Home » कला-संस्कृति » सामान्य » मंटो के नाम नंदिता दास का खत, "मैं तुम्हारी चौथी बेटी..."

मंटो के नाम नंदिता दास का खत, "मैं तुम्हारी चौथी बेटी..."

MAY 11 , 2017

सआदत हसन 'मंटो'  पर एक फिल्म बन रही है, जिस फिल्म को नंदिता दास निर्देशित कर रही है। नंदिता के अनुसार उन्हें बहुत समय पहले से अपने पंसदीदा लेखक पर फिल्म बनाने की इच्छा थी। अब उनके जन्म दिन पर नंदिता दास का यह पत्र उनकी स्मृतियों को जीवंत कर रहा है।

प्रिय मंटो साहब के संबोधन से पत्र की शुरूआत करते हुए नंदिता दास लिखती हैं, “चुनौतियों का सामना करने के लिए,आप मुझे शांति बनाए रखने की ताकत देते हैं। आप मुझे सच्चाई के लिए नैतिक साहस देते हैं।“

अपनी यादों को ताजा करती हुई नंदिता लिखती हैं, “आपने एक बार कहा था, मैं कहानियां नहीं लिखता, वे मुझे लिखते हैं जब मैं आपकी कहानी फिल्माने जा रही हूं  तो मुझे ऐसा ही लगता है।” नंदिता दास मंटो को संबोधित करते हुए लिखती हैं, “आपने मुझे सिखाया है कि हम जो करना चाहते हैं वह एक विकल्प नहीं है, यह वही है जो हमें चाहिए। ऐसा तब होता है जब आपने कहा था "यदि आप इंसान हैं, तो आपको प्रगतिशील होना होगा"। यह सिर्फ एक विकल्प नहीं है।“

Advertisement

मैं तुम्हारी चौथी बेटी हूं...

नंदिता खुद को मंटो की चौथी बेटी मानती हैं। इस खत में वे लिखती हैं, “मैं तुम्हारी चौथी बेटी हूं ... आत्मा में, अपने मिशन में। कोई आश्चर्य नहीं है कि आपने अपने तीन बेटियों को एन के साथ नाम दिया है! कुछ रहस्यमय तरीके से मुझे लगता है कि मैं अपनी विरासत का हिस्सा हूं, कहानी कहने की छूट की शक्ति में विश्वास करती हूं। हालांकि कोई भी व्यक्ति दुनिया को बदल नहीं सकता है, लेकिन आप हर रोज मुझे याद दिलाते हैं कि एक कहानी, एक कविता, एक फिल्म से यह हो सकता है। एक-एक बूंद से ही धीरे धीरे घड़ा भरता है।”

मैं एक आदमी पर फिल्म क्यों बना रही हूं?

जो लोग महिलाओं के मुद्दों के साथ मेरे रिश्तों को जानते हैं वे अक्सर मुझसे पूछते हैं कि मैं एक आदमी पर फिल्म क्यों बना रही हूं, महिला पर नहीं। सरल है - क्योंकि मैं उन पुरुषों का जश्न मनाना चाहती हूं,  जिन्होंने महिलाओं के कारणों को चुनौती दी है, हमें अपमान, दया के साथ नहीं देखा, बल्कि एक समा रूप में देखा। मुझे पता है कि आप लेबलों से नफरत करते हैं, जैसे मैं करती हूं, लेकिन आप एक सच्चे मानवतावादी हैं, और इसलिए एक नारीवादी होना आपका एक इंसान होने के नाते आपकी कई पहचानों में से एक है।

तू मेरा चांद, मैं तेरी चांदनी...

 खत के आखिर में नंदिता लिखती हैं, “अब मुझे शूट करने के लिए चलना चाहिए। आज एक गाना फिल्माया जाएगा  "तू मेरा चांद, मैं तेरी चांदनी" तुम्हे यह पंसंद आयेगा! प्यार, प्रशंसा और सम्मान के साथ फिर, जन्मदिन मुबारक हो!”

मंटो के नाम नंदिता दास का खत यहां पढ़ें-

 


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.