Home एग्रीकल्चर मौसम भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात, खरीफ फसलों को नुकसान की आशंका
भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात, खरीफ फसलों को नुकसान की आशंका
भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात, खरीफ फसलों को नुकसान की आशंका

भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात, खरीफ फसलों को नुकसान की आशंका

जून-जुलाई में कम बारिश से जहां देश के कई राज्यों में सूखे जैसे हालात बने हुए थे, वहीं अगस्त के पहले सप्ताह में हुई भारी बारिश से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात बने गए हैं। बाढ़ के कारण महाराष्ट्र, कर्नाटक और मध्य प्रदेश आदि राज्यों के कई जिलों में खरीफ फसलों को नुकसान की आशंका है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान गुजरात, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कई जिलों में भारी से भारी बारिश होने की संभावना है।

मौसम विभाग के अनुसार गुरुवार को मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। मध्य प्रदेश में भोपाल, सीहोर समेत 29 जिलों में बारिश का रेड अलर्ट है। महाराष्ट्र और कर्नाटक के कई जिलों में पहले ही बाढ़ आई हुई है ऐसे में तेज बारिश से मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।

अगस्त के पहले सप्ताह में कई राज्यों में सामान्य से ज्यादा बारिश

मौसम विभाग के अनुसार पहली अगस्त से सात अगस्त के दौरान महाराष्ट्र में बारिश सामान्य से 161 फीसदी, कर्नाटक में 128 फीसदी, तेलंगाना में 148 फीसदी, आंध्रप्रदेश में 53 फीसदी, गुजरात में 112 फीसदी और राजस्थान में 44 फीसदी ज्यादा हुई है। इस दौरान देशभर में बारिश सामान्य से 28 फीसदी ज्यादा दर्ज की कई। पहली अगस्त से सात अगस्त तक जहां देश के चार राज्यों में बारिश सामान्य से ज्यादा हुई वहीं 8 राज्यों में भारी से भी भारी हुई है। हालांकि देश के 11 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में अभी बारिश सामान्य से कम ही हुई है। चालू मानसूनी सीजन में पहली जून से सात अगस्त तक देशभर में बारिश सामान्य से 5 फीसदी कम हुई है। इस दौरान देशभर में केवल 492.7 मिलीमीटर बारिश ही हुई है जबकि औसतन इस दौरान 516.4 मिलीमीटर होती है।

महाराष्ट्र से 2.5 लाख और कर्नाटक से 26 हजार लोगों को निकाला गया

महाराष्ट्र में अब तक 2.5 लाख और कर्नाटक में 26 हजार लोगों को रेस्क्यू किया गया। दोनों राज्यों में बाढ़ राहत कार्यों के लिए 1 हजार सैन्यकर्मी तैनात हैं। कर्नाटक और आंध्र प्रदेश की कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। कर्नाटक में भारी बारिश के कारण 15 जिलों में बाढ़ के हालात बन चुके हैं। कृष्णा और उसकी सहायक नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। कई जगहों पर रेल और सड़क का संपर्क टूट गया है।

कोल्हापुर और सांगली में स्थिति खराब

महाराष्ट्र के महाबलेश्वर ने लगातार दूसरे साल बारिश के मामले में मेघालय के चेरापूंजी को पीछे छोड़ दिया है। पश्चिमी महाराष्ट्र में खास तौर पर कोल्हापुर और सांगली जिलों में बाढ़ की स्थिति भयावह होने के बाद 1.32 लाख से ज्यादा लोगों ने सुरक्षित स्थानों पर शरण ली है। यहां लगातार हुई बारिश से यह स्थिति उत्पन्न हुई है।

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कई जिलों में तेज बारिश का अनुमान

मध्यप्रदेश के भोपाल सहित कुल 29 जिलों में मौसम विभाग ने बारिश का अलर्ट जारी किया है। मध्यप्रदेश के अलावा छत्तीसगढ़ में भी अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग का कहना है कि दोनों राज्यों के अधिकांश जिलों में अगले 24 घंटे में मुसलाधार बारिश हो सकती है। मध्य प्रदेश के अनूपपुर, डिंडौरी, उमरिया, शहडोल, कटनी, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, छिंदवाड़ा, सिवनी, सागर, दमोह, रायसेन, विदिशा, सीहोर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, धार, नीमच, मंदसौर, श्योपुर कला खरगौन, राजगढ़, गुना, श्योपुर, अशोक नगर और भोपाल में तेज बारिश का अनुमान है। उधर छत्तीसगढ़ के रायपुर, बलौदा बाजार, महासमुंद, धमतरी, नारायणपुर, बस्तर, बीजापुर, दंतेवाड़ा और सुकमा में अगले 24 घंटों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

बीते 24 घंटों में हुई बारिश

पिछले 24 घंटों के दौरान, छत्तीसगढ़, ओडिशा, कोंकण, केरल और कर्नाटक तट पर भारी बारिश देखी गई। इस दौरान पूर्वोत्तर राज्यों, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, गंगीय पश्चिम बंगाल, झारखंड, तेलंगाना, मध्य महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और उत्तर आंतरिक कर्नाटक के दक्षिणी भागों में मध्यम बारिश देखी गई। राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली में कई जगहों पर बारिश हुई।