Home एग्रीकल्चर पालिसी उत्पादकता, मार्केटिंग और निर्यात बढ़ाकर ही किसानों की आय में इजाफा संभवः फडणवीस
उत्पादकता, मार्केटिंग और निर्यात बढ़ाकर ही किसानों की आय में इजाफा संभवः फडणवीस
उत्पादकता, मार्केटिंग और निर्यात बढ़ाकर ही किसानों की आय में इजाफा संभवः फडणवीस

उत्पादकता, मार्केटिंग और निर्यात बढ़ाकर ही किसानों की आय में इजाफा संभवः फडणवीस

किसानों की आय बढ़ाने के लिए उत्पादकता, मार्केटिंग और निर्यात को बढ़ाना जरूरी है। साथ ही कृषि में नई तकनीक के साथ फूड प्रोसेसिंग को बढ़ावा देने के अलावा आवश्यक वस्तु अधिनियम (ईसीए) में भी बदलाव की जरूरत है। भारतीय कृषि में परिवर्तन के लिए मुख्यमंत्रियों की उच्चाधिकार प्राप्त समिति की दूसरी बैठक मुंबई में आयोजित की गई, जिसकी अध्यक्षता करते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा तिलहन में जीएम फसलों की खेती के लिए राज्यों से सुझाव मांगे गए हैं।

बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए फडणवीस ने कहा कि किसानों को फसलों के उचित दाम मिले, इसके लिए सभी राज्यों में वन-मार्केट बनाने और उसे विश्व स्तर पर जोड़ने पर चर्चा हुई। आवश्यक वस्तु अधिनियम (ईसीए) में बदलाव किया जाए या फिर इसे पूरी समाप्त किया जाए, इस पर भी चर्चा हुई।
एग्री उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने की जरूरत
उन्होंने कहा कि एग्री उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने की जरूरत है। साथ ही आर्गेनिक कृषि उत्पादों के निर्यात की काफी संभावनाएं हैं। एग्रीकल्चर में नई टेक्नॉलाजी अपनाई जाए, साथ ही किसानों को उच्च उत्पादकता वाले बीज उपलब्ध कराए जाएं। तिलहन की फसलों में आज भी हम कुल खपत का करीब 65 फीसदी आयात करते हैं। अत: तिलहन में जीएम फसलों के उत्पादन पर राज्य सरकारों से सलाह मांगी गई है। अगली बैठक में इस पर विचार किया जायेगा। 
फूड प्रोसेसिंग की ग्रोथ एग्रीकल्चर से ज्यादा होनी चाहिए
उन्होंने कहा कि नीति आयोग के सदस्य प्रो. रमेश चंद ने फूड प्रोसेसिंग को बढ़ावा देने की बात कही है। जब तक फूड प्रोसेसिंग की ग्रोथ, एग्रीकल्चर से ज्यादा नहीं होगी तब तक किसानों की आय को नहीं बढ़ा पायेंगे। फूड प्रोसेसिंग की ग्रोथ केवल एक फीसदी है, इसे बढ़ाकर छह से सात फीसदी करने की जरूरत है। फडणवीस ने कहा कि राज्यों में नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट के जरिए एक गतिशील इलेक्ट्रॉनिक मंच प्रदान करने और कृषि में निवेश बढ़ाने पर चर्चा हुई।
कई राज्यों के मुख्यमंत्री हुए शामिल
बैठक में फडणवीस के अलावा केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, पंजाब वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप साही और ओडिशा के कृषि मंत्री अरुण कुमार साहू ने भाग लिया। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से भाग लिया। नीति आयोग के सदस्य प्रो. रमेश चंद इस समिति में बतौर सदस्य-सचिव शामिल हुए।