Home एग्रीकल्चर रुरल इकोनॉमी लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार घर पर करेगी राशन की सप्लाई : प्रमुख सचिव
लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार घर पर करेगी राशन की सप्लाई : प्रमुख सचिव
लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार घर पर करेगी राशन की सप्लाई : प्रमुख सचिव

लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार घर पर करेगी राशन की सप्लाई : प्रमुख सचिव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के लोगों को आश्वासन दिया है कि जिला प्रशासन और अन्य सभी विभाग लॉकडाउन के दौरान घर-घर जाकर राशन की डिलीवरी सुनिश्चित करेंगे। यह बात अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कही।

अवस्थी और प्रमुख सचिव स्वास्थ्य, अमित मोहन प्रसाद ने कोरोनो वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए किए जा रहे उपायों के संबंध में यहां लोक भवन में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया।

संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अवस्थी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान पूरे राज्य के लोगों को आश्वासन दिया है कि जिला प्रशासन और अन्य सभी विभाग दरवाजे पर राशन की डिलीवरी सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा कि नागरिक आपूर्ति की व्यवस्था के लिए एपीसी (कृषि उत्पादन आयुक्त) की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया है, जो इसका अनुपालन करेगी। उन्होंने कहा कि दुकानों के खुलने की कोई समय सीमा तय नहीं की गई है। दुकानें पर्याप्त समय के लिए खोली जाएंगी। हालांकि उन्होंने बताया कि पान मसाला और गुटखे की बिक्री पर 21 दिनों के लिए राज्य भर में प्रतिबंध लगा दिया गया है।

मंडियों में भी खाद्य पदार्थों की थोक आपूर्ति बनी रहे

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य के सभी डिवीजनों में लगभग 5,419 मोबाइल वैन, ई-रिक्शा, ट्रैक्टर या मोटर वाहनों से 'डोरस्टेप डिलीवरी' की व्यवस्था शुरू की गई है। अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि मुजफ्फरनगर और लखनऊ में मेडिकल दुकानों के बाहर चाक चिन्ह (सोशल डिस्टेंस) बनाकर दवाइयां वितरित की जा रही हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव ने कहा कि सभी संभागीय आयुक्तों, डीएम, पुलिस आयुक्तों और पुलिस अधीक्षकों को कृषि उत्पादन आयुक्त की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा निर्देश दिया गया है कि वे स्थानीय मंडियों में खाद्य पदार्थों की थोक आपूर्ति की श्रृंखला को न रोकें, और जिला प्रशासन को इनकी आपूर्ति सुनिश्चित करे।

खाद्य सामग्री विक्रेताओं की पहुंच हर घर के दरवाजे तक सुनिश्चित करें

उन्होंने कहा कि खाद्य सामग्री विक्रेता या फिर किसान जो डोर-टू-डोर डिलीवरी कर रहे हैं, उन्हें रोका नहीं जाना चाहिए बल्कि यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें हर इलाके में आम लोगों के दरवाजे तक आपूर्ति करने के लिए व्यवस्थित रूप से पंजीकृत किया जाना चाहिए। ई-रिक्शा, गाड़ियां, ऑटोरिक्शा, पिक-अप वैन, जो भी साधन उपलब्ध हो, उन्हें आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्थित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान देना होगा कि डोरस्टेप डिलीवरी में कीमत को लेकर भी समस्या नहीं हो।

एजेंसी इनपुट