Home कला-संस्कृति
कला-संस्कृति

लोकोक्तियों का लौटना

कहानी कहने-सुनने की परंपरा सभ्यता के आरंभ से ही समाज में रही है। इसी कड़ी में बिहार की सामाजिक...

सत्ता गई, कवयित्री बची रही

बीसवीं सदी के शुरुआत में उभरी रूसी कवयित्री मारीना त्स्वेतायेवा का जीवन बहुत त्रासद रहा। वह एक कुलीन...

सत्ता गई, कवयित्री बची रही

बीसवीं सदी के शुरुआत में उभरी रूसी कवयित्री मारीना त्स्वेतायेवा का जीवन बहुत त्रासद रहा। वह एक कुलीन...

बनी-बनाई धारणाओं से अलहदा

रामकथा के न जाने कितने रूप हैं। आदिकवि वाल्मीकि की रामायण से लेकर तुलसीदास के रामचरितमानस तक।...

मजदूर

टूट के शाख से पत्ते कभी शजर नहीं होते इस शहर में किसी मजदूर के घर नहीं होते हवाई प्रवासी के पैरों में...

जीवन की परतों को खोलती कहानियां

‘उत्तरवाहिनी’ मीना झा द्वारा लिखी हालिया प्रकाशित कहानी संग्रह है। इस संग्रह में कुल छह कहानियां...

आर्थिक सुधारों की यात्रा की कहानी

1991 में भारत की आर्थिक नीतियों में जो बहुत बड़ा बदलाव आया उसकी नींव अस्सी के दशक में ही पड़ चुकी थी और...

प्रतिरोध के संवादी सुर संजोए कविता में बंटवारा

लेखन को महज साहित्य-साधना नहीं, बल्कि सांस्कृतिक कर्म के तौर पर लेने के पक्षधर रामकुमार कृषक ने सन् 1988...

“हालात नोटबंदी काल के संकट से भी ज्यादा गंभीर”

करीब दो महीने के देशव्यापी लॉकडाउन ने करोड़ों लोगों का रोजगार छीन लिया है। अब जब लॉकडाउन में चरणबद्ध...

सरल-सलोनी हिंदी की बात

राजभाषा सेवा से जुड़े होने के कारण आलोचक और गीतकार डॉ. ओम निश्चल हिंदी से बहुत गहरे जुड़े रहे हैं।...

आर्थिक नीतियों की हकीकत

सरकार आर्थिक नीतियां किसके लिए बनाती है? कहने को तो इसमें समाज के हर वर्ग को शामिल किया जाता है, लेकिन...

इरफान के एनएसडी के दोस्त की जुबानी, शादी से लेकर एक्टर बनने तक की कहानी

“इरफान को मैं उसी तरह याद कर रहा हूं जैसे कोई अपने दिल के सबसे करीबी को याद करता है। जिस तरह के किरदार...

बॉलीवुड ही नहीं विश्व सिनेमा को भी नुकसान, हर चरित्र को अपना बना लेते थे इरफान

बॉलीवुड सितारों और सुपरस्टार से भरा हुआ है। 100 करोड़ रुपए और पॉवर जो प्रतिभा के साथ या बिना प्रतिभा...

राजनीतिक मुठभेड़ की कविताएं

सत्तर के दशक में नक्सलबाड़ी आंदोलन की रोशनी और वाम विश्वासों की छाया में जब मंगलेश डबराल ने अपनी कविता...