Home एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी कृषि ऋण के बारे में नई सोच की जरुरत-एसबीआई अध्यक्ष
कृषि ऋण के बारे में नई सोच की जरुरत-एसबीआई अध्यक्ष
कृषि ऋण के बारे में नई सोच की जरुरत-एसबीआई अध्यक्ष

कृषि ऋण के बारे में नई सोच की जरुरत-एसबीआई अध्यक्ष

कृषि ऋण के बारे में नई सोच पैदा करने पर जोर देते हुए भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के अध्यक्ष रजनीश कुमार ने कहा कि ऋण माफी से किसानों का भला नहीं हो रहा है तथा उन्हें व्यापारिक गतिविधियों से जोड़ने की जरुरत है।

बुधवार को जयपुर में पत्रकारों से बातचीत में कहा किसानों को दी जा रही सुविधाओं से उनकी दशा में कोई बदलाव नहीं आ रहा है, लिहाजा कृषि को लाभकारी बनाने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि देश की काफी आबादी कृषि पर निर्भर है तथा उन्हें मदद की भी जरुरत है लेकिन पिछले काफी समय से जो नीतिया अपनाई जा रही है वे किसानों के लिए लाभकारी नहीं है।

योनो बिजनेस एप तकनीक से ऋण लेना होगा आसान

उन्होंने लघु एवं मध्यम उद्योग के लिए योनो बिजनेस एप की चर्चा करते हुए कहा कि इस तकनीक से ऋण लेना आसान हो जायेगा। उन्होंने योनो मंडी एप, योनो कृषि गोल्ड एप आदि को आज की आवश्यकता बताते हुए कहा कि इनके जरिए उपभोक्ता आनलाइन खरीददारी कर सकता है। एप की जरिए खरीददारी पर उपभोक्ताओं को अतिरिक्त छूट भी उपलब्ध कराई गई है।

योनो कृषि एप पर किसानों को मिलेगी फसलों के भाव की जानकारी

भारतीय स्टेट बैंक की डिजिटल बैंकिंग प्रोत्साहन योजना के तहत योनो कृषि एप से किसानों की सुविधाओं में विस्तार किया जा रहा हैं। योनो मंडी एप सेवाओं का राजस्थान में भी विस्तार होगा। किसानों को कृषि ऋण और उत्पादों की जानकारी योनो एप पर उपलब्ध होंगी। एसबीआई एप फसलों के बाजार भाव, उतार-चढ़ाव, खाद बीज के डीलर, कोल्ड स्टोरेज, बीज, मिट्टी परीक्षण प्रयोगशाला, मौसम संबंधी जानकारी भी किसानों को उपलब्ध करवाएगा। वहीं कृषि गोल्ड लोन पर ऑनलाइन गोल्ड लोन के लिए आवेदन होंगे। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही एमएसएमई सेक्टर को इससे जोड़ने के लिए योनो बिजनेस एप भी लाया जाएगा।

एजेंसी इनपुट