Home एग्रीकल्चर पालिसी सरकार ने मनरेगा का बजट घटाया, जानिए दूसरी प्रमुख योजनाओं का हाल
सरकार ने मनरेगा का बजट घटाया, जानिए दूसरी प्रमुख योजनाओं का हाल
सरकार ने मनरेगा का बजट घटाया, जानिए दूसरी प्रमुख योजनाओं का हाल

सरकार ने मनरेगा का बजट घटाया, जानिए दूसरी प्रमुख योजनाओं का हाल

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को अंतरिम बजट 2019 में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण योजना (मनरेगा) के लिए आवंटन घटा दिया है। सरकार ने 2019-20 के लिए 60,000 करोड़ रुपये का आवंटन मनरेगा के लिए किया है जबकि मौजूदा वित्त वर्ष में मनरेगा पर संशोधित आवंटन 61,084 करोड़ रुपये है, यानी 61 हजार करोड़ रुपये सरकार ने खर्च किए । इसके पहले मौजूदा वित्त वर्ष के लिए मनरेगा में 55,000 करोड़ का आवंटन किया गया था। ऐसे में खर्च को देखते हुए बजट आवंटन में कटौती की गई है।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में आवंटन पिछले साल के बराबर

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिए सरकार ने 19,000 करोड़ रुपये का आवंटन किया है जोकि पिछले साल हुए आवंटन के बराबर ही है। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में खर्च हुए हैं 15,500 करोड़ रुपये।

कृषि सिंचाई योजना आवंटन बढ़ा

अंतरिम बजट 2019 में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए 9,516 करोड़ रुपये का आवंटन किया है जोकि पिछले बजट के 9,429 करोड़ रुपये से थोड़ा ज्यादा है। पिछले बजट में हुए आवंटन में से खर्च 8,251 करोड़ रुपये हुए हैं। 

प्रधानमंत्री आवास योजना के आवंटन में कटौती

प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के लिए अंतरिम बजट 2019 में आवंटन को घटाकर सरकार ने 25,853 करोड़ रुपये कर दिया है जबकि पिछले साल के बजट में इसके लिए 27,505 करोड़ रुपये का आवंटन किया था जिसमें से खर्च 26,405 करोड़ रुपये हुआ था।

फसल बीमा योजना आवंटन ज्यादा

फसल बीमा योजना के लिए पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट 2019 में 14,000 करोड़ रुपये का आवंटन किया है जोकि पिछले साल के आवंटन 13,000 करोड़ से एक हजार करोड़ रुपये ज्यादा है। पिछले साल हुए कुल आवंटन में खर्च हुए हैं 12,976 करोड़ रुपये।

स्वच्छ भारत मिशन के लिए आवंटन घटाया

स्वच्छ भारत मिशन के लिए सरकार ने अंतरिम बजट 2019 में आवंटन को घटाकर 12,750 करोड़ रुपये कर दिया है जबकि बजट 2018 में इसके लिए 17,843 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था, जिसमें से खर्च हो चुके हैं 16,978 करोड़ रुपये।

मिड डे मिल में आवंटन बढ़ाया

राष्ट्रीय स्कूल मध्याहृन भोजन (मिड डे मिल) के लिए गोयल ने पेश बजट में आवंटन बढ़ाकर 11,000 करोड़ रुपये किया है जबकि पिछले बजट में इसके लिए 10,500 करोड़ रुपये का आवंटन किया था, जिसमें से खर्च हुए हैं 9,949 करोड़ रुपये।

राष्ट्रीय स्वास्थय मिशन का आवंटन बढ़ा

राष्ट्रीय स्वास्थय मिशन के लिए अंतरिम बजट 2019 में आवंटन बढ़ाकर सरकार ने 38,572 करोड़ रुपये किया है, जबकि पिछले साल के बजट में इसके लिए 32,613 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था, जिसमें से खर्च हुए हैं 32,334 करोड़ रुपये।