हैकरों के चंगुल में सेलेब्रिटी

प्रशांत श्रीवास्तव
सेलेब्रिटी बन रहे हैकरों का निशाना
सेलेब्रिटी बन रहे हैकरों का निशाना

प्रशांत श्रीवास्तव
ग्लोबल हैकर अभिनेत्रियों से लेकर सोशल मीडिया इनफ्लुएंशर जैसे लाखों फॉलोअर वालों के फेसबुक एकाउंट हैक कर लगा रहे हैं लाखों का चूना

अभिनेत्री शर्लिन चोपड़ा आज से 9 महीने पहले एक अजीब-सी समस्या से जूझ रही थीं। वे अपने करीब 18 लाख फॉलोअरों से लाख कोशिशों के बावजूद संपर्क नहीं कर पा रही थीं। उनके डिजिटल मैनेजर भी कुछ नहीं कर पा रहे थे। किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या हो गया है। चाहे मोबाइल फोन हो या लैपटॉप या सामान्य कंप्यूटर, कहीं से भी संपर्क नहीं हो रहा था। असल में अक्टूबर 2018 में शर्लिन का फेसबुक अकाउंट हैक हो गया था। शर्लिन करीब छह महीने तक इस समस्या से परेशान थीं। फेसबुक एकाउंट हैक होने से उन्हें 35-40 लाख रुपये का नुकसान हो चुका था। हैकरों के निशाने पर चढ़ीं शर्लिन कोई इकलौती सेलेब्रिटी नहीं हैं। उनकी ही तरह गुजरात में अपनी कॉमेडी के जरिए 13 लाख से ज्यादा फॉलोअर रखने वाले धवल ढोमड़िया भी हैकिंग से लाखों का नुकसान करवा चुके हैं। असल में हैकरों के निशाने पर अब ऐसे सेलेब्रिटिज या इनफ्लुएंशर हैं जिनके सोशल मीडिया पर लाखों में फॉलोअर हैं। हैकर उनका एकाउंट हैक करके उनकी पूरी गतिविधियां रोक देते हैं। ऐसे में बड़ी आसानी से सेलेब्रिटिज को लाखों का चूना हैकरों के जरिए लग जाता है।

असल में इंस्टाग्राम, यूट्‍यूब, फेसबुक ऐसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हैं, जो कई लोगों के लिए कमाई का बड़ा जरिया बन गए हैं। आपके फॉलोअर की तादाद जितनी बढ़ेगी, उतनी ही कमाई बढ़ेगी। कमाई भी देश से लेकर विदेश तक से होती है। देश में जहां कई कंपनियां इन सेलेब्स को अपने प्रोडक्ट का फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्‍यूब वगैरह पर प्रमोशन करने के लिए पैसा देती हैं। वहीं, विदेश से भी उनको पोस्टिंग के लिए पैसा मिलता है। उनकी डिमांड इतनी ज्यादा है कि एक पोस्ट के लिए सेलेब्रिटी को उसकी हैसियत के हिसाब से 300-400 डॉलर तक पैसे मिल जाते हैं। 150-200 डॉलर तो 4-5 लाख फॉलोअर रखने वाले को मिल जाते हैं। ऐसे में इन सेलेब्स के लिए 4-5 लाख रुपये महीना सोशल मीडिया से कमाना आम बात है। हैकर इसी का फायदा उठाते हैं। एक बार अगर उन्होंने अकाउंट को हैक कर लिया तो सारे के सारे फॉलोअर उनके पास चले जाते हैं। अब सारे फॉलोअर हैकर के हो जाते हैं। इसकी वजह से सेलेब्स की तरह हर पोस्ट‌िंग पर वह मोटी कमाई शुरू कर देते हैं।

वैसे कई बार सेलेब्रिटिज को परेशान करने के लिए भी हैकिंग की जाती है। जैसे शर्लिन के मामले में हैकर ने उनके फेसबुक पेज का कोई इस्तेमाल नहीं क‌िया। लेक‌िन उन्हें परेशान कर द‌िया।

