Home एग्रीकल्चर रुरल इकोनॉमी आंध्र प्रदेश में कृष्णा और गुंटूर जिले के 87 गांव बाढ़ की चपेट में
आंध्र प्रदेश में कृष्णा और गुंटूर जिले के 87 गांव बाढ़ की चपेट में
आंध्र प्रदेश में कृष्णा और गुंटूर जिले के 87 गांव बाढ़ की चपेट में

आंध्र प्रदेश में कृष्णा और गुंटूर जिले के 87 गांव बाढ़ की चपेट में

आंध्र प्रदेश के कृष्णा और गुंटूर जिलों में करीब 87 गांव और सैकड़ों एकड़ खेत बाढ़ के चपेट में आ गए हैं। सूत्रों के अनुसार राहत की बात यह है कि कृष्णा नदी में बाढ़ का प्रकोप घटने के संकेत हैं। बाढ़ से खरीफ फसलों के साथ ही बागवानी फसलें भी पानी में डूब गई हैं जिससे इन जिलों के किसानों की चिंता बढ़ गई है।

जलाशयों से पानी के बहाव में तो कमी देखी गई है लेकिन फिर भी कृष्णा और गुंटूर जिलों में 32 मंडलों के तहत आने वाले 87 गांवों के 17,500 लोगों की मुसीबतें अगले दो दिनों तक जारी रह सकती हैं। दोनों जिलों में 24 गांव बाढ़ के कारण पूरी तरह जलमग्न हैं। प्रकासम बराज में दूसरी स्तर की चेतावनी जारी है और दोनों जिलों में सरकारी तंत्र हाई अलर्ट पर है। 

खरीफ फसलों के साथ ही बागवानी फसलें बाढ़ में डूबी

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार, दोनों जिलों में कुल 4,352 मकानों में पानी भरा हुआ है। इन जिलों में 5,311 हेक्टेयर की कृषि फसलें और 1,400 हेक्टेयर की बागवानी फसलें बाढ़ में डूबी हैं। कृष्णा और गुंटूर में 11,553 लोगों को 56 राहत शिविरों में ले जाया गया है जहां भोजन और पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है। 

देश के कई राज्यों में बाढ़ का असर

अगस्त महीने में औसत से ज्यादा बारिश होने के कारण देश के कई राज्यों कर्नाटक, महाराष्ट्र, गुजरात और मध्य प्रदेश के कई जिले पहले ही बाढ़ की चपेट में आए हैं, जिससे इन राज्यों में लाखों हेक्टेयर में खरीफ की फसलों के साथ ही, बागवानी और सब्जियों की फसलों को नुकसान होने की आशंका है। जून और जुलाई में देश के कई राज्यों में सामान्य से कम बारिश हुई थी, जिससे किसान खरीफ फसलों की बुआई नहीं कर पा रहे थे, लेकिन अगस्त में सामान्य से ज्यादा बारिश से बाढ़ जैसे हालाता बनने से प्रभावित जिलों के किसानों पर दोहरी मार पड़ रही है।

एजेंसी इनपुट