Home एग्रीकल्चर न्यूज पीएम-किसान योजना की किस्त अप्रैल में देना एक सामान्य प्रक्रिया
पीएम-किसान योजना की किस्त अप्रैल में देना एक सामान्य प्रक्रिया
पीएम-किसान योजना की किस्त अप्रैल में देना एक सामान्य प्रक्रिया

पीएम-किसान योजना की किस्त अप्रैल में देना एक सामान्य प्रक्रिया

कोरोना वायरस के कारण देशभर में लॉकडाउन के समय में केंद्र सरकार किसानों की मदद का दावा कर रही है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 8.69 लाख किसानों को 2,000 रुपये की किस्त अप्रैल में देगी, इसमें नया क्या है? पीएम-किसान योजना के तहत केंद्र सरकार किसानों को सालाना 6,000 रुपये तीन समान किस्तों में 2,000-2,000 रुपये का आवंटन करती है तथा इन किस्तों का आंवटन सरकार को हर चार महीने में एक बार करना होता है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरूवार को कोरोनावायरस से निपटने के लिए 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपये के पैकेज का ऐलान किया। उन्होंने कहा सरकार लॉकडाउन प्रभावित गरीबों की मदद करेगी।

वित्त मंत्री ने कहा कि मनरेगा मजदूरों की प्रतिदिन मजदूरी दर को बढ़ा दिया गया है। वित्त मंत्री ने ऐलान करते हुए कहा कि अब मजदूरों को प्रतिदिन 202 रुपये मजदूरी दी जाएगी। इससे पहले उन्हें प्रतिदिन 182 रुपये की मजदूरी ही दी जाती थी। उन्होंने बताया कि इससे 5 करोड़ परिवारों को लाभ मिलेगा।

तीन महीने गरीबों को मुफ्त में अतिरिक्त अनाज दिया जायेगा

सरकार की तरफ से गरीबों को 3 महीने के लिए एक किाले दाल प्रति महीना अतिरिक्त मिलेगी। इसके अलावा प्रति महीने पांच किलो गेहूं या फिर चावल अतिरिक्त मिलेगा। तीन महीने के लिए गरीबों को मुफ्त में अतिरिक्त गेहूं और चावल दिया जायेगा तथा अतिरिक्त अनाज के लिए कोई रकम नहीं ली जाएगी। उन्होंने कहा कि गरीबों के लिए अन्न और धन दोनों की मदद की जाएगी।

60 साल के ज्यादा उम्र के लोगों, विधवाओं और दिव्यांग लोगों को अतिरिक्त 1,000 रुपये

60 साल के ज्यादा उम्र के लोगों, विधवाओं और दिव्यांग लोगों को अतिरिक्त 1,000 रुपये की सहायता दी जा रही है। इसका 3 करोड़ लोगों को फायदा होगा। इसे दो किस्तों में दिया जाएगा। यह पैसा डायरेक्ट ट्रांसफर के माध्यम से सीधे खाते में जाएगा। महिला जनधन अकाउंट रखने वाली महिलाओं को हर महीने 500 रुपये की सहायता दी जा रही है। इसका फायदा 20.5 करोड़ महिलाओं को मिलेग। यह रकम तीन महीने तक मिलेगी। इससे कोरोना वायरस से मुकाबले में उन्हें बड़ी मदद मिलेगी। उज्ज्वाल स्कीम के तहत गरीब 8 करोड़ परिवारों को फायदा मिला है। उन्हें तीन महीने तक फ्री सिलेंडर दिया जाएगा। इस तरह उन्हें खाना पकाने के लिए ईंधन की किसी तरह की चिंता नहीं करनी होगी।

महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए दिनदयाल योजना के तहत लोन को बढ़ाकर किया 20 लाख

पीएम गरीब कल्याण योजना के तहत महिला स्वयं सहायता समूहों के लिए दिनदयाल योजना के तहत 10 लाख रुपये का कौलेटरल फ्री लोन दिया जाता था, इसे बढ़ाकर 20 लाख किया जा रहा है। इसका फायदा 7 करोड़ परिवारों को फायदा मिलेग। ऐसे एसजीएच की संख्या देश में 63 लाख है। ये लोग बिना बैंक में संपत्ति गिरवी रखे अब 20 लाख रुपये का लोन ले सकेंगे।

संगठित क्षेत्र के तहत प्रोविडेंट फंड का कंट्रिब्यूशन सरकार देगी

12 फीसदी नियोक्ता की रकम और 12 फीसदी कर्मचारी की रकम का भुगतान सरकार करेगी। यह पैसा ईपीएफ खाते में जाएगा। सरकार 24 फीसदी कुल योगदान करेगी। ऐसे संस्थान जिसमें कर्मचारी की संख्या 100 है और जिसके 90 फीसदी कर्मचारी की सैलरी 15,000 से कम है उन पर यह नियम लागू होगा। ईपीएफ स्कीम के नियम बदले जाएंगे। फंड में पड़ा 75 फीसदी पैसा या 30 महीने का वेतन के बराबर रकम निकालने की सुविधा दी जााएगी। इसके तहत 4.8 करोड़ कर्मचारियों को फायदा होगा।