Home एग्रीकल्चर पालिसी मध्य प्रदेश सरकार ने माना, किसानों की ऋण माफी में हुई देरी
मध्य प्रदेश सरकार ने माना, किसानों की ऋण माफी में हुई देरी
मध्य प्रदेश सरकार ने माना, किसानों की ऋण माफी में हुई देरी

मध्य प्रदेश सरकार ने माना, किसानों की ऋण माफी में हुई देरी

मध्य प्रदेश के मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि राहुल गांधी ने 10 दिनों के भीतर किसानों के कृषि ऋण माफ करने की घोषणा की थी और मुख्यमंत्री ने शपथ लेने के तुरंत बाद इसके बारे में आदेश दिया था। हम स्वीकार करते हैं कि इसमें देरी हुई है लेकिन हम अपना वादा पूरा करेंगे।

एक संवाददाता सम्मेलन में गोविंद सिंह ने कहा कि राहुल गांधी ने सरकार बनने के 10 दिनों के भीतर कृषि ऋण माफ करने की घोषणा की थी और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शपथ लेने के तुरंत बाद किसानों की ऋण माफी का आदेश भी दे दिया था। मंदसौर में पिछले साल, राहुल गांधी ने एक जनसभा में घोषणा की थी कि अगर कांग्रेस राज्य में सत्ता में आती है तो वह प्रभार लेने के 10 दिनों के भीतर किसानों के ऋण माफ कर देगी। कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में भी किसानों के 2 लाख रुपये तक के कृषि ऋण को माफ करने का वादा किया था।

पूर्व मुख्यमंत्री ने सरकार पर किसानों के कृषि ऋण माफ नहीं करने का आरोप लगाया था

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों के कृषि ऋण माफ नहीं करने के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाली राज्य सरकार आरोप लगाया था, कि भले ही राहुल गांधी ने दावा किया था कि यह सत्ता में आने के 10 दिनों के भीतर किसानों के कृषि ऋण माफ किए जायेंगे। एक तरफ कांग्रेस सरकार दावा कर रही है कि उन्होंने सभी किसानों के कर्ज माफ कर दिए हैं वहीं दूसरी तरफ किसानों को अभी भी बैंक से अपने ऋणों का भुगतान नहीं करने के लिए नोटिस मिल रहे हैं। चौहान ने यहां मीडिया से कहा था मैं राज्य सरकार और मुख्यमंत्री कमलनाथ से अपील करता हूं कि वे मुझे दस्तावेजों को दिखाने के बजाय किसानों को संतुष्ट करें कि बैंकों ने उनके कृषि ऋण को माफ कर दिया है।

राज्य के करीब 20 लाख किसानों को मिला है अभी तक ऋणमाफी का लाभ

शिवराज सिंह चौहान के बयान देने के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी के नेतृत्व में कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल जिन किसानों के कृषि ऋण माफ किए गए हैं, उनके दस्तावेज लेकर चौहान के आवास पर आए थे। सूत्रों के अनुसार मध्यप्रदेश में अब तक 20 लाख से अधिक किसानों को सरकार कर्जमाफी दे चुकी है। इसमें दो लाख रुपये तक एनपीए (नॉन परफॉर्मिंग असेट) लोन माफ करने के साथ चालू खाते पर 50 हजार रुपये तक कर्जमाफी दी गई है। इसमें किसानों को सात हजार 154 करोड़ रुपये से ज्यादा की कर्जमाफी मिली है।

एजेंसी इनपुट