Home एग्रीकल्चर मौसम मानसून पश्चिम एवं मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचा, चालू सप्ताह में चाल रहेगी कमजोर
मानसून पश्चिम एवं मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचा, चालू सप्ताह में चाल रहेगी कमजोर
मानसून पश्चिम एवं मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचा, चालू सप्ताह में चाल रहेगी कमजोर

मानसून पश्चिम एवं मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचा, चालू सप्ताह में चाल रहेगी कमजोर

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार दक्षिण पश्चिम मानसून पश्चिम भारत के साथ ही मध्य भारत के अधिकांश हिस्सों तक पहुंच चुका है लेकिन इस सप्ताह मानसून की प्रगति धीमी रहेगी इसलिए उत्तर भारत के राज्यों को अभी इंतजार करना पड़ेगा।

मौसम विभाग के अनुसार मानसून मध्य अरब सागर, उत्तर-पूर्व अरब सागर के कुछ हिस्से, गुजरात, दादरा और नगर हवेली, मुंबई सहित महाराष्ट्र के बाकी हिस्से, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्से, छत्तीसगढ़ के अधिकांश हिस्से, झारखंड और बिहार के कुछ और हिस्सों तक पहुंच चुका है। आईएमडी का कहना है कि अगले 48 घटों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के उत्तरी अरब सागर के कुछ और हिस्सों, गुजरात, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के बचे हुए हिस्सों, पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्से, झारखंड और बिहार के बचे हुए हिस्सों में पहुंचने के लिए अनुकूल स्थितियां बन रही हैं लेकिन इस सप्ताह मानसून की आगे की चाल सुस्त रहेगी।

आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने कहा है कि इस सप्ताह बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक और निम्न दबाव वाला क्षेत्र बन सकता है जिससे मानसून को आगे बढ़ने में सहायता मिलेगी। बता दें कि निम्न दबाव वाला क्षेत्र एक साईक्लोन सर्कुलेशन होता है जोकि मानसून की प्रगति में सहायता करता है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 4-5 घंटों में महाराष्ट्र, गुजरात, केंद्रीय और पूर्वी भारत के अधिकांश हिस्सों में व्यापक बारिश देखने को मिल सकती है। वहीं, कोंकण, गोवा, मध्य प्रदेश और गुजरात के कई हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश देखने को मिल सकती है।

जून में मध्य भारत में सामान्य से 94 फीसदी ज्यादा हुई है बारिश

मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक जून मध्य तक देश में 31 फीसदी ज्यादा बारिश हो चुकी है। चार मेट्रोलॉजिकल डिवीजन में से दक्षिण प्रायद्वीप में 31 फीसदी से ज्यादा बारिश हुई है। वहीं, मध्य भारत में 94 फीसदी ज्यादा और उत्तर-पश्चिम भारत में 19 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है। हालांकि पूर्वी और उत्तर-पूर्वी भारत में सामान्य से 4 फीसदी कम बारिश हुई है। मौसम विभाग ने चालू सीजन में मानसून के सामान्य रहने की घोषणा की है।

15 जून को मानसून गुजरात और मध्य प्रदेश के मध्य भागों तक पहुँच गया

मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के अनुसार वर्ष 2020 में मानसून की अभी तक प्रगति अच्छी है। 15 जून को मानसून गुजरात और मध्य प्रदेश के मध्य भागों तक पहुँच गया। बिहार और झारखंड को पार करते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती इलाकों में मानसून ने दस्तक दे दी। पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, छतीसगढ़, महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में भारी वर्षा के आसार है। अब मानसून का इंतजार मध्य प्रदेश और गुजरात के बाकी हिस्सों तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुछ और इलाकों में हो रहा है।