Home एग्रीकल्चर मौसम कनार्टक और हिमाचल प्रदेश में आगामी 24 घंटों में भारी बारिश का अनुमान
कनार्टक और हिमाचल प्रदेश में आगामी 24 घंटों में भारी बारिश का अनुमान
कनार्टक और हिमाचल प्रदेश में आगामी 24 घंटों में भारी बारिश का अनुमान

कनार्टक और हिमाचल प्रदेश में आगामी 24 घंटों में भारी बारिश का अनुमान

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान तटीय कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश होने का अनुमान है। उत्तराखण्ड, पंजाब के पूर्वी भाग, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पूर्वी मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, उत्तरी आंध्र प्रदेश और तेलंगाना तथा विदर्भ के उत्तरी भागों में कहीं हल्की तो कहीं मध्यम बारिश होने के आसार हैं।

मौसम विभाग के अनुसार तटीय कर्नाटक के अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है। अगले 24 घंटों में चामराजनगर, रामनगर, चिक्काबल्लापुर, बैंगलोर शहरी, बैंगलोर ग्रामीण, मंड्या और कोलार जिलों में अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम की जानकारी देने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट के अनुसार हरियाणा के दक्षिणी भाग तथा उससे सटे उत्तरी राजस्थान के भागों पर एक चिन्हित निम्न दवाब क्षेत्र बना हुआ है। मानसून की अक्षीय रेखा उत्तरी राजस्थान से मध्य प्रदेश और झारखंड के उत्तरी भाग तथा गंगीय पश्चिम बंगाल से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक जा रही है।

मानसूनी बारिश सामान्य से 2 फीसदी कम

आईएमडी के अनुसार चालू मानसूनी सीजन में पहली जून से 17 अगस्त तक देशभर में मानसूनी बारिश सामान्य से 2 फीसदी कम दर्ज की गई। इस दौरान औसतन 615.3 मिलीमीटर बारिश होती है जबकि चालू सीजन में 604.1 मिलीमीटर बारिश हुई है। इस दौरान देशभर के 58 फीसदी हिस्से में सामान्य, 22 फीसदी में सामान्य से ज्यादा और 4 फीसदी बहुत ज्यादा बारिश हुई है जबकि देशभर के 16 फीसदी हिस्से में अभी भी सामान्य से कम बारिश हुई है।

उत्तर भारत के कई राज्यों में अभी भी सामान्य से कम हुई बारिश

चालू मानसूनी सीजन के पहले महीने जून में जहां मानसूनी बारिश सामान्य से 33 फीसदी कम हुई थी, वहीं जुलाई में यह आंकड़ा 9 फीसदी कम था। अगस्त के पहले दो सप्ताह में कई राज्यों में औसत से ज्यादा बारिश हुई है। पहली अगस्त से 14 अगस्त तक मध्य महाराष्ट्र में औसत से 70 फीसदी, पश्चिम मध्य प्रदेश में 30 फीसदी, गुजरात रीजन में 22 फीसदी, सौराष्ट्र और कच्छ में 23 फीसदी, पूर्वी राजस्थान में 28 फीसदी तथा एन ई कर्नाटक में 40 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है। हालांकि उत्तर भारत के कई राज्यों में अभी भी बारिश सामान्य से कम हुई है। पहली जून से 17 अगस्त तक उत्तर प्रदेश में सामान्य से 20 फीसदी, उत्तराखंड में 29 फीसदी, हरियाणा में 32 फीसदी और हिमाचल में सामान्य से 21 फीसदी बारिश कम दर्ज की गई है। पूर्वोत्तर भारत के मणिपुर में इस दौरान सामान्य से 60 फीसदी कम और झारखंड में 33 फीसदी बारिश कम हुई है।

बीते 24 घंटों में राजस्थान, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश में हुई तेज बारिश

स्काईमेट के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान, राजस्थान, तमिलनाडु, गंगीय पश्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश के हिस्सों में मानसून की जोरदार स्थिति देखी गई। उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, पूर्वी गुजरात, झारखंड, ओडिशा, आंध्र प्रदेश और दक्षिणी कर्णाटक के हिस्सों में इस दौरान मानसून सक्रिय रहा। इस दौरान, विदर्भ, मराठवाड़ा और रायलसीमा में मानसून कमजोर बना रहा।