Home एग्रीकल्चर मौसम महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर, सांगली में जनजीवन धीरे-धीरे हो रहा है सामान्य
महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर, सांगली में जनजीवन धीरे-धीरे हो रहा है सामान्य
महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर, सांगली में जनजीवन धीरे-धीरे हो रहा है सामान्य

महाराष्ट्र में बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर, सांगली में जनजीवन धीरे-धीरे हो रहा है सामान्य

महाराष्ट्र में बाढ़ से प्रभावित कोल्हापुर और सांगली जिलों में जनजीवन धीरे-धीरे सामान्य हो रहा है, इन क्षेत्रों में बाढ़ का पानी कम हो रहा है। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि दोनों जिलों की प्रमुख नदियाँ भी अब खतरे के निशान से नीचे बह रही हैं।

पश्चिमी महाराष्ट्र और कोंकण क्षेत्र में भारी बारिश के बाद आई बाढ़ से कोल्हापुर और सांगली सबसे अधिक प्रभावित हुए थे, जहां मंगलवार तक 6.45 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया। कलेक्ट्रेट के एक अधिकारी ने कहा कि कोल्हापुर में, जनजीवन धीरे-धीरे फिर से सामान्य हो रहा है। राहत कार्य और विभिन्न सेवाओं को बहाल करने का काम जोरों पर है।

शिरोल तहसील की स्थिति में भी सुधार

उन्होंने कहा कि बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित शिरोल तहसील की स्थिति में भी सुधार हुआ है। वहां अधिकतम मदद पहुंचाई जा रही है। अधिकारी ने कहा कि बुधवार की सुबह, कोल्हापुर के राजाराम बांध में पंचगंगा नदी का जल स्तर 42.11 फुट रहा जबकि खतरे का निशान 43 फुट पर है।

कृष्णा नदी खतरे के निशान से नीचे

सांगली में भी बाढ़ का पानी घट रहा है और कृष्णा नदी खतरे के निशान से नीचे बह रही है।सांगली कलक्ट्रेट के एक अधिकारी ने कहा कि बुधवार को सुबह छह बजे, इरविन पुल पर कृष्णा नदी का जल स्तर 45 फुट के खतरे के निशान से कम, 41.9 फुट था। इससे पहले संभागीय आयुक्त डॉ. दीपक म्हैसेकर ने कहा कि मंगलवार तक, पश्चिमी महाराष्ट्र के पांच जिलों सांगली, कोल्हापुर, पुणे, सतारा और सोलापुर में बाढ़ से संबंधित घटनाओं में 49 लोगों की मौत हो चुकी है।

एजेंसी इनपुट