इस तरह की कई सेलेब्रिटिज के अकाउंट का मामला सुलझा चुके एथिकल हैकर मनन शाह के अनुसार, “डिजिटल मार्केटिंग के दौर में सोशल मीड‌िया इनफ्लुएंशर (ऐसे लोग ज‌िनके फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब आद‌ि पर लाखों में फॉलोअर होते हैं) का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। अपनी कला और हुनर से सेलेब्रिटी कई वर्षों की मेहनत के बाद लाखों में अपने फॉलोअर बना पाते हैं। फिर, वे अपनी इस प्रसिद्धि के बल पर कमाई करते हैं। इनफ्लुएंशर को सोशल मीडिया पर व्यूज, गूगल एड, स्थानीय विज्ञापनों और पोस्टिंग वगैरह का पैसा मिलता है। ऐसे में हैकर इन लोगों से यूट्यूब, फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के नाम पर संपर्क करते हैं। ये सेलेब्स और इनफ्लुएंशर को इस तरह ऑफर करते हैं कि आप हमारे लिए पोस्टिंग करो या प्रमोशन करो, उसके बदले में आपको हर रोज का 300 डॉलर मिलेगा। ऐसे में जो सेलेब्रिटी इनके झांसे में आ जाते हैं, उन्हें अपने एकाउंट का ओटीपी दे देते हैं। इसके अलावा हैकरों ने लिंक के जरिए एक नया तरीका भी निकाला है। वह लिंक भेजकर लोगों से उस पर क्लिक कराते हैं। जैसे ही कोई इस झांसे में आता है तो एकाउंट का एडमिन राइट हैकर के पास चला जाता है और हैकर सारे आंकड़े अपने सर्वर पर प्राप्त कर लेते हैं। असल में फेसबुक में एक बिजनेस मैनेजर का ऑप्शन होता है जिसमें सुपर एडमिन का राइट होता है। क्लिक करने से यह राइट चला जाता है।”

हैकर ऐसे करते हैं मोटी कमाई

मनन के अनुसार, “एक बार सेलेब्स के एकाउंट का एडमिन राइट हैकर के पास पहुंच जाता है तो वह उससे मोटी कमाई करता है। अगर किसी इनफ्लुएंशर या सेलेब्स के 10 लाख फॉलोअर हैं, तो एक पोस्टिंग के लिए 15-20 हजार रुपये मिलना कोई बड़ी बात नहीं है। ऐसे में अगर सेलेब्स या इनफ्लुएंशर के एकाउंट को एक बार हैक कर लिया गया तो बड़ी आसानी से हैकर एक पोस्ट से 10-15 हजार रुपये की कमाई कर लेते हैं। अगर हैकर ने 30 दिन तक भी एकाउंट का इस्तेमाल कर लिया, तो चार से पांच लाख रुपये की कमाई आसानी से हो जाती है।”

सेलेब्स या इनफ्लुएंशर का जो एकाउंट हैक होता है, उसी से केवल उनकी कमाई पर असर पड़ता है। सोशल मीडिया में यूट्यूब, इंस्टाग्राम, फेसबुक, ट्विटर जैसी हर जगह से प्रमोशन वगैरह का काम किया जाता है। ऐसे में एक एकाउंट के हैक होने से दूसरे एकाउंट्स से होने वाली कमाई पर असर पड़ता है। शर्लिन चोपड़ा के डिजिटल मैनेजर सिद्धार्थ नायर कहते हैं, “जब शर्लिन का फेसबुक एकाउंट हैक हुआ तो उसकी वजह से उनके कई प्रमोशन इवेंट पर असर पड़ा। उन्होंने अपना ऐप लांच किया लेकिन उसका प्रमोशन वे फेसबुक पर नहीं कर पाईं, इससे उनकी 18 लाख फॉलोअर तक पहुंच नहीं बन पाई। इसके अलावा इंस्टाग्राम पर जो गतिविधियां शर्लिन करती हैं, उसका भी कनवर्जन फेसबुक पर नहीं हो पाया। यानी इस तरह की हैकिंग का हर जगह असर होता है।”

हैकर इस काम में इतने माहिर हैं कि झांसा देने के लिए ठीक उसी तरह का पेज और एकाउंट तैयार कर लेते हैं जैसे फेसबुक या दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इस्तेमाल करते हैं। धवल ढोमड़िया कहते हैं, “हमारे पास विदेश की किसी लोकेशन से फोन आया तो उस हैकर ने जिस तरह से मुझे अपनी पहचान बताई और ऑनलाइन डिटेल भेजी, उसे देखकर यह कहीं से नहीं लगा कि वह फेसबुक की ओर से बात नहीं कर रहा है। साथ ही उसने उनका जो लिंक भेजा था, वह भी पूरी तरह इनक्रिप्टेड था। इसकी वजह से आपको भरोसा और बढ़ जाता है। लेकिन जैसे ही उस लिंक पर मैंने क्लिक किया तो तुरंत ही मेरा एडमिन राइट खत्म हो गया। जबकि मैंने कोई ओटीपी उसे नहीं दी थी। उसके बाद उसने मेरे ऑफिशियल पेज का नाम फनी चैनल कर दिया। वह पेज मुझे वापस पाने में दो-तीन महीने लग गए।”

