 2020
यस बैंकः संस्थापक राणा कपूर की तीन बेटियों के घरों की भी तलाशी
यस बैंक संस्थापक राणा कपूर से ईडी के मुंबई ऑफिस में पूछताछ, मनीलॉन्ड्रिंग के हैं आरोप
file photo
आउटलुक टीम

प्रवर्तन निदेशालय ने यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के मामले में जांच का दायरा बढ़ा दिया है। शनिवार को जांच एजेंसी के अधिकारियों ने मुंबई और दिल्ली में राणा कपूर की तीन बेटियों के घरों की भी तलाशी ली। इनके नाम हैं राखी कपूर टंडन, रोशनी कपूर और राधा कपूर। राणा कपूर से शनिवार को भी पूछताछ जारी रही। इन पर मनीलॉन्ड्रिंग के आरोप हैं। सूत्रों का कहना है कि घोटाले का पैसा इनकी बेटियों को भी मिला है।

सूत्रों ने बताया कि राणा कपूर को शनिवार दोपहर में मुंबई के बलार्ड एस्टेट स्थित प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के ऑफिस लाया गया। ईडी के अधिकारियों ने शुक्रवार की रात मुंबई के वर्ली स्थित राणा के घर ‘समुद्र महल’ में तलाशी लेने के साथ उनसे पूछताछ भी की थी। यह पूछताछ लगभग पूरी रात चली। ईडी ने राणा कपूर के नाम लुकआउट सर्कुलर भी जारी किया था, ताकि वे देश छोड़कर न जा सकें।

डीएचएफएल से जुड़ा है मामला

राणा कपूर के खिलाफ मामला घोटाले में फंसे डीएचएफएल से जुड़ा है। यस बैंक ने इस कंपनी को कर्ज दिया था, जो एनपीए हो गया। उनके खिलाफ मनीलॉन्ड्रिंग कानून (पीएमएलए) के तहत कार्रवाई की जा रही है। जांच एजेंसी कुछ कंपनियों को लोन देने में भी राणा की भूमिका की जांच कर रही है। आरोप है कि इस लोन के बदले रिश्वत की रकम उनकी पत्नी के खाते में जमा कराई गई। एक अधिकारी ने बताया कि तलाशी में कई संदिग्ध दस्तावेज मिले हैं। एजेंसी डीएचएफएल के प्रमोटरों और अन्य कंपनियों के साथ राणा कपूर के संबंधों का पता लगाना चाहती है।

मनमाने तरीके से लोन बांटने का है आरोप

डीएचएफएल पर 80 शेल कंपनियों और एक लाख फर्जी ग्राहकों के जरिए लगभग 12,500 करोड़ रुपये का घपला करने का आरोप है। यह मामला 2015 का है। डीएचएफएल की जांच में पता चला कि कंपनी ने जिस पैसे की हेराफेरी की, वह पैसा यस बैंक से निकला था। आरोप है कि राणा कपूर ने यस बैंक के जरिए मनमाने तरीके से मोटे लोन बांटे। लोन देने और उसे वसूल करने की प्रक्रिया अपने हिसाब से तय की। ये लोन राणा कपूर ने अपने निजी संबंधों के आधार पर दिए।

यूपी पावर कॉरपोरेशन से भी जुड़े हैं तार

सूत्रों ने बताया कि ईडी कुछ और अनियमितताओं की भी जांच कर रही है। इसमें उत्तर प्रदेश पावर कॉरपोरेशन का पीएफ घोटाला भी शामिल है। सीबीआई ने 2,267 करोड़ रुपये के इस घोटाले की जांच हाल ही अपने हाथों में ले ली है। यूपी पावर के पीएफ का पैसा डीएचएफएल में निवेश किया गया था।

राणा कपूर ने 2004 में शुरू किया था यस बैंक

यस बैंक को साल 2004 में राणा कपूर और अशोक कपूर ने शुरू किया था, जिन्हें उस दौर में दिग्गज प्रोफेशनल माना जाता था। राणा कपूर ने दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से पढ़ने के बाद न्यूजर्सी के रटगर्स यूनिवर्स‍िटी से एमबीए किया था। उन्होंने 16 साल तक बैंक ऑफ अमेरिका में नौकरी की थी।

रिजर्व बैंक ने अपने हाथों में लिया संचालन

यस बैंक के संकट में फंसने के बाद इसका संचालन रिजर्व बैंक ने अपने हाथों में ले लिया है। इसने खाताधारकों के लिए महीने में 50 हजार रुपये तक की निकासी की सीमा तय कर दी है। वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को कहा कि सरकार ने रिजर्व बैंक से यह पता लगाने के लिए कहा है कि यस बैंक में क्या गलत हुआ और इसमें व्यक्तिगत स्तर पर जवाबदेही तय की जानी चाहिए।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से