Home Author

शरतचंद्र की नायिकाएं - सशक्त, स्नेहिल, सबल, स्त्री शक्ति का प्रतिनिधित्व करतीं, पर नायकों पर हावी...

अप्रतिम, विरले उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय की कहानियों में उनकी नायिकाएं संवेदनशील, करुणामय पर...

जन्मदिन विशेष: आशा भोंसले- चंचल, चुलबुली, सुरीली, जीवंत आवाज की मलिका

आशा भोंसले, जिन्हें प्यार से ''आशा ताई'' भी बोला जाता है, हिंदी फिल्मों की मशहूर पार्श्वगायिका, दीनानाथ...

पंकज त्रिपाठी: अप्रतिम अभिनेता, खांटी कृषक पुत्र, जमीन से जुड़े निखालिस माटी के लाल

शिक्षक दिवस को पंकज त्रिपाठी के जन्मदिन के अवसर पर फिल्म इंडस्ट्री के भीतर और बाहर बधाइयों को तांता लग...

मोहब्बत यदि इंसानी शक्ल अख़्तियार करती तो यकीनन अमृता प्रीतम जैसी होती

अमृता प्रीतम यानि रूहानी इश्क़, आज़ादी, अपनी शर्तों पर जीने वाली बेफिक्र फितरत की मिटटी से गढ़ी गयी...

व्यंग के भीष्म पितामह हरिशंकर परसाई: समाज के ठेकेदारों को हजम नहीं होती थीं पाखंड पर करारी चोट

पद्मश्री हरिशंकर परसाई जी, हिंदी साहित्य में व्यंग्य को सर्वथा अलग विधा का दर्जा और उत्कृष्ट मुकाम...

इस्मत चुगताई- बिंदास, बोल्ड और नारीवादी अफसानानिगार

इस्मत चुगताई, उर्दू साहित्य की ऐसी सशक्त, बेबाक, प्रबुद्ध, बिंदास, बोल्ड और नारीवादी...

जब नरगिस ने मीना कुमारी के लिए कहा, 'मौत तुम्हें मुबारक हो'!

मीना कुमारी का एक अगस्त को जन्मदिन है। वो सिने जगत की ऐसी अभिनेत्री थीं जिन्होंने मार्मिक, जीवंत, अभिनय...

शहरनामा/ इलाहाबाद: कपड़ाफाड़ होली की परंपरा से लेकर ‘भौकालियों का शहर, यहां माटी और हवा का ऐसा है असर

“इलाहाबाद की माटी और हवा का असर है कि यहां के बालक तक डरते नहीं, बल्कि अक्सर घुस के तमाशा देखने में...