एक बात तो साफ हो गई है कि अब हैकरों के निशाने पर केवल आम लोग नहीं हैं, जिन्हें वे चूना लगाकर उनके बैंक एकाउंट में सेंध लगाते हैं। यह दायरा अब बढ़ गया है। तेजी से बदलती डिजिटल दुनिया में नए-नए तरह के खतरे पैदा हो रहे हैं। इस खतरे से सेलेब्स और इनफ्लुएंशर भी नहीं बचे हैं। नई तरह की हैकिंग के निशाने पर वे हैं जिनके लाखों में फॉलोअर हैं। उनके एकाउंट पर दुनिया भर के हैकरों की नजर है। अब देखना यह है कि बदलते तरीकों के बीच सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अपने सुरक्षा तंत्र को कितना मजबूत बनाते हैं, और लोगों को बढ़ते खतरे से बचने के लिए कितना जागरूक कर पाते हैं। हैकरों की काली दुनिया में हर वक्त सेंध लगाने की जोर-अाजमाइश चलती रहती है कि कैसे किसी को शिकार बनाया जाए। अब यह आप पर है कि कैसे आप जागरूक बनकर अपने को बचाते हैं।

लागा फेसबुक में चोर

शर्लिन चोपड़ा, मॉडल, अभिनेत्री

फेसबुक एकाउंट हैक होने से चपतः 35-40 लाख रुपये

मॉडल और अभ‌िनेत्री शर्लिन चोपड़ा का फेसबुक एकाउंट अक्टूबर 2018 में हैक हुआ और जब पांच महीने बाद मार्च 2019 में उसे रिवाइव किया जा सका तो उन्हें करीब 35-40 लाख रुपये की चपत लग चुकी थी। फेसबुक एकाउंट वे खुद या उनके डिजिटल मैनेजर ही देखा करते थे। अक्टूबर में एक दिन पोस्टिंग के लिए जब एकाउंट खोलने की कोशिश की गई तो लॉग इन नहीं हुआ। शर्लिन के अनुसार, “उनका पूरा फेसबुक एकाउंट ही डिलीट कर दिया गया था।” ऐसे में फेसबुक से भी कोई मदद नहीं मिल पा रही थी।

शर्लिन का एकाउंट हैक जब हुआ था, उनके करीब 18 लाख फॉलोअर थे। रिकवरी के लिए उन्होंने एवालांस ग्लोबल सॉल्यूशंस के सीईओ तथा एथिकल हैकर मनन शाह का सहारा लिया। वे उनका फेसबुक पेज वापस लाए। हालांकि इस बीच उनके फॉलोअरों की संख्या में करीब पांच लाख की कमी आ गई। इस समय फेसबुक पर उनके 13 लाख फॉलोअर हैं।

शर्लिन के मौजूदा डिजिटल मैनेजर सिद्धार्थ नायर के अनुसार, फेसबुक एकाउंट के फॉलोअर चले जाने से शर्लिन इंस्टाग्राम पर प्रमोशन नहीं कर पाईं। वजह यह कि इसके लिए उन्हें फेसबुक पेज को लिंक करना होता है। बाद में इसके लिए उन्हें नया पेज बनाना पड़ा। इंस्टाग्राम पर शर्लिन के करीब 20 लाख फॉलोअर हैं। इस बीच उनका ऐप भी लाॅन्‍च हुआ था, जिसका प्रमोशन भी फेसबुक पर नहीं हो पाया था।

झांसे में आए तो लगा चूना

धवल ढोमड़िया, इनफ्लुएंशर, कॉमेडियन

फेसबुक एकाउंट हैक होने से चपतः 5-6 लाख रुपये

धवल ढोमड़िया को छह-सात महीने पहले विदेश से एक फोन आता है। दूसरी ओर से कहा जाता है, “हम फेसबुक, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर ज्यादा फॉलोअर वाले लोगों के एकाउंट को मोनेटाइज करते हैं। वे अपने फॉलोअरों की तादाद से अच्छी-खासी कमाई कर सकते हैं, इसके लिए धवल को हर पोस्टिंग पर 150 डॉलर तक मिलेंगे।” धवल बताते हैं, “उनके इस ऑफर को मैंने स्वीकार कर लिया। इसके बाद उसने मुझे एक लिंक भेजा, जिसे मुझे क्लिक करना था। जैसे ही मैंने उसे क्लिक किया, तुरंत ही मेरा फेसबुक एकाउंट हैक हो गया। मेरा फेसबुक से एडमिन राइट चला गया। अब मैं अपने एकाउंट से कुछ भी नहीं कर पा रहा था। मेरे एकाउंट की अथॉरिटी मेरे पास से चली गई। हैकर के पास मेरे सारे फॉलोअर चले गए।”

