Home कला-संस्कृति
कला-संस्कृति

रविवारीय विशेष: तरुण भटनागर की कहानी दावानल

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए तरुण भटनागर की कहानी।...

रविवारीय विशेष: दिव्या विजय की कहानी-बिट्टो

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए दिव्या विजय की कहानी।...

शहरनामा: खंडवा, जहां बसी हैं किशोर कुमार की यादें

“खंडवा, जहां बसी हैं किशोर कुमार की यादें” किशोर दा का बॉम्बे बाजार समृद्ध प्राचीन परंपरा,...

रविवार विशेष: श्रद्धा थवाईत की कहानी छूत

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए श्रद्धा थवाईत की...

मुस्लिम शायर ने मीरा की पदावलियों का उर्दू में किया अनुवाद, सोशल मीडिया में हुई थी इस काम की आलोचना

उत्तर प्रदेश के रहने वाले हाशिम रजा जलालपुरी ने मीराबाई की 209 पदावलियों के 1,510 पदों का उर्दू में अनुवाद...

हिंदी भाषा, साहित्य, संस्कृति और कला पर काम करेगी पश्चिम बंग हिंदी अकादमी

पश्चिम बंगाल में पश्चिम बंग हिंदी अकादेमी अपने पुर्नगठन के बाद आगामी तैयारियों में जुट गई है। हिंदी...

संस्कृति में रचा-बसा सिनेमा

सिनेमा और संस्कृति कहीं न कहीं पस्पर रूप से जुड़े हुए हैं। यह साझी विरासत है जो दो धारओं को आपस में...

रविवारीय विशेषः पंकज मित्र की कहानी, बैल का स्वप्न

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए पंकज मित्र की कहानी।...

गीत-संगीत का इतिहास

हिंदी फिल्मों का अब तक जो इतिहास लिखा गया है, वह मुख्यतः अभिनेता-अभिनेत्रियों और निर्देशकों पर ज्यादा...

ज्ञानपीठ पुरस्कार विजेता अक्कितम अच्युतन का निधन

ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात मलयालम कवि साहित्यकार अक्कितम अच्युतन नंबूतिरी का गुरुवार...

रविवारीय विशेषः राकेश बिहारी की कहानी नेपथ्य

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए राकेश बिहारी की...

अमेरिकी कवयित्री लुईस ग्लूक को साहित्‍य में 2020 का नोबल पुरस्‍कार

साल 2020 का साहित्य में नोबेल पुरस्‍कार अमेरिकी कवयित्री लुईस ग्लूक को दिया गया। स्वीडिश एकेडमी ने...

छोटी घटनाओं की बड़ी कहानियां

अच्छा लेखक वही है, जो विचारधारा थोपे बिना विचार करने लायक कहानियां लिख दे। लेकिन उमाशंकर चौधरी वैसे ही...

लॉकडाउन के बाद सत्याग्रही के लिए जुटी भीड़

हर दिन स्क्रिप्ट पढ़ने, संवाद याद करने और भूमिका के लिए अभ्यास करने के अभ्यस्त कलाकार लॉकडाउन में जैसे...