Home एग्रीकल्चर मौसम जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश में बारिश होने का अनुमान, उत्तर भारत में बढ़ा तापमान
जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश में बारिश होने का अनुमान, उत्तर भारत में बढ़ा तापमान
जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश में बारिश होने का अनुमान, उत्तर भारत में बढ़ा तापमान

जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश में बारिश होने का अनुमान, उत्तर भारत में बढ़ा तापमान

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के पश्चिमी विक्षोभ के कारण अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश के साथ ही पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश होने का अनुमान है। उत्तर भारत के राज्यों में न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी दर्ज की गई।

मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के अनुसार जम्मू और कश्मीर के उत्तर में एक पश्चिमी विक्षोभ बना हुआ है, जिसका भारतीय क्षेत्र पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। उधर उत्तरी पाकिस्तान पर भी एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र विकसित है जबकि एक अन्य चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र पूर्वी असम पर बना हुआ है और एक विपरीत चक्रवात दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश और उससे सटे उत्तरी-मध्य महाराष्ट्र पर दिखाई दे रहा है।

किसान फसलों में हल्की सिंचाई करें

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (आईएआरआई) के कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार 15 फरवरी को हवा (15-20 किमी प्रति घंटा) चलने की संभावना है। तापमान बढ़ने की संभावना को देखते हुए किसानों को सलाह है कि फसलों तथा सब्जियों में आवश्यकतानुसार हल्की सिंचाई करें। मौसम को ध्यान में रखते हुए किसान गेहूं की फसल में रोगों, विशेषकर रतुआ की निगरानी करते रहें। शुष्क तथा बढ़ते तापमान को ध्यान में रखते हुए किसान सभी सब्जियों तथा सरसों की फसल में चेपा के आक्रमण की निगरानी करते रहें।

पश्चिमी विक्षोभ के कश्मीर से आगे निकलने से बारिश और बर्फबारी में कमी आई

पश्चिमी विक्षोभ के कश्मीर से आगे निकलने के बाद पहाड़ों पर बारिश और बर्फबारी कम हो गई है। हालांकि अगले 24 घंटों के दौरान जम्मू और कश्मीर के कुछ इलाकों में हल्की बारिश जारी रह सकती है। अरुणाचल प्रदेश में भी बारिश और बर्फबारी होने की उम्मीद है, जबकि पूर्वी असम, नागालैंड और मेघालय के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश की संभावना है। देश के बाकी हिस्सों में मौसम शुष्क रहेगा।

जम्मू कश्मीर में हल्की से मध्यम बारिश और बर्फबारी हुई

पिछले 24 घंटों के दौरान जम्मू व कश्मीर में हल्की से मध्यम बारिश और बर्फबारी दर्ज हुई है। हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश और ओडिशा में न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की गई है। जबकि गुजरात, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में रात के तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट देखी गई। देश के बाकी हिस्सों का मौसम लगभग शुष्क बना रहा।

अगले 24 घंटों में उत्तर भारत में फिर से तापमान में हल्की कमी आने का अनुमान

उत्तर भारत में आये मौसम के बदलाव के लिए पश्चिमी विक्षोभ को जिम्मेदार माना जा रहा है। पश्चिमी विक्षोभ पिछले 2-3 दिनों के दौरान पश्चिमी हिमालय को प्रभावित करता रहा था। पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तर पश्चिमी मैदानी इलाकों में हवा का रुख बदल गया था। सर्द उत्तर पश्चिमी हवाएं पहाड़ों से चलना बंद हो गई थी और पाकिस्तान और राजस्थान से होकर गर्म आ रही थीं जिससे तापमान में वृद्धि दर्ज की गई थी। रेगिस्तानी इलाकों में तापमान पहले ही 30 डिग्री के स्तर को पार कर चुका है यही वजह है कि इन भागों से आने वाली गर्म हवाएं मैदानी भागों में तापमान को बढ़ा रही हैं। दिन के तापमान में ही नहीं बल्कि न्यूनतम तापमान में भी वृद्धि हुई है और अब यह 10 से 13 डिग्री सेल्सियस के बीच पहुंच गया है। कई जगहों पर पारा सामान्य से ऊपर पहुंच गया है। मौसम विशेषज्ञों का मानना है कि अगले 24 घंटों में हवाओं का रुख बदल जायेगा। ठंडी हवाएं कल से प्रभावी हो जाएंगी जिससे तापमान में कुछ गिरावट आएगी। हालांकि तापमान में अब भारी कमी की सम्भावना नहीं है क्योंकि मौसम में बदला का समय आ गया है।