धवल के अनुसार वे अपने फेसबुक एकाउंट के जरिए पूरे गुजरात में कंपनियों के लिए विज्ञापन करते थे, जिससे उन्हें अच्छी कमाई हो जाती थी। लेकिन जब एकाउंट हैक हुआ, वे कोई भी विज्ञापन नहीं कर पा रहे थे। इस कारण उन्हें चार से पांच महीने में पांच से छह लाख रुपये का नुकसान हो गया। ऊपर से उनके सारे फॉलोअर उनसे दूर हो गए। धवल के अनुसार उनकी गलती यह थी कि उन्होंने बिना कुछ सोचे-समझे उस लिंक पर क्लिक कर दिया, जबकि उन्हें पहले उसकी जांच पड़ताल करनी चाहिए थी। लेकिन वे कहते हैं, “जैसे वह बात कर रहा था, उससे कहीं से नहीं लग रहा था कि वह हैकर है। एकाउंट हैक होने से न केवल मुझे पैसों का नुकसान हुआ, बल्कि फॉलोअर भी कई महीने तक दूर रहे। उसके बाद एथिकल हैकर के सहयोग से न केवल मेरा एकाउंट वापस मिला, बल्कि सारे फॉलोअर भी वापस मिल गए। लेकिन इसकी वजह से मेरे बिजनेस पर काफी असर पड़ गया।”

कमाई के चक्कर में लुटे

राहुल, सोशल मीड‌िया इनफ्लुएंशर

फेसबुक पेज- नेशनल बॉयोग्राफी चैनल

हैक कर चपतः 20-21 लाख रुपये

भारत और स‌िंगापुर से काम करने वाले राहुल का नेशनल बॉयोग्राफी चैनल नाम से फेसबुक पेज था। उसे वे और उनका पार्टनर देखता था। इस साल जनवरी के महीने में एक दिन उनके पार्टनर के पास ब्रिटेन से फोन आया। फोन पर दूसरी ओर से किसी ने कहा कि वह उनके पेज को मोनेटाइज कर सकता है, जिससे अच्छी कमाई होगी। इसके लिए उन्हें 200 डॉलर की फीस देनी होगी। राहुल कहते हैं, “मेरा पार्टनर मुझसे बातचीत करके इसके लिए तैयार हो गया। उसके बाद उन लोगों ने कुछ स्‍क्रीन शॉट भेजे, जिससे पता चलता था कि उसे फेसबुक ने इस तरह के काम के लिए एक्सेस राइट दे रखा है। कुछ लोग थर्डपार्टी के रूप में फेसबुक के लिए काम करते हैं। हमारी मंजूरी के बाद उसने फेसबुक के तरफ से एक ई-मेल भेजा, जहां पर हमें फॉर्म भरना था। फेसबुक के चैटबॉक्स से ही फॉर्म मिला था, इसलिए हमने उसे भर दिया। उसके कुछ दिनों बाद उसका फोन आया कि आपको फिर से फॉर्म भरना होगा। हमने फिर से फॉर्म भरा। जैसे ही हमने मंजूरी दी, उसके 30 मिनट बाद ही मेरा एडमिन राइट खत्म हो गया। उसने थर्डवेबसाइट को फेसबुक से इंटीग्रेट करके हमारा सारा डाटा चुरा लिया।”

राहुल के अनुसार, वेबसाइट पर पोस्ट डालकर हम रोज 300 डॉलर की कमाई करते थे। लेकिन एडमिन राइट चले जाने के बाद सब कुछ बंद हो गया। हम आराम से हर महीने 6-7 लाख रुपये की कमाई करते थे। मार्च तक हमें करीब 20-21 लाख रुपये का नुकसान हो गया। हमने फेसबुक से बात की, तो उनका कहना था कि सारे स्टेप हमने खुद किए, इसलिए फेसबुक उसे हैकिंग नहीं मानता है। लेकिन एक बात तो तय है कि पोर्टल के जरिए ही एकाउंट को हैक किया गया था। इसके बाद हमने नया पेज बनाया, अब हमारे 4.5 लाख फॉलोअर फिर से बन गए हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से