Home अर्थ जगत सामान्य 6,000 से अधिक संस्थाओं का एफसीआरए लाइसेंस समाप्त, जानिए क्या है पूरा मामला

6,000 से अधिक संस्थाओं का एफसीआरए लाइसेंस समाप्त, जानिए क्या है पूरा मामला

आउटलुक टीम - JAN 01 , 2022
6,000 से अधिक संस्थाओं का एफसीआरए लाइसेंस समाप्त, जानिए क्या है पूरा मामला
6,000 से अधिक संस्थाओं का एफसीआरए लाइसेंस समाप्त, जानिए क्या है पूरा मामला
आउटलुक टीम

आईआईटी दिल्ली, जामिया मिलिया इस्लामिया, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी जैसे 6,000 संस्थानों का एफसीआरए पंजीकरण शनिवार को बंद हो गया।

अधिकारियों ने कहा है कि इन संस्थाओं ने या तो अपने एफसीआरए लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए आवेदन नहीं किया या केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उनके आवेदनों को खारिज कर दिया है।

विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम से संबंधित आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, जिन संगठनों और संस्थाओं का एफसीआरए के तहत पंजीकरण या वैधता समाप्त हो गई है, उनमें इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र, भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, लाल बहादुर शास्त्री मेमोरियल फाउंडेशन, लेडी श्री राम कॉलेज शामिल हैं। श्री राम कॉलेज फॉर विमेन, दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और ऑक्सफैम इंडिया शामिल है।

एफसीआरए के तहत पंजीकृत, गैर सरकारी संगठनों और सहयोगियों की गतिविधियों को नियंत्रित करने वाले केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि अधिनियम के तहत पंजीकरण शनिवार (1 जनवरी) को समाप्त माना जाता है।

विदेशी फंडिंग प्राप्त करने के लिए किसी भी एसोसिएशन और एनजीओ के लिए एफसीआरए पंजीकरण अनिवार्य है। शुक्रवार तक 22,762 एफसीआरए-पंजीकृत एनजीओ थे।  शनिवार को, यह घटकर 16,829 हो गया क्योंकि 5,933 एनजीओ ने काम करना बंद कर दिया था।

जिन संगठनों का एफसीआरए पंजीकरण बंद हो गया, उनमें मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया, इमैनुएल हॉस्पिटल एसोसिएशन, जो पूरे भारत में एक दर्जन से अधिक अस्पताल चलाता है, ट्यूबरकोलोसिस एसोसिएशन ऑफ इंडिया, विश्व धर्मायतन, महर्षि आयुर्वेद प्रतिष्ठान, नेशनल फेडरेशन ऑफ फिशरमेन कोऑपरेटिव्स लिमिटेड इत्यादि शामिल हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से