Home एग्रीकल्चर मौसम आधा मानसून बीतने के बाद भी देश का 35 फीसदी हिस्सा सूखा
आधा मानसून बीतने के बाद भी देश का 35 फीसदी हिस्सा सूखा
आधा मानसून बीतने के बाद भी देश का 35 फीसदी हिस्सा सूखा

आधा मानसून बीतने के बाद भी देश का 35 फीसदी हिस्सा सूखा

मानसूनी सीजन के पहले दो महीने जून और जुलाई बीतने के बावजूद भी देश के 35 फीसदी हिस्से में मानसूनी बारिश सामान्य से कम होने के कारण सूखे जैसे हालात है। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के अनुसार 36 सब डिवीजनों में से 14 में बारिश सामान्य से कम हुई है जबकि इस दौरान 19 सब डिवीजनों में सामान्य और 3 में सामान्य से ज्यादा बारिश हुई है। बारिश की कमी के कारण खरीफ फसलों खासकर के दलहन और मोटे अनाजों की बुआई ज्यादा प्रभावित हुई है।

आईएमडी के अनुसार पहली जून से 31 अगस्त तक देशभर में मानसूनी बारिश सामान्य से 9 फीसदी कम दर्ज की गई है जबकि जून के अंत में बारिश की कमी का आकड़ा 33 फीसदी कम था। पहली जून से 31 अगस्त तक देशभर में मानसूनी बारिश 410.5 मिलीमिटर ही हुई है जबकि सामान्यत: इस दौरारन 452.2 मिलीमिटर बारिश होती है। आईएमडी के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार जुलाई में बारिश में सुधार आया है तथा अगस्त-सितंबर में अच्छी बारिश होने का अनुमान है। अगस्त में दक्षिण-पश्चिम मानसूनी बारिश लंबी अवधि के औसत की 99 फीसदी और अगस्त-सितंबर में 100 फीसदी होने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि अगस्त में अच्छी बारिश से खरीफ फसलों की बुआई में सुधार आने का अनुमान है।

देश के 14 सब डिवीजनों में हुई है कम बारिश

मौसम विभाग के अनुसार चालू मानसूनी सीजन में दलहन वाले उत्पादक क्षेत्रों महाराष्ट्र के विदर्भ में बारिश सामान्य से 25 फीसदी कम, ईस्ट मध्य प्रदेश में 18 फीसदी कम, ओडिशा में 21 फीसदी कम, सौराष्ट्र और कच्छ में 33 फीसदी कम, दक्षिण कर्नाटक में 25 फीसदी कम, तेलंगाना में 17 फीसदी कम और पश्चिम उत्तर प्रदेश में 24 फीसदी कम बारिश हुई है। अन्य राज्यों में झारखंड में 36 फीसदी कम और पश्चिम बंगाल में 47 फीसदी कम तथा उत्तरखंड में 36 फीसदी कम एवं हरियाणा में 26 फसीदी बारिश सामान्य से कम दर्ज की गई है। कुल 14 सब डिवीजनों में बारिश सामान्य से कम हुई है।

बारिश की कमी का सबसे ज्यादा असर दलहन और मोटे अनाजों की बुआई पर

कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू खरीफ में 26 जुलाई तक दालों की बुआई में सबसे ज्यादा 18.57 फीसदी की कमी आकर कुल बुआई 82.92 लाख हेक्टयेर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक इनकी बुआई 101.84 लाख हेक्टयेर में हुई थी। पिछले साल भी दलहन के उत्पादन में कमी आई थी। मोटे अनाजों की बुवाई भी चालू खरीफ में 8.86 फीसदी घटकर 119 लाख हेक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल की समान अवधि में 130.58 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी। चालू खरीफ में कुल बुआई अभी तक 688.78 लाख हेक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल इस समय तक 736.18 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी।

अगले 24 घंटों में कई राज्यों में तेज बारिश का अनुमान

मौसम विभाग के अनुसार अगले अगले 24 घंटों के दौरान, कोंकण-गोवा, उत्तरी तटीय कर्नाटक, राजस्थान के उत्तर-पश्चिमी और दक्षिण-पूर्वी भागों तथा इससे सटे पंजाब और हरियाणा में हल्की से मध्यम बारिश होने का अनुमान है। दक्षिणी गुजरात, तटीय कर्नाटक, तेलंगाना, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, उत्तरी और उत्तर-पूर्वी मध्य प्रदेश, उत्तरी छत्तीसगढ़ और झारखंड के भागों में मध्यम बारिश तथा एक-दो जगहों पर तेज बारिश के आसार हैं। देश के अन्य इलाकों में हल्की बारिश होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान गुजरात के कई शहरों में भारी बारिश हुई।