Home एग्रीकल्चर न्यूज मानसूनी बारिश में सुधार के बाद भी धान की रोपाई 12.8 फीसदी पिछे
मानसूनी बारिश में सुधार के बाद भी धान की रोपाई 12.8 फीसदी पिछे
मानसूनी बारिश में सुधार के बाद भी धान की रोपाई 12.8 फीसदी पिछे

मानसूनी बारिश में सुधार के बाद भी धान की रोपाई 12.8 फीसदी पिछे

अगस्त में देशभर में मानसूनी बारिश में सुधार आया है जिससे खरीफ फसलों दलहन, तिलहन और मोटे अनाजों की बुआई में पहले की तुलना में सुधार तो आया है लेकिन खरीफ की प्रमुख फसल धान की रोपाई अभी भी 12.8 फीसदी पिछे चल रही है। चालू खरीफ में धान की रोपाई अभी तक केवल 265.20 लाख हेक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल इस समय तक 304.18 लाख हेक्टेयर में हो चुकी थी। देशभर में खरीफ फसलों की बुआई 5.34 फीसदी पिछड़ कर 869.55 लाख हेक्टेयर में हो पाई है जबकि पिछले साल इस समय तक 918.70 लाख हेक्टेयर में फसलों की बुआई हो चुकी थी।

मौसम विभाग के अनुसार चालू मानसूनी सीजन में पहली जून से 9 अगस्त तक देशभर में बारिश सामान्य से एक फीसदी कम हुई है। हालांकि जून और जुलाई में बारिश सामान्य से कम हुई थी लेकिन अगस्त में बारिश अच्छी हुई है। पहली जून से 9 अगस्त तक सामान्यत: 533.7 मिलीमीटर बारिश होती है जबकि चालू खरीफ में 530.3 मिलीमीटर ही बारिश हुई है।

दलहन की बुआई 4.94 फीसदी कम

कृषि मंत्रालय के अनुसार चालू खरीफ में दालों की बुआई घटकर 115.39 लाख हेक्टेयर में ही पाई है जोकि पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 4.94 फीसदी घटी है। पिछले साल इस समय तक देशभर में 121.39 लाख हेक्टेयर में दालों की बुआई हो चुकी थी। खरीफ दलहन की प्रमुख फसल अरहर की बुआई 40.12 लाख हेक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस सयम तक 40.69 लाख हेक्टेयर में हो चुकी थी। मूंग की बुआई चालू खरीफ में 28.12 और उड़द की 32.58 लाख हेक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले की समान अवधि में इनकी बुआई क्रमश: 31.61 और 34.52 लाख हेक्टेयर में हो चुकी थी।

मोटे अनाजों की बुआई में हल्की गिरावट

मोटे अनाजों की बुआई पिछले साल के 155.37 लाख हेक्टेयर की तुलना में चालू खरीफ में अभी तक केवल 153.92 लाख हेक्टेयर में ही हुई है। मोटे अनाजों में मक्का की बुआई चालू खरीफ में घटकर 72.74 लाख हेक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक 72.83 लाख हेक्टेयर में हो चुकी थी। बाजरा की बुआई चालू खरीफ में बढ़कर 60.45 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है जबकि पिछले साल इस समय तक 59.36 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी है। ज्वार की बुआई भी पिछले साल के 15.83 लाख हेक्टेयर से घटकर चालू सीजन में 14.06 लाख हेक्टेयर में ही हुई है।

सोयाबीन और मूंगफली की बुआई कम, कपास की ज्यादा

तिलहन की बुआई चालू खरीफ में अभी तक केवल 157.17 लाख हेक्टेयर में ही हो पाई है जबकि पिछले साल इस समय तक 162.52 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी। तिलहन में सोयाबीन की बुआई पिछले साल के 110.72 लाख हेक्टेयर से घटकर 109.84 लाख हेक्टेयर में ही हो पाई है। मूंगफली की बुआई भी चालू खरीफ में घटकर 33.08 लाख हेक्टेयर में हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक 35.36 लाख हेक्टेयर में हो चुकी थी। कपास की बुआई चालू खरीफ में पिछले साल के 112.60 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 118.73 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है। गन्ने की बुआई चालू खरीफ में 52.30 लाख हेक्टेयर में ही हुई है जबकि पिछले साल इस समय तक 55.45 लाख हेक्टेयर में बुआई हो चुकी थी।