Advertisement
Home कला-संस्कृति
कला-संस्कृति

बिसरख: ऐसा गांव जहां नहीं मनाया जाता दशहरा, जानिए क्यों

नई दिल्ली से लगभग 33 किमी पूर्व में उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर जिले में एक गांव है- बिसरख। 2011 की जनगणना...

कश्मीर घाटी: शैव भूमि में राम के मायने

कश्मीर सदियों से अनिवार्य रूप से एक शैव भूमि रहा है।  कश्मीर की सबसे प्रसिद्ध आध्यात्मिक और...

श्री राम की वजह से मिली किन्नर अखाड़ा को मान्यता: लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी

रामायण के सुंदर काण्ड में एक कहानी है, जो भारत में ट्रांसजेंडर समुदाय को पहचान देती है। जब श्री राम...

पुस्तक समीक्षाः ढलती सांझ का सूरज

यह उपन्यास सार्थकता और सकारात्मकता की अद्भुत खोज करता आख्यान है। तमाम आशाओं, निराशाओं से गुजरते जीवन...

पुस्तक समीक्षाः हौसलों का सफर

सिविल सेवा क्षेत्र में अग्रणी संस्थान ‘दृष्टि आईएएस’ ने अपने नए उपक्रम पंख पब्लिकेशन से पहली...

पुस्तक समीक्षाः कहत कबीरन

कवियत्रियों द्वारा लिखी जा रही समकालीन हिंदी कविता के मुख्य विषय अधिकतर स्त्री-पुरुष संबंधों,...

पुस्तक समीक्षाः चांद गवाह

भारतीय समाज के बदलते परिवेश में पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाला निरंतर तनाव रिश्तों को अलग किस्म से गढ़ता...

पुस्तक समीक्षा : तेरहवां महीना

आज विचारों, विचारों के मतभेदों, वैयक्तिक, सामाजिक दर्शन और इन सब से जूझते कॉमन मैन पर कहानियां लिखी और...

पुस्तक समीक्षा : दरवाजा खोलो बाबा

वर्तमान समय में हिंदी साहित्य पढ़ने वालों की संख्या में इजाफा हुआ है। लोग अब लिखने पढ़ने को बुरा काम...

पुस्तक समीक्षा : मैं बीड़ी पीकर झूंठ नी बोलता

साहित्य, सिनेमा, कला वही है जो पढ़े, देखे जाने के बाद भी याद रहे, साथ रहे। कुछ ऐसी ही तासीर है इस कहानियों...

राम मंदिर: निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा बोले, "दिसंबर 2023 तक होने लगेंगे रामलला के दर्शन"

निर्माण समिति के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, अयोध्या के राम मंदिर परिसर में तीर्थ यात्रा सुविधा...

लेखन "वनडे क्रिकेट मैच" नहीं होता, एक लंबी पारी का खेल हैः ममता कालिया

नई दिल्ली। हिंदी की प्रख्यात लेखिका ममता कालिया ने कहा है कि लेखन "वनडे क्रिकेट मैच" नहीं होता बल्कि...

पुस्तक समीक्षा : ठीक तुम्हारे पीछे

"ठीक तुम्हारे पीछे" अभिनेता और लेखक मानव कौल का कहानी संग्रह है। कहानी संग्रह में कुल बारह कहानियां...

पुस्तक समीक्षाः शर्ट का तीसरा बटन

दोस्त, शरारतें, बरगद की झूलती जड़ें, नदी का बहता पानी, खूबसूरत लड़की, खलनायक और मन में कौंधते कुछ अनसुलझे...


Advertisement
Advertisement