Home रहन-सहन सामान्य बिट किट जिमखाना का इनोवेटिव प्रोग्राम, किरण श्रीवास्तव को मिला सोशल एक्सीलेंस अवार्ड

बिट किट जिमखाना का इनोवेटिव प्रोग्राम, किरण श्रीवास्तव को मिला सोशल एक्सीलेंस अवार्ड

आउटलुक टीम - JAN 12 , 2020
बिट किट जिमखाना का इनोवेटिव प्रोग्राम, किरण श्रीवास्तव को मिला सोशल एक्सीलेंस अवार्ड
विशेष व्यक्तियों के लिए बिट किट जिमखाना का इनोवेटिव प्रोग्राम, किरण श्रीवास्तव को मिलेगा सम्मान
आउटलुक टीम

विशिष्ट शिक्षा और प्रशिक्षण के जरूरतमंद लोगों (मानसिक रूप से कमजोर, नेत्रहीन, मूक-बघिर आदि) को विशेष ट्रेनिंग देकर उनके पुनर्वास और समाज की मुख्यधारा में शामिल करने के काम में लगे गुरुग्राम के गैर सरकारी संगठन बिट किट जिमखाना को समाज में उसके असाधारण योगदान के लिए सोशल एक्सीलेंस अवार्ड से सम्मानित किया गया। एनजीओ बिट किट जिमखाना की प्रमुख किरण श्रीवास्तव को गुरुग्राम के विधायक सुधीर सींगला ने आज गुरुग्राम में आयोजित समारोह में इस अवार्ड से सम्मानित किया। गुरुग्राम के न्यू पालम विहार स्थित एनजीओ की खासियत यह है कि जरूरतमंद लोगों के पूरे परिवार को ट्रेनिंग में शामिल करता है।

एनजीओ का संचालन एके किरण फाउंडेशन ट्रस्ट की संस्थापक ट्रस्टी किरण श्रीवास्तव द्वारा विशेष व्यक्तियों के लिए किया जाता है। ब्रिगेडियर (रिडायर्ड) अनिल श्रीवास्तव की पत्नी किरण श्रीवास्तव पहले विभिन्न स्थानों पर 15 वर्षों तक सेना के आशा स्कूलों में प्रिंसिपल रह चुकी हैं। उन्होंने ट्रस्ट की स्थापना 2002 में की थी जबकि एनजीओ की स्थापना 2018 में की थी।

इस एनजीओ की स्थापना विशिष्ट आवश्यकता वाले लोगों के जीवन में बदलाव लाने के उद्देश्य से किया गया था। विशेष आवश्यकताओं वाले व्यक्तियों के परिजनों को तमाम तरह कि दिक्कतें उठानी पड़ती है, प्रायः समाज में शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है। खासतौर पर परिवारों की दिक्कतें उस समय और बढ़ जाती है, अगर विशेष व्यक्ति कोई महिला है। किरण श्रीवास्तव की खास पहल पर एनजीओ ने विशेष व्यक्तियों के लिए यह कार्यक्रम बनाया है। विशेष व्यक्तियों के पुनर्वास की नई अवधारण के तहत उन्हें व्यावसायिक प्रशिक्षण देने के लिए समूचे उसके परिवार को जोड़ा जाता है। इस तरह के दस परिवार एनजीओ के साथ जुड़कर काम कर रहे हैं। सामुदायिक स्तर पर विशेष व्यक्तियों के पुनर्वास और समाज से जोड़ने का प्रोग्राम चले रहे इस एनजीओ के सीईओ संदीप अरोड़ा का भी खास योगदान है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से