Home एग्रीकल्चर पालिसी हरियाणा से धान की खरीद फिर होगी शुरू, तय लक्ष्य 54 लाख टन से ज्यादा हो चुकी खरीद
हरियाणा से धान की खरीद फिर होगी शुरू, तय लक्ष्य 54 लाख टन से ज्यादा हो चुकी खरीद
हरियाणा से धान की खरीद फिर होगी शुरू, तय लक्ष्य 54 लाख टन से ज्यादा हो चुकी खरीद

हरियाणा से धान की खरीद फिर होगी शुरू, तय लक्ष्य 54 लाख टन से ज्यादा हो चुकी खरीद

हरियाणा की मंडियों से धान की खरीद फिर से शुरू होगी। राज्य सरकार द्वारा तय लक्ष्य 54 लाख टन से ज्यादा खरीद होने की वजह से खरीद बंद हुई थी। तय लक्ष्य से ज्यादा खरीद करने के लिए राज्य सरकार ने केंद्र से अनुमति ले ली है।

हरियाणा के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. धनश्याम सिंह ने आउलुक को बताया कि चालू खरीफ विपणन सीजन 2019-20 के लिए राज्य सरकार ने धान की खरीद का लक्ष्य 54 लाख टन का तय किया था, जबकि खरीद तय लक्ष्य से ज्यादा हो चुकी है। जिस कारण मंडियों में खरीद बंद हो गई थी। उन्होंने बताया कि तय मात्रा से ज्यादा खरीद के लिए केंद्र सरकार से अनुमति लेनी होती है, साथ गांरटी के लिए रिजर्व बैंक से भी अनुमति लेनी होती है। उन्होंने बताया कि राज्य की मंडियों से धान की खरीद दोबारा शुरू हो गई है, तथा जहां खरीद शुरू नहीं हुई है वहां भी जल्द खरीद शुरू हो जायेगी। राज्य के मुख्यमंत्री ने भी कहा है कि धान के एक-एक दाने की खरीद करने का भी निर्णय कैबिनेट द्वारा लिया गया है।

राज्य से 55.19 लाख टन धान की चुकी है खरीद

राज्य सरकार ने चालू खरीफ विपणन सीजन के लिए धान खरीद का लक्ष्य 54 लाख टन निर्धारित किया था। राज्य की मंडियों में अब तक 57.44 लाख टन से धान की आवक हो चुकी है तथा कुल आवक में से सरकारी खरीद एजेंसियों द्वारा 55.19 लाख टन और मिलरों व डीलरों द्वारा 2.24 लाख टन धान की खरीद की गई है। हरियाणा के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अनुसार कुल आवक में से खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग ने 30.59 लाख टन, हैफेड ने 16.95 लाख टन, हरियाणा भंडागार निगम ने 7.62 लाख टन और भारतीय खाद्य निगम ने 2,279 टन धान की खरीद की है।

परमल धान की कीमतों में आई गिरावट, किसान परेशान

हरियाणा की मंडियों से धान की खरीद बंद होने से परमल (पीआर) किस्म की कीमतों में भारी गिरावट आई है, जिससे किसानों को भारी घाटा हो रहा है। सरकारी खरीद नहीं होने से धान किसानों द्वारा रोष प्रकट किया जा रहा है। राज्य की कैथल मंडी में बुधवार को भी धान की सरकारी खरीद शुरू नहीं हो पाई जिस कारण परमल धान के भाव घटकर मंडी में 1,500 से 1,600 प्रति क्विंटल रह गए। केंद्र सरकार ने चालू खरीफ विपणन सीजन 2019-20 के लिए ए ग्रेड धान का समर्थन मूल्य 1,835 रुपये और कॉमन ग्रेड धान का 1,815 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है।