आउटलुक 1 अगस्त JUL 18 , 2016 आउटलुक ब्यूरो

ई कैफे: नई सोच और नई ऊर्जा

इंटरप्रेन्योर कैफे का विचार वटवृक्ष का रूप ले चुका है
आउटलुक ब्यूरो
छह महाद्वीपों, 26 देशों और 108 शहरों में मजबूत उपस्थिति

क्या होगा जब अलग-अलग नागरिकता वाले दो लोग समान विचार के जरिये साथ लाए जाएं। दो लोग जो बदलाव लाने के सपने देखते हैं और उद्यमियों की दुनिया में अंतर पाटना चाहते हैं! वे एकजुट होकर एक समुदाय की शुरुआत करते हैं और हजारों लोगों का परिवार रचते हैं, दुनिया के लिए! डॉ. निखिल अग्रवाल और सारा को छोटा सा एक विचार सूझा था। इसे आसानी से पूरा किया जा सकता था- इसका उन्हें बेहद कम आभास था। इसका भी आभास नहीं था कि उनका ब्रेनचाइल्ड इंटरनेट पर वायरल हो जाएगा और उनके विचारों की कई शाखाएं और उनके कॉन्सेप्ट के बीज एक साल के भीतर सौ से ज्यादा शहरों में पनप आएंगे।

ई कैफे यानी इंटरप्रेन्योर कैफे। एक ऐसा परिवार जो संपर्क में आने वाले हर उद्यमी को सपोर्ट करता है, यहां ज्वाइन करना बिल्कुल मुफ्त है और महीने में दो बार इस परिवार के लोग मिलते हैं- दूसरे और चौथे गुरुवार को। इन सबके लिए जरूरी यह है कि समय पर पहुंचे और अपनी कॉफी खरीदें। नवंबर 2014 में दो शहरों से इसकी शुरुआत हुई थी-निखिल ने दिल्ली में और सारा ने कासाब्लांका में। नवंबर 2015 तक इसकी शाखाएं सौ से ज्यादा शहरों में खुल गईं। पूरी दुनिया उनके साथ हो लेती है, जो जानते हैं कि वे कहां जा रहे हैं और अगर वे सफलता की ओर जा रहे होते हैं, तो पूरी दुनिया उनके साथ हो लेती है। और यही हुआ। दुनिया भर से मिली जबर्दस्त प्रतिक्रिया के बाद, अब शहरों की शाखाओं को चैप्टर्स में बदला जा रहा है।

ई कैफे में नए विचार सामने निखर कर आते हैं। यहां #BeMyvalenTech जैसे टेक इवेंट की रचना उन्होंने की। उत्कट और रोमांचक इस आयोजन में दुनिया भर से एक हजार से ज्यादा लोगों ने भाग लिया। इसी तरह इन्वेस्टमेंट इवेंट #GetMeMoneyHoney भी सुपरहिट हुआ। इसमें दुनिया भर से 1500 से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया और सोशल मीडिया पर इसे 1.25 लाख से ज्यादा लोगों ने देखा। समकालीन उद्यमियों की जरूरतों और नब्ज पर ई कैफे सटीक पकड़ रखता है। यह वह जगह है, जहां नई उम्र के स्टार्ट अप उद्यमियों के नए और ताजातरीन विचार की सफलता की कहानियों से दो-चार हुआ जाता है। जयपुर में इन लोगों ने महिला उद्यमिता इवेंट  शुरू की, जो अपनी तरह का अनूठा उदाहरण रहा। इसे ई कैफे ने संभव किया। 2015 और 2016 में यहां 80 से ज्यादा महिला उद्यमियों ने हिस्सा लिया।

दिल्ली के कैंपिंस्का एंबिएंस में चार और पांच दिसंबर 2015 को विश्वस्तरीय इवेंट AGC 2015 का आयोजन ई कैफे की बड़ी सफलता रही। शानदार इस आयोजन में 350 से ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया। 24 घंटे के नॉन-स्टॉप इस इवेंट में सरकार से जनरल वीके सिंह शामिल थे। अमिताभ कांत, रजत टंडन, बिनोद बावरी, डॉ. निखिल अग्रवाल जैसी बड़ी-बड़ी हस्तियों से निवेश और बिजनेस नेटवर्किंग के बारे में बात करना, डांस इंटरटेनमेंट सेशन, म्यूजिक सेशन और खाने-पीने के बीच शीर्षस्थ सीईओ के साथ बात करने का मौका मिला।

इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि कम समय में ई कैफे ने दुनिया में अपना नाम कर लिया है। छह महाद्वीपों, 26 देशों और 108 शहरों में इसकी मौजूदगी हो गई है। भारत, त्तरी अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में मजबूत उपस्थिति है। ई कैफे की ऊर्जा को मिस करना किसी के लिए भी मुश्किल है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.