Home अर्थ जगत सामान्य त्‍योहारी सीजन से पहले एसबीआई ने ब्याज दरों में की कटौती, एफडी पर भी ब्याज दर घटी

त्‍योहारी सीजन से पहले एसबीआई ने ब्याज दरों में की कटौती, एफडी पर भी ब्याज दर घटी

SEP 09 , 2019
त्‍योहारी सीजन से पहले एसबीआई ने ब्याज दरों में की कटौती, एफडी पर भी ब्याज दर घटी
एसबीआई ने होम लोन और एफडी की ब्याज दरों में कटौती का किया ऐलान
File Photo

देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने सोमवार को ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया। एसबीआई ने मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेडिंग रेट (एमसीएलआर) में 0.10 फीसदी कटौती की है। पहले एमसीएलआर 8.25 फीसदी थी, जो अब घटकर 8.15 फीसदी सालाना कर दी गई है। एमसीएलआर के रेट कम होने से होम लोन समेत सभी कर्ज पर ब्याज दरें भी कम हो जाएंगी। नई दरें 10 सितंबर से लागू होंगी। वित्त वर्ष 2019-20 में यह पांचवी बार है जब एसबीआई ने कर्ज सस्ता किया है।

सावधि जमा (एफडी) पर ब्याज दरों में भी कटौती

घटती ब्याज दरें और लिक्विडिटी बढ़ने पर बैंक ने टर्म डिपॉजिट पर ब्याज दरों में भी बदलाव किया है। इसकी नई दरें भी 10 सितंबर से लागू होंगी। बैंक ने रिटेल टर्म डिपॉजिट की दरों में 20-25 बेसिस प्वाइंट यानी 0.20-0.25 फीसदी की कटौती की है। वहीं, सभी अवधि के लिए बल्क टर्म डिपॉजिट पर ब्याज दरों को 10-20 बेसिस प्वाइंट यानी 0.10-0.20 फीसदी तक घटा दिया है।

7 अगस्त को आरबीआई ने घटाया रेपो रेट

आरबीआई ने 7 अगस्त को रेपो रेट घटा दिया था, जिसके बाद एसबीआई ने ब्याज दरों को घटाने का निर्णय लिया। आरबीआई ने अपनी तीसरी द्विमासिक पॉलिसी में रेपो रेट में 35 बेसिस प्वॉइंट्स की कटौती की थी। इसके बाद रेपो रेट 5.75 फीसदी से 5.40 फीसदी रह गई।

इससे पहले भी एसबीआई ने एमसीएलआर की दरों में की थी कटौती

1 मई से अब तक एसबीआई कर्ज की दरों में 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती कर चुका है। 1 मई से पहले एसबीआई की दरें 8.55 फीसदी पर थीं, जो अब घटकर 8.15 फीसदी हो चुकी हैं। इससे पहले एसबीआई ने 10 जून को भी एमसीएलआर की दरों में कटौती की घोषणा की थी। एसबीआई का एमसीएलआर इंडस्ट्री में सबसे कम है। निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक का एमसीएलआर 8.35 फीसदी और एचडीएफसी बैंक का 8.30 फीसदी है। पिछले दो हफ्ते के दौरान इन बैंकों ने अपने एमसीएलआर में 10-10 बेसिस प्वाइंट (0.1 फीसदी) की कटौती की थी। हालांकि इसके बाद भी बैंक कर्ज रिजर्व बैंक के रेपो रेट की तुलना में काफी महंगे हैं। रेपो रेट अभी 5.40 फीसदी है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से