Home एग्रीकल्चर मौसम मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्रप्रदेश और तेलंगाना समेत कई राज्यों में बारिश का अनुमान, मानसून की विदाई शुरू
मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्रप्रदेश और तेलंगाना समेत कई राज्यों में बारिश का अनुमान, मानसून की विदाई शुरू
मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्रप्रदेश और तेलंगाना समेत कई राज्यों में बारिश का अनुमान, मानसून की विदाई शुरू

मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्रप्रदेश और तेलंगाना समेत कई राज्यों में बारिश का अनुमान, मानसून की विदाई शुरू

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार अगले 24 घंटों में मध्य महाराष्ट्र, तटीय आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक और केरल में कई जगहों पर तेज बारिश होने का अनुमान है। इसके अलावा पूर्वोत्तर के राज्यों अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के अलावा लक्षद्वीप, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, कोंकण और गोवा तथा मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों में भी हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग के अनुसार अक्टूबर में गुजरात रीजन में सामान्य से 500 फीसदी अधिक और सौराष्ट्र और कच्छ में 333 फीसदी अधिक बारिश हो चुकी है। इसके अलावा पश्चिम राजस्थान में इस दौरान 569 फीसदी और पूर्वी राजस्थान में 381 फीसदी सामान्य से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। पंजाब में 213 फीसदी, हिमाचल प्रदेश में 130 फीसदी तथा उत्तराखंड में अक्टूबर में सामान्य से 125 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है। पश्चिम मध्य प्रदेश में अक्टूबर में सामान्य से 148 फीसदी और पूर्वी मध्य प्रदेश में 28 फीसदी ज्यादा बारिश हुई। खरीफ फसलों की कटाई का समय चल रहा है, ऐसे में तेज बारिश से फसलों की कटाई तो प्रभावित हो ही रही है, साथ ही फसल की क्वालिटी भी इससे प्रभावित होगी।

मानसून की विदाई शुरू

दक्षिणी पश्चिम मानसून ने चार महीने बरसात के मौसम के बाद बुधवार से अपनी विदाई शुरू कर ली। मौसम विभाग ने एक बयान में कहा कि उत्तर पश्चिम भारत में प्रति चक्रवात स्थिति बनने और नमी वाली स्थिति में लगातार कमी के बाद अब मानसून पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान से आज विदा हो गया। वैसे मानसून की विदाई की सामान्य तारीख एक सितंबर थी। सबसे विलंब में मानसून की दर्ज विदाई 1961 में एक अक्टूबर को हुई थी। वहीं इसके बाद 2007 में 30 सितंबर को विलंब से मानसून की विदाई हुई थी। अगले दो-तीन दिन में भारत के अन्य हिस्सों से भी मानसून की विदाई की स्थिति बन गई है।

हरियाणा के ऊपर बना हुआ है एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र

मौसम की निजी जानकारी देने वाली एजेंसी स्काईमेट के अनुसार हरियाणा के ऊपर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ हैं तथा एक ट्रफ रेखा मध्य पाकिस्तान से पश्चिम उत्तर प्रदेश तक फेली हुई हैं। उधर गंगीय पश्चिम के आंतरिक हिस्सों और इससे सटे भागों पर भी एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। एक अन्य चक्रवाती सिस्टम बिहार से लेकर गंगा के पश्चिम बंगाल की तरफ बढ़ रहा है जबकि एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण तटीय ओडिशा और उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश के सटे इलाको पर बना हुआ है। इस मौसमी प्रणाली से एक ट्रफ रेखा गंगीय पश्चिम बंगाल से होते हुए रायलसीमा तक पहुँच रही है।

दक्षिण के कई राज्यों में पिछले 24 घंटों के दौरान हुई बारिश

पिछले 24 घंटों के दौरान आंतरिक तमिलनाडु और दक्षिण कर्नाटक के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश दर्ज की गई। असम, नागालैंड, गंगीय पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ हिस्सों, जैसे आंतरिक तमिलनाडु, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, कोंकण और गोवा में एक या दो स्थानों पर भारी बारिश के साथ हल्की से मध्यम बारिश हुई। मध्य महाराष्ट्र, झारखंड, छत्तीसगढ़, दक्षिण केरल, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, तटीय आंध्रप्रदेश, तेलंगाना के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखी गई जबकि दक्षिण गुजरात, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और बिहार में हल्की छिटपुट बारिश देखी गई।