Home एग्रीकल्चर न्यूज उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों पर अभी भी बकाया 4,000 करोड़ से ज्यादा, पंजाब में पेराई 10 नवंबर से
उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों पर अभी भी बकाया 4,000 करोड़ से ज्यादा, पंजाब में पेराई 10 नवंबर से
उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों पर अभी भी बकाया 4,000 करोड़ से ज्यादा, पंजाब में पेराई 10 नवंबर से

उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों पर अभी भी बकाया 4,000 करोड़ से ज्यादा, पंजाब में पेराई 10 नवंबर से

गन्ने का पेराई सीजन 2018-19 समाप्त हुए महीना भर बीतने के बावजूद भी उत्तर प्रदेश की चीनी मिलों पर किसानों का बकाया 4,096 करोड़ रुपये अभी भी बचा हुआ है जबकि किसानों को रबी फसलों की बुआई के लिए खाद, बीज और कीटनाशकों की खरीद करनी है। इससे गन्ना किसानों भारी आर्थिक परेशानी का सामाना करना पड़ रहा है। पंजाब की चीनी मिलों में 10 नवंबर से पेराई आरंभ होने का अनुमान है।

उत्तर प्रदेश के गन्ना आयुक्त कार्यालय के अनुसार पेराई सीजन 2018-19 में राज्य की चीनी मिलों ने किसानों से 33,048 करोड़ रुपये का 10,296.31 लाख क्विंटल गन्ना खरीदा था, जिसमें से 25 अक्टूबर 2019 तक 28,951 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। अत: राज्य की चीनी मिलों पर गन्ना किसानों का बकाया अभी भी 4,096 करोड़ रुपये बचा हुआ है। बकाया में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी राज्य की 94 प्राइवेट चीनी मिलों पर 3,730.35 करोड़ रुपये है। इसके अलावा राज्य की 24 को-आपरेटिव चीनी मिलों पर भी 332.41 करोड़ रुपये और निगम की 3 चीनी मिलों पर 33.86 करोड़ रुपये बकाया बचा हुआ है। पेराई सीजन 2017-18 का भी राज्य की चीनी मिलों पर 40.54 करोड़ रुपये और पेराई सीजन 2016-17 का 22.29 करोड़ रुपये अभी भी बकाया है।

रबी फसलों की बुवाई के लिए किसानों को करनी है खाद, बीज और कीटनाशकों की खरीद

रबी फसलों की बुआई का सीजन चल रहा है, जबकि चीनी मिलों द्वारा किसानों के बकाया का भुगतान नहीं किया गया है, जिस कारण किसान रबी फसलों के लिए खाद, बीज और कीटनाशक नहीं खरीद पा रहे हैं। गन्ना किसान जितेंद्र मलिक के अनुसार तय नियमों के अनुसार गन्ना खरीदने के 14 दिनों के अंदर चीनी मिलों को किसानों को भुगतान करना होता है तथा तय समय पर भुगतान नहीं करने वाली चीनी मिलों को ब्याज देना होता है। उन्होंने बताया फसलों की बुआई का समय होने के कारण किसानों को पैसे की जरुरत है लेकिन चीनी मिलें बकाया का भुगतान नहीं कर रही हैं, जिस कारण किसानों को साहूकारों से उंची ब्याज दरों पर पैसा लेना पड़ रहा है।

पंजाब की चीनी मिलों को 72 घंटों के अंदर भुगतान के निर्देश

पंजाब की सहकारी चीनी मिलें 10 नवंबर 2019 के बाद गन्ने की पेराई आरंभ करेंगी। राज्य के सहकारिता मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि सहकारी चीनी मिलों के महाप्रबंधकों को निर्देश जारी किए गए हैं कि वे गन्ने की समय पर पेराई सुनिश्चित करें और गन्ना किसानों को सुविधा प्रदान करें। उन्होंने कहा कि सभी चीनी मिलों के महाप्रबंधकों को निर्देश दिए गए हैं कि एक नवंबर 2019 तक संयंत्र कौर मशीनरी का परीक्षण पूरा कर लें, तथा राज्य के गन्ना किसानों के हितों के लिए 10 नवंबर से पेराई आरंभ कर दे। राज्य की सभी चीनी मिलों को गन्ना खरीद के 72 घंटों के अंदर ऑनलाइन भुगतान करने के निर्देश भी दिए गए हैं।