Home एग्रीकल्चर पालिसी कृषि के लिए ऋण का लक्ष्य हासिल करेंगे : सीतारमण
कृषि के लिए ऋण का लक्ष्य हासिल करेंगे : सीतारमण
कृषि के लिए ऋण का लक्ष्य हासिल करेंगे : सीतारमण

कृषि के लिए ऋण का लक्ष्य हासिल करेंगे : सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि मौजूदा परिस्थितियों में सरकार अगले वित्त वर्ष में कृषि क्षेत्र के लिए 15 लाख करोड़ रुपये का ऋण लक्ष्य हासिल कर लेगी।

सीतारमण ने बजट के बाद यहां भारतीय रिजर्व बैंक के बोर्ड के साथ विभिन्न वित्तीय मसलों पर चर्चा के बाद संवाददताओं से कहा कि बजट में किसानों को दिये जाने वाले ऋण की सीमा बढ़ाई गई है। इसलिए यह लक्ष्य हासिल कर लिया जायेगा। मौजूदा वित्त वर्ष में 13.5 लाख करोड़ रुपये का कृषि ऋण देने का लक्ष्य रखा गया था।

सरकार ने बजट में कृषि ऋण के लक्ष्य को बढ़ाकर 15 लाख करोड़ किया था

सरकार ने एक फरवरी को संसद में पेश 2020-21 के बजट में यह लक्ष्य बढ़ाकर 15 लाख करोड़ रुपये कर दिया है। दस सार्वजनिक बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाने के केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसले को लागू करने में देरी के बारे में पूछे जाने पर सीतारमण ने कहा कि आज की बैठक में इस संबंध में कोई चर्चा नहीं की गई। इन बैंकों का विलय एक अप्रैल से प्रभावी होने की संभावना थी, लेकिन अब तक इस संबंध में अधिसूचना जारी नहीं की गई है।

जीडीपी ग्रोथ छह प्रतिशत रहने का अनुमान

इस अवसर पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि अगले वित्त वर्ष में देश की विकास दर (जीडीपी ग्रोथ) छह प्रतिशत रहने का अनुमान है। साथ ही उन्होंने कहा कि नीतिगत दर (रेपो रेट) में कटौती का नीचे तक पहुंचने की रफ्तार आने वाले दिनों में और सुधरेगी। साथ ही अर्थव्यवस्था में ऋण उठाने की गतिविधियां भी बेहतर हुई है। मुद्रास्फीति का दबाव बढ़ने और वैश्विक बाजार की परिस्थितियों के कारण केंद्रीय बैंक ने इस महीने की शुरुआत में 2020 की अपनी पहली मौद्रिक समीक्षा नीति में नीतिगत दर (रेपो रेट) में कोई बदलाव नहीं किया था।