Home अर्थ जगत सामान्य एसबीआई के बचत खाते में न्यूनतम जमा की अनिवार्यता खत्म, कर्ज और एफडी पर ब्याज भी घटा

एसबीआई के बचत खाते में न्यूनतम जमा की अनिवार्यता खत्म, कर्ज और एफडी पर ब्याज भी घटा

आउटलुक टीम - MAR 11 , 2020
एसबीआई के बचत खाते में न्यूनतम जमा की अनिवार्यता खत्म, कर्ज और एफडी पर ब्याज भी घटा
एसबीआइ का कर्ज हुआ सस्ता, एमसीएलआर में 0.15 फीसदी तक कटौती
आउटलुक टीम

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने बचत खाते में न्यूनतम जमाराशि की बाध्यता समाप्त कर दी है। लेकिन इसके साथ बचत खाते पर ब्याज दरों में भी फेरबदल किया है। अब बचत खाते में जमा रकम पर फ्लैट तीन फीसदी ब्याज मिलेगा। अभी तक बैंक एक लाख रुपये तक जमा पर 3.25 फीसदी और इससे ज्यादा जमा पर तीन फीसदी ब्याज देता था। एसबीआई ने विभिन्न अवधियों के लिए मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लैंडिंग रेट (एमसीएलआर) और फिक्स्ड डिपॉजिट की ब्याज दरों में भी कटौती का ऐलान किया है। बैंक ने एमसीएलआर में 0.15 फीसदी तक की कटौती की है। एफडी की ब्याज दरें 0.10 से 0.50 फीसदी तक घटाई गई हैं। नई ब्याज दरें 10 मार्च से लागू हो गई हैं। एसबीआइ के इस फैसले से होम लोन और ऑटो लोन समेत सभी कर्ज सस्ते हो जाएंगे, लेकिन बुजुर्गों की एफडी से होने वाली कमाई घट जाएगी।

एफडी पर ब्याज दर में भारी कटौती

बैंक ने एक महीने में एफडी के ब्याज दर में दूसरी बार कटौती की है। दो करोड़ रुपये राशि वाली रिटेल टर्म डिपॉजिट की ब्याज दरें घटाई गई हैं। 7 दिनों से 45 दिनों तक की एफडी का ब्याज 4.50 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी किया गया है। एक साल और इससे अधिक समय की एफडी पर ब्याज दरें 0.10 फीसदी घटाई गई है। एक साल से दो साल के बीच की एफडी पर ब्याज 6 फीसदी से घटाकर 5.90 फीसदी िकया गया है। इसी अवधि में वरिष्ठ नागरिकों की एफडी पर ब्याज 6.50 फीसदी से घटाकर 6.40 फीसदी की गई है। बैंक ने बल्क डिपॉजिट (दो करोड़ रुपये से ज्यादा) पर 180 दिनों और इससे ज्यादा अवधियों की एफडी पर ब्याज दर 0.15 फीसदी घटाया है। एक साल और इससे ज्यादा अवधि की बल्क एफडी के लिए ब्याज दर 4.75 फीसदी से घटाकर 4.60 फीसदी किया गया है। बैंक ने फरवरी में रिटेल एफडीआइ पर ब्याज 0.10-0.50 फीसदी और बल्क एफडी के लिए 0.25-0.50 फीसदी घटाया था।

एमसीएलआर में लगातार दसवीं बार कटौती

एसबीआइ ने कहा है कि एक साल का एमसीएलआर 0.10 फीसदी घटाकर 7.75 फीसदी किया गया है। अभी तक इसका ब्याज दर 7.85 फीसदी था। चालू वित्त वर्ष में बैंक ने लगातार दसवीं बार एमसीएलआर में कटौती की है। होम लोन, कार लोन जैसे रिटेल लोन इसी ब्याज दर पर दिए जाते हैं।

नई ब्याज दर इस प्रकार होगी

एक दिन और एक महीने का एमसीएलआर 0.15 फीसदी घटाकर 7.45 फीसदी तय किया गया है। तीन महीने का एमसीएलआर 7.65 फीसदी से घटाकर 7.50 फीसदी निर्धारित किया गया है। दो साल और तीन साल का एमसीएलआर 0.10 फीसदी घटाकर क्रमशः 7.95 फीसदी और 8.05 फीसदी तय किया गया है।

यूनियन बैंक ने भी कर्ज सस्ता किया

सोमवार को यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने सभी अवधियों के एमसीएलआर में 0.10 फीसदी कटौती करने की घोषणा की थी। उसकी नई ब्याज दर 11 मार्च से लागू की गई है। मुंबई के यूनियन बैंक ने जुलाई 2019 के बाद स लगातार नौवीं बार एमसीएलआर में कटौती की है। बैंक ने एक साल का एमसीएलआर 8.10 फीसदी से घटाकर 8 फीसदी तय किया है। उसने एक महीने का एमसीएलआर 7.60 फीसदी और एक दिन का रेट 7.55 फीसदी तय किया है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से