Home एग्रीकल्चर न्यूज किसानों को नहीं मिल रहा दालों का समर्थन मूल्य, सरकारी खरीद नाममात्र की
किसानों को नहीं मिल रहा दालों का समर्थन मूल्य, सरकारी खरीद नाममात्र की
किसानों को नहीं मिल रहा दालों का समर्थन मूल्य, सरकारी खरीद नाममात्र की

किसानों को नहीं मिल रहा दालों का समर्थन मूल्य, सरकारी खरीद नाममात्र की

राजस्थान की किशनगंज तहसील से कोटा मंडी में चना बेचने आए किसान रामगोपाल ने बताया कि मंडी में चना 3,900 रुपये प्रति क्विंटल के भाव बिका है, जबकि केंद्र सरकार ने चना का समर्थन मूल्य 4,620 रुपये प्रति क्विंटल है। उन्होंने बताया कि मंडी में चना समर्थन मूल्य पर खरीद तो हो रही है, लेकिन एक दिन में केवल एक-दो किसानों का चना ही खरीदा जा रहा है इसलिए मजबूरीवश किसानों को व्यापारियों को चना बेचना पड़ रहा है।

मध्य प्रदेश की इंदौर मंडी के चना कारोबारी मनोहर गुप्ता ने बताया कि मंडी में चना की दैनिक आवक 8 से 10 हजार क्विंटल की हो रही है। चना की समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए कांटे तो लग गए हैं, लेकिन खरीद सीमित मात्रा में हो रही है। मंडी में चना 3,900 से 4,000 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा है। उन्होंने बताया कि उम्मीद है आगे सरकारी खरीद में तेजी आयेगी। सतना मंडी के मसूर व्यापारी भानू जैन ने बताया कि मंडी में मसूर 3,800 से 4,000 रुपये प्रति क्विंटल बिक रही है जबकि केंद्र सरकार ने मसूर का समर्थन मूल्य 4,475 रुपये प्रति क्विंटल तय किया हुआ है।

नेफेड ने समर्थन मूल्य पर मात्र 38,000 टन चना खरीदा

नेफेड के अनुसार चालू रबी में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर 8 अप्रैल तक 38,177 टन चना की खरीद की है, इसमें सबसे ज्यादा 34,500 टन तेलंगाना से खरीद हुई है। उन्होंने बताया कि आगे मध्य प्रदेश के साथ ही राजस्थान से चना की खरीद समर्थन मूल्य पर खरीद में तेजी आयेगी, साथ ही मसूर की खरीद भी शुरू होगी।

खरीद का लक्ष्य ही कम

पीएम-आशा योजना के तहत केंद्र सरकार ने दलहन और तिलहन के कुल उत्पादन का 25 फीसदी तक खरीद करने का ऐलान किया था, लेकिन चालू रबी में मध्य प्रदेश से मसूर की खरीद कुल उत्पादन की केवल 15 फीसदी और चना की खरीद कुल उत्पादन का 22 फीसदी ही करने का लक्ष्य तय किया है। मध्य प्रदेश के कृषि निदेशालय के अनुसार चालू रबी में 11,06,00 टन मसूर के उत्पादन का अनुमान है जबकि समर्थन मूल्य पर खरीद का लक्ष्य 1,69,750 टन का तय किया है। इसी तरह से राज्य में चना के उत्पादन का अनुमान 52.17 लाख टन का है तथा खरीद का लक्ष्य केवल 11,48,750 टन का ही तय किया है।

पिछले साल से कम रखा है चना की खरीद का लक्ष्य

सूत्रों के अनुसार चालू रबी विपणन स ीजन 2018-19 में समर्थन मूल्य पर 22,24,823 टन चना की खरीद का लक्ष्य तय किया गया है जबकि पिछले रबी सीजन में एमएसपी पर 27.24 लाख टन खरीदा था। मसूर की खरीद का लक्ष्य चालू रबी में 2,81,165 टन का लक्ष्य तय किया है।

रिकार्ड उत्पादन का अनुमान

कृषि मंत्रालय के दूसरे आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2018-19 में दालों का रिकार्ड 240.2 लाख टन उत्पादन का अनुमान है जबकि पिछले साल देश में 239.5 लाख टन दालों का उत्पादन हुआ था।