Home » कला-संस्कृति » सामान्य » आईसीएसएसआर प्रमुख को लगता है पाठ्य पुस्तकें जेएनयू जैसे एक्टिविस्ट बना रहीं

आईसीएसएसआर प्रमुख को लगता है पाठ्य पुस्तकें जेएनयू जैसे एक्टिविस्ट बना रहीं

JUL 03 , 2017

सोशल साइंस विषयों को बढ़ावा देने वाली संस्था आईसीएसएसआर के प्रमुख को यह भी लगता है कि जाति आधारित झड़पें और असहिष्णुता बहुत सतही मामले हैं और यह भारतीय समाज पर कोई असर नहीं डालेंगे।  

उनका कहना है, ‘पाठ्यपुस्तकें छात्रों को एक्टिविस्ट बनाने के लिए नहीं होतीं। लेकिन दुर्भाग्य से किताबें आजकल इसी एजेंडा पर चल रही हैं। बृज बिहारी खुद भी एंथ्रोपोलॉजिस्ट रहे हैं। उनका नाम तब प्रमुखता से चर्चा में आया था जब उन्होंने कहा था कि नरेंद्र मोदी से बड़ा असहिष्णुता का शिकार कोई नहीं है। वह उन नक्शों पर भी आपत्ति जताते हैं जिनमें जम्मू और कश्मीर को भारत से अलग दिखाया गया है। या पूर्वोत्तर के राज्य भारत के हिस्से के रूप में नहीं दिखाए जाते। वह कहते हैं कि एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकें पॉलिटिकल एजेंडा के तहत चलती थीं और आंशिक रूप से सामाजिक भिन्नता और अराजक माहौल बनाने में इनका भी योगदान है। 


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.