Home एग्रीकल्चर पालिसी 10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, अन्नदाता अब ऊर्जादाता-निर्मला सीतारमण
10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, अन्नदाता अब ऊर्जादाता-निर्मला सीतारमण
10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, अन्नदाता अब ऊर्जादाता-निर्मला सीतारमण

10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, अन्नदाता अब ऊर्जादाता-निर्मला सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2019-20 का आम बजट शुक्रवार को लोकसभा में पेश करते हुए कहा कि महात्मा गांधी का विचार था कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है, हमारी सरकार अपनी हर योजना में अंतोदय को बढ़ावा देने जा रही है। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार 'गांव, गरीब और किसानों' को अपनी प्रत्येक योजनाओं में अहम स्थान देती है।

वित्त मंत्री ने कहा कि कृषि अवसंरचना में अब निवेश को बढ़ावा दिया जाएगा। 10 हजार नए किसान उत्पादक संघ बनेंगे, दालों के मामले में देश आत्मनिर्भर बना है। हमारा लक्ष्य आयात पर कम खर्च करना है। इसके साथ ही डेयरी के कामों को भी बढ़ावा दिया जाएगा। अन्नदाता अब ऊर्जादाता भी हो सकता है। किसान को उसकी फसल का सही दाम देना हमारा लक्ष्य है।

वित्त मंत्री ने कहा कि जीरो बजट खेती पर जोर दिया जाएगा। खेती के बुनियादी तरीकों पर लौटना इसका उद्देश्य है। इसी से किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य पूरा होगा। उन्होंने कहा कि अगले 5 वर्षों में 10 हजार नए किसान उत्‍पादक संगठन बनाए जाएंगे। डेयरी कार्यों को बढ़ावा दिया जाएगा, पिछले डेढ़ सालों में किसानों ने दालों के क्षेत्र में देश को आत्मनिर्भर बनाया है। हम उम्‍मीद करते हैं कि तिलहन में भी किसान हमें आत्मनिर्भर बनाएंगे। ग्रामीण भारत पर हमारा विशेष ध्‍यान है। किसानों के लिए जीवन व्‍यतीत करना और व्यवसाय करना आसान बनाएंगे।

उन्होंने कहा कि किसानों को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए 'जीरो बजट फार्मिंग' को बढ़ावा दिया जाएगा। इन सब प्रयासों में हम इस स्थिति में पहुंचेंगे, जहां पर जीरो बजट फार्मिंग को लागू किया जा सकेगा। हमारा लक्ष्‍य गांव में हर घर तक पानी पहुंचाने का है, जिसे हम पूरा जरूर करेंगे। सीतारमण ने कहा कि 2019-20 के दौरान 100 नए बांस, शहद और खादी कलस्टर की स्थापना होगी, प्रधानमंत्री मतस्य संपदा योजना के तहत मत्स्यिकी ढांचे की स्थापना होगी।