Home » एग्रीकल्चर » पालिसी » भारत सहित एशियाई देशों की खेती पर फॉल आर्मीवर्म का संकट

भारत सहित एशियाई देशों की खेती पर फॉल आर्मीवर्म का संकट

MAR 22 , 2019
संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन ने भारत सहित पूरे एशियाई देशों को "फॉल आर्मीवर्म" नामक कीडे के...

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन ने भारत सहित पूरे एशियाई देशों को "फॉल आर्मीवर्म" नामक कीडे के प्रकोप से निपटने के लिए सावधान किया है। यह कीड़ा फसलों को पूरी तरह से कुतर कर तबाह कर सकता है। बैंकॉक में संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन द्वारा आयोजित बैठक में भारत सहित एशियाई देशों को फॉल आर्मीवर्म नामक कीड़ें से सावधान रहने के लिए आगाह किया गया।

Advertisement

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन के उपमहानिदेशक कंधवी कदिरेसन ने एक विज्ञप्ति जारी कर कहा कि फॉल आर्मीवर्म नामक कीड़ा पिछले कुछ सालों में अमेरिका से होते हुए अफ्रीका पहुंचा। यहां कीड़ा अफ्रीका की खेती को बुरी तरह से तबाह कर रहा है। इसके प्रकोप से यहां की खेती को लगभग तीन अरब अमेरिकन डॉलर का नुकसान हुआ है।

जिस देशों ने इससे निपटने के उपाए किए, उनसे  सीखने की जरुरत

कंधवी ने कहा कि यह कीड़ा तेजी से एशियाई देशों में अपना पांव पसार रहा है। इससे निपटने के लिए सभी देशों को ठोस कदम उठाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि उन देशों से सीखने की भी जरूरत है जिन देशों में इस कीड़े से निपटने के लिए उपाय किए गए हैं। कंधवी ने कहा कि यह कीड़ा भारत में वर्ष 2018 जुलाई में देखा गया। उन्होंने कहा कि यूएनएफएओ को इस बात का अंदेशा था कि वो भारत पहुंचने वाला है। इसलिए भारत को पहले ही अलर्ट कर दिया गया था। जिससे भारत सरकार किसानों को जागरुक कर सके।

सभी देशों को मिलकर करना होगा साझा प्रयास

कंधवी ने कहा कि अब यह कीड़ा म्यानमार, चीन, थाईलैंड, बांग्लादेश, श्रीलंका में तेजी से पांव पसार रहा है। जिससे यहां की खेती तबाह हो सकती है। इसके लिए सभी देशों को मिलकर साझा प्रयास कर फसलों को बचाना होगा। उल्लेखनीय है कि यह कीड़ा मक्का के अलावा धान, कपास और गन्ना समेत 180 पादप प्रजातियों को बर्बाद कर सकता है। इस कीड़े की प्रज्जन क्षमता ज्यादा है, जिस कारण मक्का, धान या फिर गन्ने की फसलों को यह रातोंरात नष्ट कर सकता है।

भारत में एसएबीसी इससे निपटने के लिए कर रहा काम

कृषि कीट फॉल आर्मीवार्म से खेती की रक्षा के लिए भारत में दक्षिण एशिया बायोटेक्नोलॉजी सेंटर (एसएबीसी) जोकि एक गैर-लाभकारी कृषि वैज्ञानिक संगठन है ने एफएमसी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ मिलकर एक महत्वपूर्ण और बहु-वर्षीय परियोजना शुरू की हुई है। भारत में पिछले दो सत्रों, खरीफ और रबी 2018 में फॉल आर्मीवॉर्म किसानों और भारतीय खेती के लिए एक बड़ा खतरा बन गया है, क्योंकि इसकी उपस्थिति से विशेष रूप से मक्का की फसल को भारी नुकसान हुआ है।

यह कीड़ा फसल के शुरू में ही करता है हमला

यह फसल पर शुरूआती चरणों में ही हमला कर देता है और बड़े पैमाने पर आक्रामक व्यवहार तथा उच्च प्रजन्न क्षमता के कारण फसल पर ज्यादा प्रभाव डालता है। विशेष रूप से, फॉल आर्मीवॉर्म कई स्थानीए फसलों पर हमला करता है जैसे स्वीट कॉर्न, बेबी कॉर्न, मक्का, गन्ना और ज्वार के साथ ही कई अन्य महत्वपूर्ण खाद्यान्न फसलों को प्रभावित कर सकता है। कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, बिहार, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल आदि राज्यों में इस कीट के मिलने की सूचना मिली है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.