Home Author

बेचैन पत्तों का कोरस: कुंवर नारायण की कहानियों में एक दूसरा पक्ष ‘देखना’ भी है

कुंवर नारायण की कहानी ‘सीमारेखाएं’ पढ़ें और मंटो की कहानी ‘टोबा टेकसिंह’ याद न आए, ऐसा नहीं हो...