Do not sell the land of farmers at any cost - Sukhbir Badal : Outlook Hindi

Home » एग्रीकल्चर » रुरल इकोनॉमी » किसानों की जमीन किसी भी कीमत पर बिकने नहीं देंगे-सुखबीर बादल

किसानों की जमीन किसी भी कीमत पर बिकने नहीं देंगे-सुखबीर बादल

JUL 19 , 2018

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने पार्टी नेताओं व वर्करों को निर्देश दिए कि कांग्रेस सरकार की कुर्की की कार्रवाई शुरू कर ऋण पीड़ित किसानों की जमीन बेचने की कोशिश का विरोध करें। उन्होंने कहा कि बेरहमी व अमानवीय एक्ट को किसी भी कीमत पर लागू करने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि बड़े दुख की बात है कि 90 हजार करोड़ की कर्जा माफी का वायदा लागू करने में उलटी चाल के बाद कांग्रेस सरकार ने अब 6 जिलों के 12,635 किसानों से कर्जे की वसूली के लिए जमीन बेचने का फैसला करके किसानों को तंग करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। ऐसी कार्रवाई 20 हजार अन्य किसानों के विरुद्ध भी शुरू की जा चुकी है। सुखबीर ने कहा कि शर्म की बात है कि 28 किसानों को गिरफ्तार कर और 109 विरुद्ध वारंट जारी करवा कर कार्रवाई शुरू करने वाले पंजाबी खेतीबाड़ी विकास बैंक (पी.ए.डी.बी.) के अधिकारी अभियान का नेतृत्व करने के लिए सहकारिता मंत्री सुखजिंद्र सिंह रंधावा की प्रशंसा कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह को पंजाबियों को यह बताने के लिए नैतिक तौर पर पाबंद हैं कि 30 वर्ष बाद राज्य में दोबारा कुर्की शुरू करवाने की सहकारिता मंत्री को आज्ञा क्यों दी है? उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने विधानसभा में माना था कि किसानों की कुर्की 1986 से बंद की जा चुकी है।

उधर पंजाब के राज्य सहकारी कृषि विकास बैंक के प्रबंधक निदेशक एच.एस.सिद्धू ने कहा कि पंजाब सहकारी कृषि विकास बैंक कर्ज लौटाने में सक्षम डिफाल्टर बड़े किसानों के खिलाफ ही कार्रवाई कर रहा है तथा यह बैंक की रूटीन प्रक्रिया है। उन्होंने स्पष्ट किया है कि किसी भी डिफॉल्टर किसान की जमीन न तो बेची जा रही है और न ही भविष्य में बेचने का कोई प्रस्ताव है।

उन्होंने कहा कि बड़े डिफॉल्टर किसानों के खि़लाफ़ कानूनी कार्यवाही आरंभ करना बैंक की रुटीन प्रक्रिया है लेकिन इस कानूनी कार्यवाही का यह मतलब नहीं कि बैंक किसानों की जमीन बेच रहा है।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.