Home एग्रीकल्चर न्यूज चीनी मिलों पर बकाया बढ़कर 11,900 करोड़ रुपये पहुंचा, गन्ना किसान आक्रोश में
चीनी मिलों पर बकाया बढ़कर 11,900 करोड़ रुपये पहुंचा, गन्ना किसान आक्रोश में
चीनी मिलों पर बकाया बढ़कर 11,900 करोड़ रुपये पहुंचा, गन्ना किसान आक्रोश में

चीनी मिलों पर बकाया बढ़कर 11,900 करोड़ रुपये पहुंचा, गन्ना किसान आक्रोश में

चालू पेराई सीजन 2018-19 (अक्टूबर से सितंबर) के पहले चार महीनों में ही किसानों का बकाया बढ़कर 11,900 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जिससे किसानों में आक्रोश बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश के गन्ना किसान बकाया भुगतान की मांग को लेकर 15 फरवरी को गन्ना आयुक्त का घेराव करेंगे। पिछले सप्ताह ही गन्ना किसानों ने पुणे में महाराष्ट्र गन्ना आयुक्त कार्यालय तक विरोध मार्च निकाला था।

उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों का बकाया बढ़कर 6,600 करोड़ रुपये हो गया है, इसमें चालू पेराई सीजन का 5,400 करोड़ रुपये है तथा पिछले पेराई सीजन का भी मिलों पर अभी भी 1,200 करोड़ रुपये बचा हुआ है। उधर महाराष्ट्र की चीनी मिलों पर चालू पेराई सीजन का बकाया बढ़कर 5,300 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है।

15 फरवरी को गन्ना आयुक्त का करेंगे घेराव

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के संयोजक वी एम सिंह ने बताया कि बकाया भुगतान की मांग को लेकर किसान 15 फरवरी को लखनऊ में पहले मार्च करेंगे, और फिर गन्ना आयुक्त का घेराव करेंगे। उन्होंने बताया कि महात्मा गांधी जी की पुण्यतिथि पर गन्ना सत्याग्रह की शुरुआत की है, जिसकी गूंज पूरे देश में होगी। उन्होंने बताया कि केंद्र के साथ ही राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार किसानों को लगातार गुमराह कर रही है।

यूपी की मिलों पर पिछले साल का बकाया 1,200 करोड़

उन्होंने बताया कि बकाया भुगतान को लेकर उत्तर भारत में जगह-जगह पर किसानों द्वारा धरने-प्रदर्शन किए जा रहे हैं, लेकिन राज्य सरकार इससे बेफिक्र है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने चुनाव के समय वायदा किया था कि गन्ना किसानों को 14 दिन के अंदर भुगतान किया जायेगा, लेकिन पिछले पेराई सीजन का ही किसानों का चीनी मिलों पर अभी भी 1,200 करोड़ रुपये बचा हुआ है। बकाया भुगतान नहीं होने से राज्य के गन्ना किसानों को आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

महाराष्ट्र के किसानों का बकाया 5,300 करोड़

स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के नेता एवं लोक सभा सांसद राजू शेट्टी ने बताया कि महाराष्ट्र की चीनी मिलों पर किसानों का बकाया बढ़कर 5,300 करोड़ रुपये पहुंच गया है। भुगतान नहीं होने से राज्य के किसान परेशान हैं। उन्होंने बताया कि पूणे में आंदोलन के बाद महाराष्ट्र के गन्ना आयुक्त ने किसानों के बकाया भुगतान को शीघ्र करवाने का आश्वासन दिया है, अगर भुगतान में देरी की तो हम चुप नहीं बैठेंगे। जरुरत पड़ी तो फिर से आंदोलन करेंगे।